Friday, October 10, 2014

राष्ट्रीय डाक सप्ताह’ के तहत मना ’बचत बैंक’ दिवस : सीबीएस से जुड़ने के बाद डाकघरों में लगेंगे एटीएम

भारतीय डाक विभाग द्वारा राष्ट्रीय डाक सप्ताह के तहत 10 अक्टूबर 2014 को बचत बैंक दिवस के रूप में मनाया गया। इसका उद्देश्य डाक विभाग की बचत योजनाओं के संबंध में लोगों को जागरूक करना एवं अधिकाधिक खाते खोल कर अधिकतम लोगों  तक अपनी भागीदारी सुनिश्चित करना रहा। इस संबंध में इलाहाबाद परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि नेटवर्क की दृष्टि से डाकघर बचत बैंक देश का सबसे बड़ा रीटेल बैंक है। वर्तमान में इलाहाबाद डाक परिक्षेत्र में साढ़े इकतालिस लाख से अधिक खाते डाकघरों में चल रहे हैं । बचत बैंक दिवस के दिन डाकघरों में 50 हजार से ज्यादा खाते खोले गये।

डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि डाक विभाग नवीन टेक्नोलाजी के द्वारा नित्य अपने ग्राहकों को अच्छी सेवा देने के लिए प्रतिबद्ध है और डाक विभाग की महत्वाकांक्षी परियोजना ’आईटी माडर्नाइजेशन प्रोजेक्ट-2012’ के तहत सीबीएस इस दिशा में एक मील का पत्थर साबित होगा। उन्हांेने कहा कि सीबीएस से जुड़ने के बाद जहाँं एनीव्हेयर एनीटाइम बैंकिग के तहत क्रमबद्ध रूप में धीरे-धीरे ग्राहकों को आन लाइन बैंकिंग, मोबाइल बैंकिंग, नेट बैंकिंग और एटीएम इत्यादि का लाभ मिल सकेगा वहीं ग्रामीण स्तर पर भी बैंकिंग क्षेत्रों में क्रान्तिकारी कदम का सूत्रपात होगा। श्री यादव ने बताया कि वर्तमान में इलाहाबाद परिक्षेत्र में कुल 19 डाकघर कोर बैंकिंग के तहत कार्य कर रहे हैं और अगले चरण हेतु 72 डाकघरों का माक माईग्रेशन किया जा चुका है। श्री यादव ने कहा कि परिक्षेत्र में पायलट फेज में इलाहाबाद प्रधान डाकघर, वाराणसी कैट प्रधान डाकघर व प्रतापगढ़ प्रधान डाकघरों में एटीएम सुविधा दी जायेगी। इसके बाद प्रथम फेज में इलाहाबाद कचेहरी, हंडिया, सिराथू एवं वाराणसी प्रधान डाकघर, भदोही के अलावा जौनपुर, मिर्जापुर व गाजीपुर प्रधान डाकघरों सहित कुल 11 डाकघरों में एटीएम लगाये जायेंगे। 

निदेशक डाक सेवाएं कृृष्ण कुमार यादव ने बताया कि डाकघरों में निवेश की तमाम योजनायें हैं, जिनमें बचत खाता, आवर्ती जमा, सावधि जमा, मासिक आय योजना, पी. पी. एफ., सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम एवं राष्ट्रीय बचत पत्र में निवेश किया जा सकता है। श्री यादव ने कहा कि डाक विभाग का उद्देश्य समावेशी विकास के तहत शहरों के साथ-साथ सुदूर ग्रामीण अंचल स्थित लोगों को भी डाक बचत योजनाओं के तहत लाना है। इसके तहत तमाम गांँवों को बचत बैंक ग्राम के तहत भी आच्छादित किया जा रहा है। ग्रामीण स्तर पर डाकघरों में मनरेगा एवं बी0 पी0 एल0 से सम्बन्धित खाते भी खोले जा रहे हंै। गौरतलब है कि डाकघर में बचत योजना में 4 प्रतिशत, आवर्ती जमा खाता में 8.30 प्रतिशत, मासिक आय योजना में 8.5 प्रतिशत, पी.पी.एफ. में 8.70 प्रतिशत और सावधि जमा योजना में 1 व 2 वर्षीय पर 8.2 प्रतिशत, 3 वर्षीय पर 8.3 प्रतिशत, 5 वर्षीय पर 8.40 ब्याज मिलता है। इसी प्रकार सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम में 9.20 प्रतिशत ब्याज है। 5 वर्षीय राष्ट्रीय बचत पत्र पर 8.50 प्रतिशत व 10 वर्षीय राष्ट्रीय बचत पत्र पर 8.80 प्रतिशत ब्याज देय है।



Post a Comment