Monday, April 20, 2015

जोधपुर प्रधान डाकघर में सुकन्या समृद्धि योजना के लिये आयोजित हुआ मेला


आज का दौर बेटियों का है। बेटियांँ समाज में नित नये मुकाम हासिल कर रही हैं। बेटियों की समृद्धि और खुशहाली में ही समाज का भविष्य टिका हुआ है। इसीलिए बेटियों की उच्च शिक्षा और उनके विवाह में सुविधा के लिए डाकघरों में सुकन्या समृद्धि योजना आरंभ की गयी है। उक्त उद्गार राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र में चल रहे  सुकन्या समृद्धि योजना मेलों के क्रम में निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव ने प्रधान डाकघर जोधपुर में सुकन्या समृद्धि योजना के लिये आयोजित मेले में 18 अप्रैल को व्यक्त किये। 


प्रधान डाकघर जोधपुर में आयोजित कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में अपने संबोधन में राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर के निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा  कि सामान्यतया यह स्कीम 10 साल तक की बच्चियों के लिए है, पर अधिकाधिक लोगों को इससे जोड़ने हेतु फिलहाल यह उपबंध किया गया है कि 1 दिसंबर 2015 तक खाते उन बच्चियों के नाम भी खोले जा सकते हैं जिनका जन्म 3 दिसंबर, 2003 को या उसके बाद हुआ हो।  मात्र सौ रूपये प्रतिमाह जमा करके इस योजना से जुड़ा जा सकता है। इसमें एक वित्तीय वर्ष में न्यूनतम 1,000 और अधिकतम डेढ़ लाख रूपये तक जमा किये जा सकते हंै। इस योजना में खाता खोलने से मात्र 14 वर्ष तक धन जमा कराना होगा। डाक निदेशक श्री यादव ने कहा कि इस पर सरकार ने ब्याज 9.1 से बढाकर 9.2 प्रतिशत कर दिया है और जमा धनराशि में आयकर छूट का भी प्राविधान है। 

इस दौरान ऑनस्पॉट कुल 1000 बालिकाओं के खाते खोले गये। इन सभी को निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव ने पासबुकें देकर उनके सुखी व समृद्ध भविष्य की कामना की।

इस अवसर पर जोधपुर प्रधान डाकघर के सीनियर पोस्टमास्टर श्री हेमराज राठौड़ ने बताया कि खाता खोलने के लिए बालिका का जन्म प्रमाणपत्र, अभिभावक का फोटोग्राफ, जमाकर्ता की पहचान और आवासीय प्रमाण से संबंधित दस्तावेज जरूरी है।

स्वागत संभाषण  सीनियर पोस्टमास्टर श्री हेमराज राठौड़ द्वारा, आभार ज्ञापन अनिल कौशिक द्वारा एवं कार्यक्रम का संचालन सहायक डाक अधीक्षक श्री रामलाल मुण्ड द्वारा किया गया। इस अवसर पर सहायक निदेशक कानसिंह राजपुरोहित, तरूण कुमार शर्मा, सहायक डाक अधीक्षक, सुदर्शन सामरिया, राजेन्द्र सिंह भाटी  निरीक्षक डाकघर भी उपस्थित रहे।


Post a Comment