Friday, March 26, 2010

पोस्टमैन

तन पर कोट डटा है, सिर पर खाकी साफा बांधे
चला आ रहा है लटकाए, झोला अपना कांधे
कितने पत्र पिताओं के हैं, माताओं के कितने
उतने यहां खड़े बालकगण, बाट जोहते जितने
सबका नाम पुकार वस्तुएं, सबकी सबको देता है
बदले में न किसी से भी, एक दाम है लेता।

हरिशचंद्र देव चातक
Post a Comment