Friday, August 8, 2014

वर्चुअल होते संबंधों के बीच सात समुद्र पार भी राखी का क्रेज़


राखी का अटूट बंधन देशों की सरहदें नहीं जानता, तभी तो आज भी भाई-बहन के बीच प्यार का प्रतीक रक्षाबंधन सरहदों की सीमाएं लांघ रहा है।  तमाम बहनों द्वारा विदेशों में अपने भाईयों को डाक के माध्यम से राखियाँ भेजी जा रही हैं ।  इलाहाबाद परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि इलाहाबाद परिक्षेत्र के डाकघरों से लोगों द्वारा अमेरिका, ब्रिटेन, जर्मनी, ऑस्ट्रेलिया, सिंगापुर, मारीशस, मलेशिया, पोलैंड, जापान, थाईलैंड, स्वीडन, स्विट्जरलैंड, डेनमार्क, कनाडा, संयुक्त अरब अमीरात व अन्य तमाम देशों में न सिर्फ डाक द्वारा रक्षाबंधन  भेजे जा रहे हैं, बल्कि विदेशों से आयी तमाम राखी-डाक भी  डाकियों द्वारा इस समय रोज वितरित की जा रही है।

डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि वर्चुअल होते संबंधों के बीच राखी का धागा आज भी अपनी अहमियत रखता है। यही कारण है कि रक्षाबंधन के समय डाकघरों में राखियाँ भेजने वालों की लंबी कतारें लगती हैं। (स्रोत : समाचार पत्र)
Post a Comment