Thursday, November 14, 2013

बाल दिवस पर डाक विभाग ने जारी किया डाक टिकट

बाल दिवस को यादगार बनाने हेतु प्रतिवर्ष की भांति इस बार भी भारतीय डाक विभाग द्वारा बालमन के अनुरूप 14 नवम्बर 2013 को एक स्मारक डाक टिकट जारी किया। इलाहाबाद परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि यह डाक टिकट प्रत्येक वर्ष डाक विभाग द्वारा आयोजित ’’डाक टिकट का डिजायन तैयार करें’’ प्रतियोगिता के आधार पर चयनित श्रेष्ठ पेंटिंग के आधार पर बनाया गया है। 

निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि चाचा नेहरू की जंयती के रूप में मनाया जाने वाला ’’बाल दिवस’’ बचपन के उत्साह और उमंग का उत्सव है। बाल दिवस हर बच्चे एवं बड़े को यह स्मरण कराने का दिवस है कि बच्चों को पूरी उन्मुक्तता के साथ बिना किसी बंधन के अपने बचपन को जीने और भविष्य में एक शिक्षित नागरिक बनने का अधिकार है। बाल्यावस्था में सीखे गए मूल्य और अनुशासन ही आगे चलकर हमारे व्यक्तित्व का आधार बनते हैं। इसी आधार पर यह डाक टिकट जारी किया गया है। 

श्री यादव ने बताया कि पिछले वर्ष डाक विभाग द्वारा आयोजित डाक टिकट डिजाइन प्रतियोगिता के आधार पर ’’अवकाश’’ थीम पर आधारित 5/- रूपये मूल्य वर्ग के इस डाक टिकट को भारत प्रतिभूति मुद्रणालय, नासिक द्वारा वेट आॅफसेट प्रक्रिया से 8.1 लाख की संख्या में मुद्रित किया गया है। यह डाक टिकट इलाहाबाद व वाराणसी स्थित फिलेटलिक ब्यूरो के साथ-साथ देश भर के सभी फिलेटलिक ब्यूरो व फिलेटलिक कांउटर्स पर उपलब्ध होगा। इसके साथ प्रथम आवरण व विवरिणका भी जारी की गयी है।







Post a Comment