Sunday, February 28, 2016

राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर में 22 एटीएम हुए आरम्भ, डाक निदेशक केके यादव ने मारवाड़ जंक्शन प्रधान डाकघर में एटीएम का किया उद्घाटन


डाकघर से जुड़े उपभोक्ताओं के लिए पाली मंडल के मारवाड़ जंक्शन प्रधान डाकघर में बहुप्रतीक्षित एटीएम सेवा शनिवार से शुरू हो गई।  प्रधान डाकघर प्रांगण में लगे एटीएम का उद्घाटन राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर  के निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव ने 27 फरवरी को किया। 

इस अवसर पर निदेशक डाक सेवाएँ श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि आई. टी. मॉडर्नाइजेशन के तहत सभी डाकघरों को कोर बैंकिंग (सीबीएस) से जोड़ा जा रहा है, आने वाले दिनों में नेट बैंकिंग, मोबाइल बैंकिंग एवं एटीएम सुविधाओं का डाकघरों में भी लाभ उठा सकेंगे। पाली मंडल के सभी 54 डाकघरों को सीबीएस से जोड़ा जा चुका है। वर्तमान परिदृश्य  में बैंकिंग प्रणाली में ए.टी.एम. सुविधा ने आमजन की प्रमुख एवं प्रथम आवश्यकता  का रूप धारण कर लिया है, इसी के मद्देनजर पाली प्रधान डाकघर, मारवाड जंक्शन प्रधान डाकघर और सुमेरपुर डाकघर में एटीएम सेवा आरम्भ की गई है। गौरतलब है कि मार्च 2016 तक राजस्थान परिमंडल में 64 और राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर में 24 एटीएम आरम्भ करने का लक्ष्य है, जिसके तहत पूरे राजस्थान में 58 और इनमें से 22 एटीएम राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर में कार्य करना आरम्भ कर चुके हैं। 


  एटीएम सेवा का शुभारम्भ करते हुए निदेशक डाक सेवाएँ श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि इसके बाद डाकघरों में बचत खाता रखने वाले लोग भी अब डेबिट कार्ड का इस्तेमाल कर सकेंगे और बैंकों की तर्ज पर किसी भी डाकघर से लेन.देन और एटीएम सुविधा का उपयोग हो सकेगा। रकम निकासी के साथ ग्राहक अपना स्टेटमेंट भी ले सकेंगे।  उन्होंने कहा कि आरम्भिक तौर पर इस एटीएम का इस्तेमाल डाकघरों के खाताधारक ही कर सकेंगे।  इस एटीएम से एक दिन में 25 हजार रूपये और एक बार में 10 हजार रूपये निकालने की सुविधा होगी।  इस पर किसी प्रकार का निकासी शुल्क नहीं लगेगा।  मात्र 50 रूपयेे में बचत खाता खुलवाकर एटीएम सेवा का लाभ लिया जा सकता है।  

निदेशक डाक सेवाएँ श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि डाक विभाग का उद्देश्य समावेशी विकास के तहत शहरों के साथ-साथ सुदूर ग्रामीण अंचल स्थित लोगों को भी सेवाओं का त्वरित लाभ पहुँचाना है। आने वाले दिनों में ग्रामीण डाक सेवकों सहित विभाग के सभी कर्मचारियों को सूचना प्रौद्योगिकी के माहौल में प्रभावकारी तरीके से कार्य करने के लिए तैयार करना है। इसी क्रम में ग्रामीण शाखा डाकघरों को भी तकनीकी तौर पर दक्ष बनाने के उद्देश्य से ग्रामीण आईसीटी के तहत  हाईटेक किया जायेगा और वहाँ पर नेटबुक व हैण्डहेल्ड डिवाइस भी दिया जायेगा। शाखा डाकघरों को सोलर चार्जिंग उपकरणों से जोडने के साथ-साथ मोबाइल थर्मल प्रिन्टर, स्मार्ट कार्ड रीडर, फिंगर प्रिन्ट स्कैनर, डिजिटल कैमरा एवं सिगनेचर व दस्तावेज स्कैनिंग के लिये यन्त्र भी मुहैया कराया जायेगा ताकि ग्रामीण लोगों को इन सुविधाओं के लिये शहरों की तरफ न भागना पडे।

इस अवसर पर पाली  मंडल के डाक अधीक्षक श्री डी.आर. सुथार  ने बताया कि खाताधारकों को एटीएम की सुविधा लेने हेतु एटीएम कार्ड आवेदन फार्म भरकर जमा कराना होगा। इसमें केवाईसी और  नो योर कस्टमर के तहत खाता संख्या से जुड़े दस्तावेज, पहचानपत्र व घर के पते की प्रमाणित प्रति भी उपलब्ध करानी होगी। उन्होंने कहा कि डाकघरों में निवेश की तमाम योजनायें हैं, जिनमें बचत खाता, आवर्ती जमा, सावधि जमा, मासिक आय योजना, पी. पी. एफ., सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम, सुकन्या समृद्धि योजना एवं  राष्ट्रीय बचत पत्र व किसान विकास पत्र में निवेश किया जा सकता है। 


मारवाड़ जंक्शन  प्रधान डाकघर के पोस्टमास्टर श्री लक्ष्मण नाथ ने इस अवसर पर डाक निदेशक, अधीक्षक और अन्य अतिथियों का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि  प्रधान डाकघर में  27 हजार से ज्यादा बचत खाते संचालित हो रहे हैं  और एटीएम सेवा आरम्भ होने के बाद ग्राहकों की संख्या और बढेगी।

डाक मेले में बचत, बीमा, सुकन्या समृद्धि, अटल पेंशन सहित तमाम सेवाओं की दी गई जानकारी

डाक सेवाओं के व्यापक प्रचार-प्रसार और लोगों में जागरूकता पैदा करने के उद्देश्य से राजस्थान के पाली जनपद मुख्यालय पर पाली प्रधान डाकघर परिसर में 27 फरवरी, 2016 को डाक मेले का आयोजन किया गया।  उक्त अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में  राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर के निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव ने लोगों को सम्बोधित करते हुए कहा कि  व्यावसायिकता के इस दौर में बिना प्रतिस्पर्धा के कोई भी संगठन उन्नति नहीं कर सकता और डाक विभाग भी इस क्षेत्र में तमाम नये कदम उठा रहा है। अपने को एक व्यावसायिक और उत्तरदायी संगठन में तब्दील करने और अपनी सेवाओं को ग्राहकों के लिए और विविधतापूर्ण, गुणवत्तापूर्ण और तत्पर सेवा में बदलने की पहल के तहत डाकघरों को ऐसी जगह के रूप में विकसित किया जा रहा है, जहाँ ग्राहकों को एक ही जगह पर जनोपयोगी सेवाएँ मिल सकें और आम आदमी को अपने दरवाजे पर ही आसानी से और सस्ती सेवाएँ प्रदान की जा सकें। इसके लिए डाक सम्प्रेषण प्रणाली में आवश्यकतानुसार परिवर्तन के साथ डाक सेवाओं को आधुनिकतम टेक्नालजी और आई. टी. से जोड़ा जा रहा है। 

  डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि डाक विभाग सिर्फ चिट्ठी-पत्री और मनीऑर्डर ही नहीं बाँटता बल्कि बचत और बीमा सेवाओं से भी लम्बे समय से जुड़ा हुआ है। आई. टी. मॉडर्नाइजेशन के तहत सभी डाकघरों को कोर बैंकिंग (सीबीएस) से जोड़ा जा रहा है, आने वाले दिनों में नेट बैंकिंग, मोबाइल बैंकिंग एवं एटीएम सुविधाओं का डाकघरों में भी लाभ उठा सकेंगे। पाली मंडल के सभी 54 डाकघरों को सीबीएस से जोड़ा जा चुका है और पाली प्रधान डाकघर, मारवाड जंक्शन प्रधान डाकघर और सुमेरपुर डाकघर में एटीएम सेवा भी आरम्भ हो चुकी है। 

श्री यादव ने कहा कि आने वाले दिनों में ग्रामीण डाक सेवकों सहित विभाग के सभी कर्मचारियों को सूचना प्रौद्योगिकी के माहौल में प्रभावकारी तरीके से कार्य करने के लिए तैयार करना है। इसी क्रम में ग्रामीण शाखा डाकघरों को भी तकनीकी तौर पर दक्ष बनाने के उद्देश्य से ग्रामीण आईसीटी के तहत  हाईटेक किया जायेगा और वहाँ पर नेटबुक व हैण्डहेल्ड डिवाइस भी दिया जायेगा। शाखा डाकघरों को सोलर चार्जिंग उपकरणों से जोडने के साथ-साथ मोबाइल थर्मल प्रिन्टर, स्मार्ट कार्ड रीडर, फिंगर प्रिन्ट स्कैनर, डिजिटल कैमरा एवं सिगनेचर व दस्तावेज स्कैनिंग के लिये यन्त्र भी मुहैया कराया जायेगा ताकि ग्रामीण लोगों को इन सुविधाओं के लिये शहरों की तरफ न भागना पडे।




डाक विभाग की योजनाओं की चर्चा करते हुए डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि डाक विभाग का उद्देश्य समावेशी विकास के तहत शहरों के साथ-साथ सुदूर ग्रामीण अंचल स्थित लोगों को भी इन सभी योजनाओं के तहत लाना है। 10 साल तक की बालिकाओं के लिए आरम्भ सुकन्या समृद्धि योजना की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि इससे बालिकाओं का आर्थिक सशक्तिकरण होगा और उनकी उच्च शिक्षा और  विवाह में काफी सुविधा होगी। देश में मुख्यधारा से वंचित लोगों व उनके परिवारों को आर्थिक सुरक्षा प्रदान करने के उद्देश्य से आरम्भ अटल पेंशन योजना, प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना एवं प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना के सफलतापूर्वक क्रियान्वयन में भी डाकघरों द्वारा एक मुख्य व सक्रिय भूमिका का निर्वहन किया जा रहा है। पाली प्रधान डाकघर में ई-मित्र की सेवाएं भी दी जा रही हैं। 


 इस अवसर पर  डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने विभाग के पोस्टमास्टरों से रूबरू होते हुए कहा कि फील्ड में  उनकी और पोस्टमैन की कार्य गतिविधियाँ ही विभाग के प्रति लोगों की अवधारणा (इमेज) बनाती हैं, ऐसे में उन्हें ग्राहकों के प्रति ज्यादा संवेदनशील होने की जरुरत है। आज के प्रतियोगी दौर में यह सोचना कि मात्र काउंटर पर सेवाएँ देकर जनता को आकर्षित किया जा सकता है, उचित नहीं है। ज्यादा राजस्व के लिए हमें खुद लोगों के पास जाना होगा, नियमित संवाद स्थापित करते हुए उन्हें सेवाओं और गुणवत्ता के बारे में जागरूक करना होगा, तभी लक्ष्यों की प्राप्ति हो सकेगी।

पाली मंडल के डाक अधीक्षक श्री डी.आर. सुथार ने इस अवसर पर कहा कि डाक विभाग अपने ग्राहकों को बेहतर सेवा देने के लिए तत्पर है और इस दिशा में लोगों से समय-समय पर संवाद के साथ-साथ विभाग ने अपनी सेवाओं के व्यापक प्रचार-प्रसार पर भी जोर दिया है। उन्होंने कहा कि डाकघरों में निवेश की तमाम योजनायें हैं, जिनमें बचत खाता, आवर्ती जमा, सावधि जमा, मासिक आय योजना, पी.पी.एफ., वरिष्ठ नागरिक बचत योजना, सुकन्या समृद्धि योजना एवं राष्ट्रीय बचत पत्र व किसान विकास पत्र में निवेश किया जा सकता है। डाक जीवन बीमा में 50 लाख और ग्रामीण डाक जीवन बीमा में 20 लाख रूपये तक का जीवन बीमा कराया जा सकता है। 

इस अवसर पर लोगों ने तमाम बचत योजनाओं, डाक जीवन बीमा, ग्रामीण डाक जीवन बीमा, सुकन्या समृद्धि सहित तमाम योजनाओं का फायदा उठाया और नए खाते खोले। निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव ने इस अवसर पर सुकन्याओं को मंच पर पासबुकें दे कर उनके सुखी व समृद्ध भविष्य की कामना की।

  कार्यक्रम में अतिथियों का स्वागत पाली डाकघर के पोस्टमास्टर श्री सी. डी. सोनी, आभार ज्ञापन सहायक डाक अधीक्षक श्री संग्राम भंसाली और संचालन जे. आर. सेंगर ने किया। इस अवसर पर क्षेत्रीय कार्यालय से सहायक डाक अधीक्षक श्री पुखराज राठौड, डाक निरीक्षक श्री राजेन्द्र सिंह भाटी, सहित तमाम अधिकारी, कर्मचारी, बचत अभिकर्तागण व नागरिक उपस्थित रहे।


Saturday, February 27, 2016

माई स्टैम्प की सुविधा अब जोधपुर क्षेत्र के 16 डाकघरों में उपलब्ध




डाक टिकट पर अभी तक आपने गांधी, नेहरू या ऐसे ही किसी महान विभूति की फोटो देखी होगी। पर अब डाक टिकट पर आप की फोटो भी हो सकती है और ऐसा संभव है डाक विभाग की ’’माई स्टैम्प’’ सेवा के तहत। उक्त जानकारी राजस्थान के पाली जिले स्थित प्रधान डाकघर में 27 फरवरी, 2016 को माई स्टैम्प’’ सेवा का शुभारम्भ करते हुए राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर के निदेशक डाक सेवाएं कृष्ण कुमार यादव ने दी। श्री यादव ने कहा कि आज की युवा पीढ़ी के बीच सेल्फी का क्रेज खूब बढ़ रहा है, ऐसे में उनकी सेल्फ़ी  भी माई स्टैम्प के तहत  डाक टिकट पर स्थान पा सकती है।  किसी को उपहार देने का इससे नायब तरीका शायद ही हो। अब आप इसे चाहें अपने परिवारजनों को दें, मित्रों को या फिर अपने किसी करीबी को। आप किसी से बेशुमार प्यार करते हैं, तो इस प्यार को बेशुमार दिखाने का भी मौका है। जन्मदिन से लेकर विवाह और जीवन की  तमाम खुशियों के पलों को माई स्टैम्प पर लाया जा सकता है। इस अवसर पर श्री यादव ने तमाम लोगों को माई स्टैम्प की शीट अपने हाथों से देकर प्रोत्साहित किया। 

डाक विभाग की माई स्टैम्प सेवा के सम्बन्ध में  निदेशक डाक सेवाएं कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि इस हेतु सम्बंधित डाकघर में एक फार्म भरकर उसके साथ अपनी फोटो और 300 रुपये जमा करने होते हैं। एक शीट में कुल 12 डाक-टिकटों के साथ फोटो लगाई जा सकती है।  पाँंच रुपए के डाक-टिकट, जिस पर आपकी तस्वीर होगी, वह देशभर में कहीं भी भेजी जा सकती है। इस पर सिर्फ जीवित व्यक्तियों की ही तस्वीर लगाई जा सकती है।

डाक निदेशक कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि माई स्टैम्प की थीम फिलहाल आकर्षक पर्यटन स्थलों और खूबसूरत फूलों पर आधारित रखी गई है। इनमें फ़िलहाल हवा महल और फूलों की थीम के साथ यह उपलब्ध कराया जा रहा है।  राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र में कुल 16 डाकघरों -  जोधपुर, जैसलमेर, पाली, नागौर, बीकानेर, बाड़मेर, सीकर,  सिरोही, जालौर, झुंझुनू, चिडावा, श्री गंगानगर, हनुमानगढ़, चुरू, रतनगढ़  प्रधान डाकघरों और माउंट आबू उपडाकघर में माई स्टैम्प सेवा उपलब्ध है। उन्होंने कहा कि 2 से 100 शीटलेट्स की खरीद पर 10  प्रतिशत छूट और 100 से ज्यादा शीटलेट्स की खरीद पर 20 प्रतिशत छूट भी उपलब्ध कराई जाएगी। ऐसे स्कूल-कॉलेज या संस्थान जो अपने यहाँ बल्क में लोगों की माई स्टैम्प बनवाना चाहते हैं, ऐसे संस्थान प्रधान डाकघर के पोस्टमास्टर या अधीक्षक से संपर्क कर सकते है। 

श्री यादव ने  कहा कि लोगों को डाक टिकटों और पत्रों की दुनिया से जोड़ने हेतु कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे। डाक टिकटों के संग्रह अर्थात फिलेटली के प्रति स्कूली बच्चों और युवाओं में अभिरुचि विकसित करने पर भी जोर दिया जायेगा। मात्र 200 रूपये में लोग फिलेटलिक डिपाजिट एकाउंट खुलवा सकते हैं, जिसके तहत उन्हें घर बैठे नई डाक टिकटें रजिस्टर्ड पत्र द्वारा हर माह प्राप्त होंगी। 

इस अवसर पर  पाली मंडल के डाक अधीक्षक श्री डी.आर. सुथार, पाली डाकघर के पोस्टमास्टर श्री सी. डी. सोनी, सहायक डाक अधीक्षक श्री संग्राम भंसाली , क्षेत्रीय कार्यालय से सहायक डाक अधीक्षक श्री पुखराज राठौड, डाक निरीक्षक श्री राजेन्द्र सिंह भाटी, सहित तमाम अधिकारी, कर्मचारी, डाक टिकट संग्राहक  व स्कूली बच्चे उपस्थित रहे।












Friday, February 26, 2016

नागौर प्रधान डाकघर में एटीएम सेवा का डाक निदेशक कृष्ण कुमार यादव ने किया शुभारम्भ

डाक विभाग सिर्फ चिट्ठी-पत्री और मनीऑर्डर ही नहीं बाँटता बल्कि बचत और बीमा सेवाओं से भी लम्बे समय से जुड़ा हुआ है। आई. टी. मॉडर्नाइजेशन के तहत सभी डाकघरों को कोर बैंकिंग (सीबीएस) से जोड़ा जा रहा है, आने वाले दिनों में नेट बैंकिंग, मोबाइल बैंकिंग एवं एटीएम सुविधाओं का डाकघरों में भी लाभ उठा सकेंगे। नागौर के 59 डाकघरों को  कोर बैंकिंग से जोडा जा चुका है। वर्तमान परिदृष्य में बैंकिंग प्रणाली में ए.टी.एम. सुविधा ने आमजन की प्रमुख एवं प्रथम आवष्यकता का रूप धारण कर लिया है, इसी के मद्देनजर राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र में कुल 22 एटीएम आरंभ हो चुके हैं, जिनमें नागौर डाक मंडल के नागौर, डीडवाना और मकराना स्थित तीन एटीएम शामिल हैं। उक्त उद्गार 26 फरवरी को नागौर प्रधान डाकघर में एटीएम का उद्घाटन करते हुये राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर के निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव ने व्यक्त किए। इस अवसर पर डाकघर प्रांगण में आयोजित डाक मेले का भी निदेशक श्री यादव ने शुभारम्भ किया और लोगों से रूबरू हुए।


   


कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि व्यवसायिकता के इस दौर में बिना प्रतिस्पर्धा के कोई भी संगठन उन्नति नहीं कर सकता और डाक विभाग भी इस क्षेत्र में तमाम नये कदम उठा रहा है। अपने को एक व्यावसायिक और उत्तरदायी संगठन में तब्दील करने और अपनी सेवाओं को ग्राहकों के लिए और विविधतापूर्ण, गुणवत्तापूर्ण और तत्पर सेवा में बदलने की पहल के तहत डाकघरों को ऐसी जगह के रूप में विकसित किया जा रहा है, जहाँ ग्राहकों को एक ही जगह पर जनोपयोगी सेवाएँ मिल सकें और आम आदमी को अपने दरवाजे पर ही आसानी से और सस्ती सेवाएँ प्रदान की जा सकें। इसके लिए डाक सम्प्रेषण प्रणाली में आवश्यकतानुसार परिवर्तन के साथ डाक सेवाओं को आधुनिकतम टेक्नालजी और आई. टी. से जोड़ा जा रहा है। श्री यादव ने कहा कि आने वाले दिनों में ग्रामीण डाक सेवकों सहित विभाग के सभी कर्मचारियों को सूचना प्रौद्योगिकी  के माहौल में प्रभावकारी तरीके से कार्य करने के लिए तैयार करना है। इसी क्रम में ग्रामीण शाखा डाकघरों को भी तकनीकी तौर पर दक्ष बनाने के उद्देश्य से ग्रामीण आईसीटी के तहत  हाईटेक किया जायेगा और वहाँ पर नेटबुक व हैण्डहेल्ड डिवाइस भी दिया जायेगा। शाखा डाकघरों को सोलर चार्जिंग उपकरणों से जोडने के साथ-साथ मोबाइल थर्मल प्रिन्टर, स्मार्ट कार्ड रीडर, फिंगर प्रिन्ट स्कैनर, डिजिटल कैमरा एवं सिगनेचर व दस्तावेज स्कैनिंग के लिये यन्त्र भी मुहैया कराया जायेगा ताकि ग्रामीण लोगों को इन सुविधाओं के लिये शहरों की तरफ न भागना पडे।

डाक विभाग की योजनाओं की चर्चा करते हुए डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि डाक विभाग का उद्देश्य समावेशी विकास के तहत शहरों के साथ-साथ सुदूर ग्रामीण अंचल स्थित लोगों को भी इन सभी योजनाओं के तहत लाना है। 10 साल तक की बालिकाओं के लिए आरम्भ सुकन्या समृद्धि योजना की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि इससे बालिकाओं का आर्थिक सशक्तिकरण होगा और उनकी उच्च शिक्षा और  विवाह में काफी सुविधा होगी। देश में मुख्यधारा से वंचित लोगों व उनके परिवारों को आर्थिक सुरक्षा प्रदान करने के उद्देश्य से आरम्भ अटल पेंशन योजना, प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना एवं प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना के सफलतापूर्वक क्रियान्वयन में भी डाकघरों द्वारा एक मुख्य व सक्रिय भूमिका का निर्वहन किया जा रहा है। नागौर प्रधान डाकघर में ई-मित्र की सेवाएं भी दी जा रही हैं। नागौर प्रधान डाकघर में डाक विभाग की “माई स्टैम्प“ सेवा के तहत  हर कोई मात्र 300 रूपये में अपनी और अपने प्रियजनों की फोटो डाक टिकट पर लगवा सकता है। 

डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने विभाग के पोस्टमास्टरों से रूबरू होते हुए कहा कि फील्ड में  उनकी और पोस्टमैन की कार्य गतिविधियाँ ही विभाग के प्रति लोगों की अवधारणा (इमेज) बनाती हैं, ऐसे में उन्हें ग्राहकों के प्रति ज्यादा संवेदनशील होने की जरुरत है। आज के प्रतियोगी दौर में यह सोचना कि मात्र काउंटर पर सेवाएँ देकर जनता को आकर्षित किया जा सकता है, उचित नहीं है। ज्यादा राजस्व के लिए हमें खुद लोगों के पास जाना होगा, नियमित संवाद स्थापित करते हुए उन्हें सेवाओं और गुणवत्ता के बारे में जागरूक करना होगा, तभी लक्ष्यों की प्राप्ति हो सकेगी।

नागौर मंडल के कार्यवाहक डाक अधीक्षक श्री एस॰ एस॰ शेखावत ने इस अवसर पर कहा कि डाक विभाग अपने ग्राहकों को बेहतर सेवा देने के लिए तत्पर है और इस दिशा में लोगों से समय-समय पर संवाद के साथ-साथ विभाग ने अपनी सेवाओं के व्यापक प्रचार-प्रसार पर भी जोर दिया है। उन्होंने कहा कि डाकघरों में निवेश की तमाम योजनायें हैं, जिनमें बचत खाता, आवर्ती जमा, सावधि जमा, मासिक आय योजना, पी.पी.एफ., वरिष्ठ नागरिक बचत योजना, सुकन्या समृद्धि योजना एवं राष्ट्रीय बचत पत्र व किसान विकास पत्र में निवेश किया जा सकता है। डाक जीवन बीमा में 50 लाख और ग्रामीण डाक जीवन बीमा में 20 लाख रूपये तक का जीवन बीमा कराया जा सकता है।

इस अवसर पर लोगों ने तमाम बचत योजनाओं, डाक जीवन बीमा, ग्रामीण डाक जीवन बीमा, सुकन्या समृद्धि सहित तमाम योजनाओं का फायदा उठाया और नए खाते खोले। निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव ने इस अवसर पर तमाम लोगों को मंच पर पासबुकें दे कर उनके सुखी व समृद्ध भविष्य की कामना की। कार्यक्रम में अतिथियों का स्वागत नागौर डाकघर के पोस्टमास्टर श्री निम्बाराम, आभार ज्ञापन सहायक डाक अधीक्षक श्री रामलाल मूंड और संचालन श्री जुगलकिशोर शर्मा ने किया। इस अवसर पर क्षेत्रीय कार्यालय से डाक निरीक्षक श्री राजेन्द्र सिंह भाटी, सहित तमाम स्थानीय डाककर्मी, बचत अभिकर्तागण व नागरिकजन उपस्थित रहे।









Thursday, February 25, 2016

आई. टी. मॉडर्नाइजेशन के तहत आधुनिकतम टेक्नालजी और आई. टी. से जुडेंगी डाक सेवाएं - डाक निदेशक के. के. यादव


व्यवसायिकता के इस दौर में बिना प्रतिस्पर्धा के कोई भी संगठन उन्नति नहीं कर सकता और डाक विभाग भी इस क्षेत्र में तमाम नये कदम उठा रहा है। अपने को एक व्यावसायिक और उत्तरदायी संगठन में तब्दील करने और अपनी सेवाओं को ग्राहकों के लिए और विविधतापूर्ण, गुणवत्तापूर्ण और तत्पर सेवा में बदलने की पहल के तहत डाकघरों को ऐसी जगह के रूप में विकसित किया जा रहा है, जहाँ ग्राहकों को एक ही जगह पर जनोपयोगी सेवाएँ मिल सकें और आम आदमी को अपने दरवाजे पर ही आसानी से और सस्ती सेवाएँ प्रदान की जा सकें। इसके लिए डाक सम्प्रेषण प्रणाली में आवश्यकतानुसार परिवर्तन के साथ डाक सेवाओं को आधुनिकतम टेक्नालजी और आई. टी. से जोड़ा जा रहा है। उक्त उद्गार राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर के निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव ने  बीकानेर मंडल के नोखा डाकघर परिसर में 25 फरवरी को आयोजित डाक मेले का उद्घाटन करते हुये कहा।

डाक निदेशक कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि डाक विभाग सिर्फ चिट्ठी-पत्री और मनीऑर्डर ही नहीं बाँटता बल्कि बचत और बीमा सेवाओं से भी लम्बे समय से जुड़ा हुआ है। आई. टी. मॉडर्नाइजेशन के तहत सभी डाकघरों को कोर बैंकिंग (सीबीएस) से जोड़ा जा रहा है, आने वाले दिनों में नेट बैंकिंग, मोबाइल बैंकिंग एवं एटीएम सुविधाओं का डाकघरों में भी लाभ उठा सकेंगे। बीकानेर के दो डाकघरों के अलावा सभी डाकघरों को  कोर बैंकिंग से जोडा जा चुका है और बीकानेर प्रधान डाकघर में एटीएम सेवा भी आरम्भ हो चुकी है।  श्री यादव ने कहा कि आने वाले दिनों में ग्रामीण डाक सेवकों सहित विभाग के सभी कर्मचारियों को सूचना प्रौद्योगिकी  के माहौल में प्रभावकारी तरीके से कार्य करने के लिए तैयार करना है। इसी क्रम में ग्रामीण शाखा डाकघरों को भी तकनीकी तौर पर दक्ष बनाने के उद्देश्य से ग्रामीण आईसीटी के तहत  हाईटेक किया जायेगा और वहाँ पर नेटबुक व हैण्डहेल्ड डिवाइस भी दिया जायेगा । शाखा डाकघरों को सोलर चार्जिंग उपकरणों से जोडने के साथ-साथ मोबाइल थर्मल प्रिन्टर, स्मार्ट कार्ड रीडर, फिंगर प्रिन्ट स्कैनर, डिजिटल कैमरा एवं सिगनेचर व दस्तावेज स्कैनिंग के लिये यन्त्र भी मुहैया कराया जायेगा ताकि ग्रामीण लोगों को इन सुविधाओं के लिये शहरों की तरफ न भागना पडे़।

डाक विभाग की योजनाओं की चर्चा करते हुए डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि डाक विभाग का उद्देश्य समावेशी विकास के तहत शहरों के साथ-साथ सुदूर ग्रामीण अंचल स्थित लोगों को भी इन सभी योजनाओं के तहत् लाना है। बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ के तहत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा 10 साल तक की बालिकाओं के लिए आरम्भ सुकन्या समृद्धि योजना की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि इससे बालिकाओं का आर्थिक सशक्तिकरण होगा और उनकी उच्च शिक्षा और  विवाह में काफी सुविधा होगी।  देश में मुख्यधारा से वंचित लोगों  व उनके परिवारों को आर्थिक सुरक्षा प्रदान करने के उद्देश्य से आरम्भ अटल पेंशन योजना, प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना एवं प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना के सफलतापूर्वक क्रियान्वयन में भी डाकघरों द्वारा एक मुख्य व सक्रिय भूमिका का निर्वहन किया जा रहा है। डाक विभाग के व्यापक नेटवर्क को देखते हुए हाल ही में राजस्थान सरकार ने डाकघरों द्वारा ई-मित्र सेवाएं देने के लिए भी एग्रीमेंट किया है।  डाक निदेशक यादव ने विद्यार्थियों और युवाओं को डाक टिकटों के संग्रह अर्थात फिलेटली से जोड़ने का भी आह्वान किया।  मात्र 200 रूपये में फिलेटली डिपाजिट खाता खोलकर  घर बैठे हर माह नई डाक टिकटें प्राप्त की जा सकती हैं।  डाक विभाग की ''माई स्टैम्प'' सेवा के तहत  हर कोई मात्र 300 रूपये में अपनी और अपने प्रियजनों की फोटो डाक टिकट पर लगवा सकता है।

बीकानेर मंडल के डाक अधीक्षक श्री एस॰ एस॰ शेखावत ने इस अवसर पर कहा कि डाक विभाग अपने ग्राहकों को बेहतर सेवा देने के लिए तत्पर है और इस दिशा में लोगों से समय-समय पर संवाद के साथ-साथ विभाग ने अपनी सेवाओं के व्यापक प्रचार-प्रसार पर भी जोर दिया है।  उन्होंने कहा कि डाकघरों में निवेश की तमाम योजनायें हैं, जिनमें बचत खाता, आवर्ती जमा, सावधि जमा, मासिक आय योजना, पी. पी. एफ., वरिष्ठ नागरिक बचत योजना, सुकन्या समृद्धि योजना एवं राष्ट्रीय बचत पत्र व किसान विकास पत्र में निवेश किया जा सकता है। डाक जीवन बीमा में 50 लाख और ग्रामीण डाक जीवन बीमा में 20 लाख रूपये तक का जीवन बीमा कराया जा सकता है।

विशिष्ट अतिथि के रूप में पधारे नोखा पंचायत समिति के प्रमुख  श्री कन्हैया लाल सियाग ने इस अवसर पर कहा कि डाक विभाग देश के सबसे पुराने विभागों में से है और आज भी प्रायः यह हर किसी के जनजीवन से जुड़ा हुआ है। इस प्रकार के डाक मेले की सराहना करते हुये उन्होनें कहा कि ऐसे आयोजनों से जनता में जागरूकता बढ़ती है और लोग तमाम योजनाओं का फायदा उठा पाते हैं। इस अवसर पर लोगों ने तमाम बचत योजनाओं, डाक जीवन बीमा, ग्रामीण डाक जीवन बीमा, सुकन्या समृद्धि सहित तमाम योजनाओं का फायदा उठाया और नए खाते खोले।  निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव ने इस अवसर पर तमाम लोगों को मंच पर पासबुकें दे कर उनके सुखी व समृद्ध भविष्य की कामना की।

कार्यक्रम में अतिथियों का स्वागत नोखा डाकघर के पोस्टमास्टर श्री आर. के. तिवारी, आभार ज्ञापन सहायक डाक अधीक्षक श्री सीताराम खत्री और संचालन सुश्री कीर्ति गोस्वामी ने किया। इस अवसर पर क्षेत्रीय कार्यालय से डाक निरीक्षक श्री राजेन्द्र सिंह भाटी, सहित तमाम स्थानीय डाककर्मी, बचत अभिकर्तागण व नागरिकजन  उपस्थित रहे।







Saturday, February 20, 2016

डाकघर ई-कामर्स कम्पनियों और स्थानीय व्यवसायियों के मध्य करेंगे एक बेहतर प्लेटफार्म के रूप में कार्य

डाक विभाग के व्यापक नेटवर्क एवं देश-विदेश में वितरण की सुविधा को देखते हुए तमाम ई-कामर्स कम्पनियाँ डाकघरों के माध्यम से अपने उत्पादों की बुकिंग और वितरण के लिए तत्पर हैं। ऐसे में डाकघर स्थानीय व्यवसायियों और ई-कामर्स कम्पनियों के मध्य एक बेहतर प्लेटफार्म के रूप में भी कार्य कर सकेंगें। उक्त विचार राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर  के निदेशक डाक सेवाएं श्री क़ृष्ण कुमार यादव ने 20 फरवरी को जोधपुर प्रधान डाकघर में ई-कॉमर्स कंपनी ईबे इंडिया के विक्रेताओं के लिए विशेष काउंटर का शुभारंभ करते हुए व्यक्त किये। इस अवसर पर श्री यादव ने फीता काट कर एवं प्रतीकात्मक रूप से पार्सल बुकिंग करके सेवा का शुभारंभ किया। इसके तहत प्रधान डाकघर के प्रथम तल पर स्थित बिज़नेस-पोस्ट सेंटर से स्थानीय व्यवसायी ईबे इंडिया के माध्यम से ऑर्डर किए गए अपने पार्सल्स की तुरंत बुकिंग करा सकेंगे। 




डाक निदेशक श्री क़ृष्ण कुमार यादव ने कहा कि जोधपुर में हैडीक्राफ्ट, एंटीक आइटम्स टेक्सटाईल इत्यादि का भरपूर बाज़ार है, और यहाँ से इन्हें देश-विदेश में भेजा जाता हैं। इनमें से कुछ तो सीधे डाक काउंटर्स पर बुकिंग करवाते हैं, वहीं लोग ई-कॉमर्स कम्पनियों के माध्यम से भी इनकी बुकिंग करवाते हैं। ऐसे में ईबे इंडिया के लिए प्रधान डाकघर में विशेष काउंटर की सुविधा देने से से जोधपुर के उद्यमियों, कारीगरों, निर्माताओं और विक्रेताओं को ऑनलाईन ऑर्डर मिलने के बाद उनके उत्पाद तेजी से बुक कराने और त्वरित डिस्पैच कराने में सुविधा मिलेगी ।

जोधपुर प्रधान डाकघर के सीनियर पोस्ट मास्टर श्री एच. आर. राठौड़ ने बताया कि डाक विभाग इस सेवा को अपनी बिजनेस-पोस्ट सेवा के तहत प्रदान करेगा, जिसके तहत ईबे इंडिया के माध्यम से पार्सल भेजने वालों से रियायती शुल्क लेकर उनकी स्पेशल हैंडलिंग की जाएगी, ताकि इनका तुरंत वितरण सुनिश्चित हो सके।

इस अवसर पर सहायक डाक अधीक्षक विनय खत्री, डाक निरीक्षक राजेंद्र सिंह भाटी, सुदर्शन सामरिया, ईबे इंडिया के प्रतिनिधि निखिल बिस्सा, तरुण दाधीच, सहायक डाकपाल सर्वश्री दुर्ग सिंह भाटी, संतोष सिंह, गोपाल शर्मा, बिजनेस पोस्ट सेंटर इंचार्ज नरेंद्र सोनी, सहित तमाम लोग उपस्थित रहे। 

Saturday, February 13, 2016

'सुकन्या समृद्धि योजना' को लोगों ने लिया हाथों-हाथ, जोधपुर रीजन के डाकघरों में खुले 1 लाख से ज्यादा खाते

बेटी को बोझ न समझें और न ही उसके जन्म पर निराश हों, क्योंकि बिना बेटी के परिवार नामक संस्था का अस्तित्व ही खतरे में पड़ जायेगा। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के इस संदेश ने लोगों के मर्म को छुआ और  'बेटी बचाओ, बेटी पढाओ' अभियान के तहत शुरू की गई सुकन्या समृद्धि योजना को  राजस्थान के लोगों ने हाथों हाथ लिया है। राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर के निदेशक डाक सेवाएं  कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि जनवरी माह तक  राजस्थान के डाकघरों में दो लाख बहत्तर हजार खाते खोले जा चुके हैं, जिनमें अकेले जोधपुर रीजन ने 1 लाख से ज्यादा खाते खोले हैं। जयपुर रीजन ने 79, 567  अजमेर रीजन ने 91,581 और जोधपुर रीजन ने 1, 00, 852 सुकन्या खाते खोले हैं। 

गौरतलब है कि प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी ने 22, जनवरी 2015 को हरियाणा के पानीपत में 'बेटी बचाओ, बेटी पढाओ' अभियान का शुभारम्भ करते हुये बेटियों के लिए विशेष तौर पर 'सुकन्या समृद्धि योजना' की घोषणा की थी। इसमें किसी भी डाकघर  में बेटी के जन्म से लेकर  दस साल की उम्र तक खाता खुलवा सकते है। निदेशक डाक सेवाएं  कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि योजना में प्रतिवर्ष न्यूनतम एक हजार तथा अधिकतम डेढ़ लाख रूपये जमा करवाया जा सकता है।   बेटी की उम्र 18 वर्ष होने पर जमा राशि का 50 प्रतिशत और बेटी के विवाह होने अथवा खाता खुलने की तिथि से 21 साल पूरे होने पर सम्पूर्ण राशि निकाली जा सकती है। वर्तमान में 9.2 प्रतिशत ब्याज दर वाली इस योजना पर आयकर छूट भी है।

 डाक निदेशक श्री यादव ने कहा कि  बेटियों की उच्च शिक्षा और उनके विवाह में इस योजना से काफी सुविधा होगी।  वर्तमान में यदि एक वर्ष की बच्ची का सुकन्या खाता खोला जाये और हर माह इसमें एक हजार रूपये जमा किये जाएँ तो 14 साल तक कुल जमा राशि 1, 68,000 होगी।  इस पर वर्तमान 9.2 फीसदी के हिसाब से कुल 4,47,786 रूपये का ब्याज मिलेगा और बालिका को अंतत: एकमुश्त 6,15, 786 की राशि प्राप्त होगी। 

आयकर छूट के लिहाज से भी सुकन्या समृद्धि खाता ज्यादा लाभदायी है।  पीपीएफ की तरह इसमें भी त्रिस्तरीय अर्थात निवेश राशि, ब्याज और परिपक्वता पर मिलने वाली राशि पर  टैक्स छूट मिलती है, पर पीपीएफ में ब्याज दर जहाँ मात्र 8.7 है, वहीं सुकन्या खाते में यह 9. 2 फीसदी है। 

डाक निदेशक श्री यादव ने बताया कि आने वाले दिनों में सुकन्या मेले लगाकर और भी लोगों को इससे जोड़ा जायेगा।  इसके अलावा हर डाक मंडल  में आदर्श के तौर पर  एक गाँव को  संपूर्ण सुकन्या समृद्धि ग्राम बनाया जायेगा। 


 सुकन्या समृद्धि योजना : जोधपुर रीजन अव्वल, एक लाख से अधिक खाते खुले
(साभार : दैनिक भास्कर : 11 फरवरी 2016)


जोधपुर रीजन में खुले एक लाख से अधिक सुकन्या समृद्धि खाते
(साभार : नवज्योति, 11 फरवरी 2016)



(साभार : 'सुकन्या समृद्धि योजना' को लोगों ने लिया हाथों-हाथ, जोधपुर रीजन के डाकघरों में खुले 1 लाख से ज्यादा खाते)


(साभार : जोधपुर रीजन के डाकघरों में खुले 1 लाख से ज्यादा खाते)