Sunday, March 21, 2010

शेरशाह सूरी के घोड़े

मेरी स्मृति में
अब भी दौड़ते हैं
शेरशाह सूरी के घोड़े

घोड़ों की पीठ पर सवार जांबाज
जांबाज की पीठ पर कसा चमढ़े का थैला
चमढ़े के थैलों में भरी ढ़ेर सारी चिट्ठियां

जमीन पर सरपट दौड़ते ये घोड़े
जंगल-पहाड़-बीहड़ों को लांघते
नदी-तालाब-नालों को फांदते

जा पहुंचते है उस गांव में
जहाँ एक प्रेमिका न जाने कब से
बैठी है एक पत्र पाने के इंतजार में

पत्र पाते ही खिल जाता है
उसका मुरझाया हुआ चेहरा
बहने लगती है एक नदी
हरहराकर उसकी देह में

घोड़ों को वापिस लौटता देख
पूछती है मुमताजमहल
अपनी प्रिय सहेली से
ये घोड़े फिर कब लौटेंगे?

गोवर्धन यादव
103, कावेरी नगर, छिन्दवाड़ा (म0प्र0)
Post a Comment