Monday, December 29, 2014

Postal Life Insurance limit enhanced from 20 to 50 lakh Rs.

On the occasion of Good Governance day on 25 December, 2014 Department of Posts showcased some of the web based services which would be beneficial to the citizens of India. It participated in the exhibition organized by the Ministry of Communications & Information technology. The “India Post” pavilion showcased following initiatives:

(i) The usage of hand held device which would be used by village Postmaster. All types of transactions related to the services of Post will be offered through the wireless hand held device in rural post offices under the ongoing IT project.

(ii) My Stamp counter was set up where any individual who desires, can get customized stamp made which could also be used as postage.

(iii) The monitoring of mail transmission under MNOP (Mail Network Optimisation Project) and of Project Arrow Offices through web based tools was displayed.

(iv) The functioning of e-Post Office- a virtual Post Office where an individual can do postal transaction was also on display.

(v) A pilot connecting weavers of Varanasi with e-commerce was started at Varanasi and its portal was displayed in the exhibition in Delhi. Under the Pilot, Department of Posts and M/s Snapdeal, under the existing agreement of cooperation, will do hand holding of domestic manufacturers by helping them through post office in putting their products on the e-commerce platform. An ecommerce desk is set up in Varanasi Head Post Office where registration of weavers etc and uploading of their products would be facilitated. Management of orders received, payment processing, returns management would be done by Snapdeal. Packaging, if required, booking of articles and final delivery to online buyer would be undertaken by Department of Posts.

To mark the occasion the Minster of Communications &Information Technology Shri Ravi Shanker Prasad launched an e-Book and a pocket book on products and services of Department of Posts. He also announced the enhancement of maximum sum assured limit in Postal Life Insurance from 20 to 50 lakh rupees. Details are:

e-Book :

As part of the agenda to promote good governance through e-initiatives in the Department of Posts, an e-Book is being launched. This e-Book can be accessed directly on the India Post official website or by scanning a Quick Response (QR) Code Printed on a card. Details of the new initiatives of the Department of Posts, along with existing services are available on the e-Book.

e-Pocket Book :
In order to provide an easy to carry reference book containing the details of all products and services of the Department of Posts in hard form, a Pocket Book is also being launched. This would be available in all post offices and shall promote Good Governance by making details of services and their rates available to the common man, in a simple, reader friendly and pocket sized format.

Postal Life Insurance:
The present maximum sum assured limit in Postal Life Insurance is Rs. 20 lakh per individual. In order to give benefit of greater insurance to the customers, upper insurance limit has been enhanced from Rs. 20 lakh to Rs. 50 lakh.

Saturday, December 27, 2014

मोदी के वादे को पूरा करने में जुटा डाक विभाग

बनारसी साड़ियाँ पूरी दुनिया में अपनी खूबसूरत कारीगरी और सौंदर्य के लिए मशहूर हैं। इनके पीछे कारीगरों की  सबसे महत्वपूर्ण भूमिका होती है, पर पूरी श्रृंखला में सबसे उपेक्षित वहीँ हैं।  पिछली बार अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी के  दौरे के समय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने भी कारीगरों के इस दर्द को बखूबी व्यक्त किया था और उन्हें वाजिब पहचान और काम का यथोचित मूल्य दिलाने की बात कही थी। इसी के मद्देनजर डाक विभाग ने बनारसी साड़ी के बुनकरों को एक प्लेटफार्म मुहैया कराने हेतु मेसर्स स्नैपडील डॉट कॉम के सहयोग से एक आनलाइन पोर्टल की शुरुआत की है, जिसमें बुनकरों एवं फुटकर विक्रेताओं को सीधे उपभोक्ताओं के संपर्क में लाने के लिए प्लेटफार्म उपलब्ध कराया जाएगा। 'सुशासन दिवस' के अवसर पर 25 दिसंबर को इस सेवा का उद्घाटन वाराणसी प्रधान डाकघर में  पोस्टमास्टर जनरल कर्नल एस. एफ. रिज़वी एवं इलाहाबाद परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएं कृष्ण कुमार यादव द्वारा किया गया।  डाक विभाग की इस अनूठी पहल को प्रिंट और इलेक्ट्रानिक मीडिया ने भी हाथों-हाथ लिया और व्यापक कवरेज दी ............. सभी का हार्दिक आभार !!

Thursday, December 25, 2014

Online Portal for sale of Banarasi Sarees in association with snapdeal inaugurated at Varanasi

India post will make available online plateform for the weaver to sell Banarasi Saree so that their skills can be appreciated and they can get competitive price for their efforts. A function was organized in New Delhi where the  Minister of Communications  and IT Mr. Ravi Shankar Prasad formally inaugurated the online portal of This facility has commenced in the presence of the chief guest of the programme Post Master General of Allahabad Region Col. S F Rizvi at Varanasi Head Post Office in Visheshwarganj. This programme was presided by Mr. Krishna Kumar Yadav Director Postal services.

On this auspicious occasion Col. S.F Rizvi PMG Allahabad said that the Department of Posts has started an online portal in association with leading e-commerce group to sell Banarasi Sarees online. This is an ambitious scheme of the department of Posts and the foremost aim and intention of the department is to enable the weavers of Varanasi to reach the customers directly and thereby get a competitive price for their products, and also improve its availability in different parts of the country using the network of the India Post. Speed Post service of India post will make sure that it reaches to the customers safely and swiftly. Shri Rizvi has said that under this scheme any weaver or firms can get themselves registered at the Varanasi Head Post Office for online sales.

Mr.  Krishna Kumar Yadav, Director Postal Service, Allahabad Region has said that the online sell of world famous Banarasi  sarees will help bring the skills of the weaver at the international level. This will help bring better income to the weavers and also much needed respect. The registered firms/weavers will arrive at a price of their product in association with Snapdeal; they will get their product listed along with the pictures of the product on the website of the snapdeal so that people can shop online from anywhere. This will help in ordering of the products online by the customers both from India and abroad on pre- payment .This will improve the accessibility and availability of Banarasi sarees to every common person and also enhance the reputation of Varanasi.

Senior Superintendent of Post offices Varanasi (East) Division Mr.  Raj Kishore,  welcomed all guests on this occasion. He said that Varanasi is a spiritual and cultural city. This scheme will help give a boost to the sale of Banarasi Sarees and new recognition to the weavers of Varanasi.

On this occasion Supdt. Of Posts West Dn. Mr. H.G. Verma, Sr. Postmaster Varanasi HO Mr.  OP Singh along with other officers and officials of the Department were present to welcome the registered firms weavers along with representatives of . 

डाक विभाग की पहल : सुशासन दिवस पर शुरू की गयी बनारस के बुनकरों को देश भर से ऑनलाइन जोड़ने की योजना

डाक विभाग बनारसी साड़ी के बुनकरों को अपने उत्पादों की बिक्री के लिए ऑनलाइन प्लेटफार्म मुहैया कराएगा ताकि उनके काम की सराहना हो और उन्हें अपनी मेहनत का वाजिब मूल्य भी मिल सके। पिछले दिनों प्रधानमंत्री मोदी जी ने भी बनारस में ऐसी ही इच्छा व्यक्त की थी। इस सेवा का शुभारम्भ 25 दिसम्बर, 2014 को 'सुशासन दिवस' दिवस के अवसर पर विशेश्वरगंज स्थित वाराणसी प्रधान डाकघर में मुख्य अतिथि के रूप में इलाहाबाद क्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल श्री एस० एफ०रिज़वी द्वारा,श्री कृष्ण कुमार यादव निदेशक डाक सेवाएं इलाहाबाद क्षेत्र की अध्यक्षता में आयोजित एक कार्यक्रम में किया गया। इससे पूर्व दिल्ली में आयोजित एक कार्यक्रम में संचार एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री श्री रविशंकर प्रसाद ने ऑनलाइन पोर्टल को औपचारिक रूप से लांच किया, जिसके पश्चात् वाराणसी प्रधान डाकघर में पोस्टमास्टर जनरल इलाहाबाद एवं डाक निदेशक ने ऑनलाइन आर्डर द्वारा बुक की गयी प्रथम वाराणसी साडी को यहाँ से स्पीड पोस्ट द्वारा बुक करा कर इसके क्रियान्वयन के शुभारम्भ की घोषणा की।

इस अवसर पर श्री एस०एफ० रिज़वी, पोस्टमास्टर जनरल इलाहाबाद क्षेत्र ने कहा कि डाक विभाग द्वारा बनारसी साड़ी के विक्रय हेतु मेसर्स स्नैपडील डॉट कॉम के सहयोग से एक आनलाइन पोर्टल की शुरुआत की गई है, जिसमें बुनकरों एवं फुटकर विक्रेताओं को सीधे उपभोक्ताओं के संपर्क में लाने के लिए प्लेटफार्म उपलब्ध कराया गया है। यह डाक विभाग की एक महत्वाकांक्षी योजना है और इस योजना का उद्देश्य बुनकरों/कलाकारों  को अधिक से अधिक लाभ दिलाना एवं उपभोक्ताओं को उचित कीमत पर वास्तविक वस्तु को देश के किसी भी कोने में, डाक विभाग के व्यापक नेटवर्क का उपयोग कर, वितरण सुनिश्चित करना है।स्पीड पोस्ट से भेजने पर त्वरित और सुनिश्चित वितरण की गारंटी रहेगी। श्री रिजवी ने कहा कि इस योजना के अंतर्गत कोई भी व्यक्ति या फर्म बनारसी साड़ी व अन्य सम्बंधित उत्पादों  के ऑनलाइन विक्रय हेतु वाराणसी प्रधान डाकघर में अपने आपको पंजीकृत करा सकता है। 

इस अवसर पर इलाहाबाद परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएँ श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि विश्व प्रसिद्ध बनारसी साड़ियों के ऑनलाइन व्यवसाय से काशी के साड़ी बुनकरों की कला अंतर्राष्ट्रीय फलक पर उभर कर सामने आएगी, जिससे आर्थिक समृद्धि के साथ ही साड़ी बुनकरों की प्रतिभा को भी सम्मान मिलेगा। श्री यादव ने कहा कि पंजीकृत व्यक्ति/फर्म स्नैपडील डॉट कॉम के साथ मिलकर वस्तु का विक्रय मूल्य तय करेंगे एवं विक्रय हेतु वस्तु का विवरण (फोटोग्राफ एवं वस्तु के मूल्य सहित) स्नैपडील डॉट कॉम वेबसाइट पर उपलब्ध कराया जाएगा। जिससे देश-विदेश के किसी भी कोने में बैठा व्यक्ति उक्त वेबसाइट के माध्यम से अपने पसंद की बनारसी साड़ी हेतु अग्रिम भुगतान कर आनलाइन आर्डर कर सकेगा।इससे बनारसीसाड़ियों की पहुँच जहाँ सहजता से सब तक हो सकेगी वहीँ बनारस की ख्याति में भी इजाफा होगा।

अतिथियों का स्वागत करते हुए प्रवर अधीक्षक डाकघर, वाराणसी पूर्वी मंडल श्री राजकिशोर ने कहा कि बनारस भारत की आध्यत्मिक एवं सांस्कृतिक राजधानी है और इस महत्वाकांक्षी योजना के शुरू होने से बनारसी साड़ियों की विश्व बाजार में मजबूत पैठ बनेगी।

इस अवसर पर अधीक्षक डाकघर, वाराणसी पश्चिम मंडल श्री एच० जी० वर्मा; सीनियर पोस्टमास्टर, वाराणसी प्रधान डाकघर, ओ० पी० सिंह, सहित डाक विभाग के तमाम अधिकारी कर्मचारी, स्नेपडील डॉट कॉम के प्रतिनिधि, पंजीकृत फर्मों के मालिक, बुनकर आदि लोग उपस्थित रहे।