Tuesday, May 23, 2017

राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर में उत्कृष्ट कार्य करने वाले डाक अधिकारियों व कर्मचारियों का हुआ सम्मान

राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर में वित्तीय वर्ष 2016-17 में विभिन्न सेवाओं में उत्कृष्ट कार्य करने वाले 35 डाक अधिकारियों व् कर्मचारियों को 23 मई, 2017 को मिनी ऑडिटोरियम, सूचना  केंद्र, जोधपुर में आयोजित एक कार्यक्रम में पोस्टमास्टर जनरल श्री वीसी राय और निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव ने ट्राफी व प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया। इस अवसर पर अपने सम्बोधन में राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर के पोस्टमास्टर जनरल श्री वीसी राय ने कहा कि डाक विभाग नित् नई टेक्नालॉजी को अपना रहा है।  इससे जहाँ विभाग के राजस्व में वृद्धि होगी, वहीं फील्ड स्तर पर विभागीय कर्मियों के साथ-साथ आम जन को भी सहूलियत होगी। 

सम्मान समारोह को सम्बोधित करते हुये राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर के निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि अधिकारियों व कर्मचारियों को प्रोत्साहित करके ही किसी कार्य में अच्छा रिजल्ट पाया जा सकता है और यह एक स्वस्थ प्रतियोगिता के माध्यम से अधिकारियों एवं कर्मचारियों को आगे बढ़ाने का माध्यम है। श्री यादव ने कहा कि इस वित्तीय वर्ष में अभी से लक्ष्य प्राप्ति पर लगना है ताकि अधिकाधिक राजस्व अर्जन किया जा सके। 

इस अवसर पर सोवरेन गोल्ड बॉण्ड बिक्री में जोधपुर मंडल, सुकन्या समृद्धि योजना  में पाली मंडल, प्रीमियम सेवाओं के व्यवसाय विकास एवं अटल पेंशन योजना में बीकानेर मंडल, डाक जीवन बीमा योजना में श्रीगंगानगर मंडल, ग्रामीण डाक बीमा योजना में सिरोही मंडल, प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना में बाड़मेर मंडल और प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना में चूरू मंडल को उत्कृष्ट कार्य करने हेतु  सम्मानित किया गया। इसके अलावा विभिन्न सेवाओं में व्यक्तिगत तौर पर उत्कृष्ट कार्य  करने वाले शाखा डाकपालों, उपडाकपाल, पोस्टमैन, डाक निरीक्षक, सहायक अधीक्षक के साथ-साथ आई. टी. से जुड़े डाककर्मियों को भी सम्मानित किया गया। कार्यक्रम का संचालन सहायक अधीक्षक अनिल कौशिक, स्वागत सम्बोधन सहायक निदेशक इशरा राम और आभार ज्ञापन प्रवर डाक अधीक्षक बीआर सुथार  किया। 


उत्कृष्टता अवार्ड से सम्मानित डाक अधिकारियों व कर्मचारियों की सूची :-

उपडाकपाल संवर्ग में श्री हंसराज किराडू, उपडाकपाल, बीकानेर सिटी उपडाकघर, बीकानेर को बचत बैंक खातों, श्री निरंजन कुमार शर्मा, उपडाकपाल, सांचौर उपडाकघर, सिरोही को सुकन्या समृद्धि योजना, श्री सत्य नारायण स्वामी, उपडाकपाल, कांवट टाउन उपडाकघर, सीकर को डाक जीवन बीमा, श्री जेठाराम शर्मा, उपडाकपाल,कल्याणपुर उपडाकघर, बाड़मेर को अटल पेंशन योजना एवं प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना, श्री राय सिंह, उपडाकपाल, तारानगर उपडाकघर, चूरू को प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना में उत्कृष्ट कार्य करने बाबत् सम्मानित किया गया।

पोस्टमैन संवर्ग में श्री सुधीर नैन, पोस्टमैन, पिलानी उपडाकघर, झुंझुनू को सभी प्रकार के आर्टिकलों का वितरण प्रतिशत एवं श्री साबिर अली, पोस्टमैन, जालेर प्रधान डाकघर को स्पीड पोस्ट आर्टिकलों का वितरण शत-प्रतिशत में उत्कृष्ट कार्य करने बाबत् सम्मानित किया गया।

ग्रामीण डाक सेवक संवर्ग में श्री ओम प्रकाश शर्मा, ग्रामीण डाक सेवक डाक वाहक,पिपराली उपडाकघर, सीकर को ग्रामीण डाक जीवन बीमा, श्री ब्रह्मानन्द पारीक, ग्रामीण डाक सेवक, बायला शाखा डाकघर (सरदार शहर), चूरू को डाक जीवन बीमा, श्री देवा राम भील, शाखा डाकपाल, दासानिया शाखा डाकघर (सोमेसर) जोधपुर को बचत बैंक खाते, श्री पेमा राम, शाखा डाकपाल, एड सिणधरी, बाड़मेर को सुकन्या समृद्धि योजना, श्री अमराराम, शाखा डाकपाल, सारन शाखा डाकपाल (रानावास) पाली को प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना और श्री केशुराम, शाखा डाकपाल, राजेडू शाखा डाकघर (श्रीडुंगरगढ़) बीकानेर को अटल पेंशन योजना में उत्कृष्ट कार्य करने बाबत् सम्मानित किया गया।

सहायक अधीक्षक डाकघर/ निरीक्षक डाक संवर्ग में श्री मुकेश कुमार जांगिड़,निरीक्षक डाक, आबू रोड़ उपखण्ड, सिरोही को ग्रामीण डाक जीवन बीमा की नई पॉलिसी एवं न्यू प्रीमियम में, श्री जयदेव यादव, निरीक्षक डाक, फालना उपखण्ड, पाली को सुकन्या समृद्धि योजना में, श्री सीताराम खत्री,सहायक अधीक्षक डाकघर (दक्षिण) उपखण्ड, बीकानेर को अटल पेंशन योजना में, श्री देवा राम सुथार, निरीक्षक डाक, बालोतरा उपखण्ड, बाड़मेर को प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना में, श्री विकास सैनी, निरीक्षक डाकघर, रतनगढ़ उपखण्ड, चुरू को प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना में एवं श्री राकेश कुमार धींगड़ा, सहायक अधीक्षक डाकघर (मुख्यालय) श्रीगंगानगर को बेस्ट सहायक अधीक्षक डाकघर (मुख्यालय) में उत्कृष्ट कार्य करने बाबत् सम्मानित किया गया।

श्री सरदारमल यादव, कार्यालय सहायक, सीपीसी, श्रीमाधोपुर, सीकर  को  डाक जीवन बीमा एवं ग्रामीण ग्रामीण डाक जीवन बीमा - सीपीसी टीम हेतु श्री मनोज कुमार सैनी, कार्यालय सहायक (पीएमयू) चुरू को  बेस्ट डीआईटी टीम हेतु  श्री राजश झंवर, मार्केटिंग एक्जीक्यूटीव, बीकानेर को माई स्टेम्प व्यवसाय में एवं श्रीमती अनिता बैरवा, डाईरेक्ट एजेंट (पीएलआई), बीकानेर डाक जीवन बीमा में डाईरेक्ट एजेंट व्यवसाय में उत्कृष्ट कार्य करने बाबत् सम्मानित किया गया।

Sunday, May 21, 2017

अब डाकघर के खाते जुड़ेंगे आधार और मोबाईल नंबर से, इलाके के पोस्टमैन को देकर भी लोग लिंक करा सकेंगे अपना आधार और मोबाईल नंबर

कोर बैंकिंग से जुड़ने के बाद डाकघरों में खुले सभी पुराने खातों को आधार संख्या और मोबाईल नंबर से जोड़ने की कवायद आरम्भ हो गई है। इस हेतु राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर में 25 मई तक एक विशेष अभियान चलाकर  ग्राहकों को जागरूक कर उनके खातों को आधार और मोबाईल संख्या से जोड़ा जायेगा। 

इस सम्बन्ध में जानकारी देते हुए राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर के निदेशक डाक सेवाएँ  कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि डाकघर में खोले जा रहे नए खातों  में आधार संख्या और मोबाईल नंबर खाता खोलते समय ही लिए जा रहे हैं, पर डाकघर में पहले से खुले सभी प्रकार के खातों  को भी आधार और मोबाईल नंबर से जुडवाना आवश्यक है जिससे  भविष्य मे आने वाली सभी सरकारी योजनाओं का लाभ ग्राहकों को मिल सके। मोबाईल नंबर को खातों मे जुडवाने से  प्रत्येक जमा एवं निकासी की सूचना एसएमएस द्वारा उनके मोबाईल पर आ जाएगी। 

    डाक निदेशक कृष्ण कुमार  यादव ने कहा कि ग्राहकों की सुविधा के लिए के सभी पोस्टमैन एवं ग्रामीण डाक सेवकों  को भी निर्देश दिये गए हैं  कि डाक वितरण के दौरान लोगों  को इस सम्बन्ध में जागरूक करें और जो खाताधारक डाकघर नहीं आ सकते उनसे आधारकार्ड की फोटोप्रति संकलित कर संबंधित डाकघर मे जमा कराएं ताकि उनके खातों को भी आधार और मोबाईल नंबर से लिंक किया जा सके। इसके अलावा खाताधारक अपने आधार कार्ड की फोटो प्रति पर अपना खाता संख्या, नाम, मोबाईल संख्या और हस्ताक्षर दर्ज कर डाकघरों में जमा करा सकते हैं।

काउंटर के साथ-साथ प्रत्येक डाकघर मे इसके लिए ड्रॉप बॉक्स लगाने के भी निर्देश दिये गए हैं। डाकघर के बचत एजेंटों को भी इसके लिए लोगों को जागरूक करने के निर्देश दिए गए हैं।  डाक विभाग ने इस कार्य को तेजी से अंजाम देने के लिए आधार और मोबाईल नंबर संकलित करने हेतु डाककर्मियों को 50 पैसे और इसे सिस्टम में फीड करने हेतु भी 50 पैसे  देने की घोषणा की है। 


Wednesday, May 17, 2017

Postman Mobile Application (PMA) launched by the Postal Department in Rajasthan

The Postal Department is making himself hi-tech day-to-day. Now, if the postman takes your sign/ thumb impression in a smart phone instead of manually in the delivery slip, please do not surprise in this regard. ‘Postman Mobile App’ was launched on 15th may, 2017 in selected Post Offices of Rajasthan.

Launching the ‘Postman Mobile App’ in Jodhpur, Krishna Kumar Yadav, Director Postal Services, Rajasthan Western Region, Jodhpur said that in the chain of modern technology, the postal department has launched “Postman Mobile App” for providing prompt and more transparent services to the customers. By launching of this App, the postman will take signature of the customer in the smart phone instead of manual delivery slip for delivery of Speed Post, Registered Post, Money Order and COD Parcel etc. which will move the Postal department towards Digital India by doing paperless and smart working.

Briefing about the service Director Postal Services, Krishna Kumar Yadav told that the time will be saved by using of Postman mobile app and also the monitoring of actual delivery of the articles will be done more effectively. For this purpose, Android based smart phones have been provided to the Postmen. This will lead to speed and transparency in the delivery of accountable postal articles and the relevant data will be updated online at once, said Mr. Yadav.

At present, the entries of return and delivery of the postal articles are being entered in the offline software and the data are being updated in the central server when the Postman gives returns in the late hours. As this service is based on GPS system, it would also be known about the actual place where the article has been delivered by the Postman concerned, said Mr. Yadav.

Krishna Kumar Yadav, Director Postal Services told that in the first phase of the scheme, 1084 smart phones have been provided to the Postman in Rajasthan Circle including 309 Postmen of 26 post offices in the Western Region, Jodhpur.  Among this scheme, 17 Post Offices of Jodhpur Division are covered. These are Jodhpur Head Post Office, Shastri Naga, Nandanvan, Kachery, Residency Road, Krishi Upaj Mandi Bhagat Kothi, Krishi Upaj Mandi Mandore Road, BSF Training Center, Banar, Bhopalgarh, Bilara, Mathania, Osian, Phalodi and Pipar. 

Post Offices will work as employment registration centre

Post offices will now be acting as employment exchange for the unemployed youth. After the success of the pilot projects in Andhra Pradesh and Telangana, the project has been extended to nine more postal circles of the country, including Rajasthan. To begin with, Employment Registration Centres will be opened at the post offices under all these postal circles very shortly, where the interested unemployed youths will be able to get themselves registered.

Mr. Krishna Kumar Yadav, Director Postal Services, Rajasthan Western Region, Jodhpur told that a Memorandum of Understanding (MoU) has been signed between Dept. of Posts and Ministry of Labour and Employment to leverage Post offices as Employment Registration Centres as a follow up to the recommendation of the Group of Secretaries, appointed by the Hon’ble Prime Minister to explore innovative ideas for transformation change in various areas of governance.

 www.ncs.gov.in) by approaching Post Offices by the unemployed youth. An amount of Rupees 15/- for registration, Rupees 5/- for updating Job seeker profile and Rupees 10/- for getting printout of application form will be charged by the Post Offices. Further, Mr. Yadav told that after registration Post office will provide a printout having registration number and other information to the Job seeker and no document is required to be submitted by the unemployed youth while having registration.
Director Postal Services Mr. Krishna Kumar Yadav said that registration can be done on the portal of National Career Service (

 Mr. Yadav emphasized that National Career Service Portal facilitates registration of job seekers, job providers, skill providers, career counsellors etc. and after having registered on the portal, the unemployed youth will be able to access to rich repository of career content on over 3000 of occupations across 52 sectors. The portal will not only provide Job matching services in a highly transparent and user friendly manner but also build a bridge between a net connected urban areas and non-connected rural areas, helping the youth to avail facility to register for employment at their doorstep hassle free. Similarly, this will also provide revenue to Department of Posts.

 Under the pilot phase, the Government of India has launched the project in Andhra Pradesh and Telangana Circle on 12.02.2017 and on getting favorable response, it has now been decided to launch the scheme in all Head Post Offices of nine Postal Circles including Rajasthan Circle. Mr. Krishna Kumar Yadav, Director Postal Services said that the necessary training with regard to above project, has been imparted to the staff and on getting formal inauguration date, the registration will be started at in all the Post Offices of the Rajasthan Circle. Along with Rajasthan, the project will also be launched in Uttar Pradesh, Bihar, Maharashtra, Madhya Pradesh, Chhatisgarh, Gujrat, Tamilnadu, Jammu Kashmir & North East Postal Circle whereas the remaining circles will be covered during the next phase of project.

Monday, May 15, 2017

डाक विभाग ने लांच किया ‘पोस्टमैन मोबाइल एप’ : अब मोबाइल पर हस्ताक्षर लेकर पोस्टमैन करेंगे डाक वितरण


डाक विभाग अब डाकियों के साथ-साथ डाक वितरण को भी हाई-टेक करने जा रहा है। डाक वितरण के बाद पोस्टमैन अब आपसे डिलीवरी स्लिप में हस्ताक्षर करने या अंगूठा लगाने की बजाय स्मार्ट फोन में हस्ताक्षर या अंगूठा लगाने को कहे तो चौंकिएगा मत।

इस संबंध में जानकारी देते हुये राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर के निदेशक डाक सेवाएं कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि डाक विभाग आधुनिक जमाने के साथ ग्राहकों को त्वरित और पारदर्शी सर्विस देने की कड़ी में पोस्टमैन मोबाइल एप की शुरूआत कर रहा है। इसके जरिए स्पीड पोस्ट, रजिस्टर्ड डाक, मनीऑर्डर या सीओडी पार्सल की डिलीवरी के बाद पोस्टमैन अब उपभोक्ता से डिलीवरी स्लिप में हस्ताक्षर करवाने की बजाय स्मार्ट मोबाइल फोन पर ही हस्ताक्षर करवाएगा। इससे डिजिटल इंडिया के तहतडाक विभाग अब पेपरलैस तथा स्मार्ट वर्किंग की तरफ अग्रसर होगा।

निदेशक डाक सेवाएं कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि पोस्टमैन मोबाइल एप्प से समय की बचत होगी और डाक डिलीवरी के बाद वास्तविक ऑनलाइन वितरण की मॉनिटरिंग भी हो सकेगी। इसके लिए पोस्टमैनों को एण्ड्रोयड बेस्ड स्मार्ट फोन उपलब्ध कराए जा रहे हैं। इससे डाक डिलीवरी में तेजी तथा पारदर्शिता आएगी। विभाग का डाटा त्वरित गति से अपडेट होगा। अभी डाकघरों में देर शाम को जब डाकिया वापसी लेकर आता था तब वापसी व वितरण की प्रविष्टियां कम्प्यूटर में प्रविष्टि की जाती थी व डेटा सेन्ट्रल सर्वर में अपडेट होता था। जी.पी.एस. सिस्टम पर आधारित होने के चलते अब यह भी पता चल सकेगा कि पोस्टमैन ने वास्तव में किस स्थान पर जाकर डाक का वितरण किया है।

डाक निदेशक कृष्ण कुमार यादव ने कहा योजना के प्रथम चरण में पूरे राजस्थान में डाकियों को 1 हजार 84 स्मार्ट फोन उपलब्ध करवाए गए हैं। इनमें राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र के अधीन  26 वितरण डाकघरों के 309 डाकियों के द्वारा यह सेवा आरंभ की जायेगी। जोधपुर डाक मंडल के अधीन जोधपुर प्रधान डाकघर, शास्त्री नगर मुख्यडाकघर, नंदनवन, कचहरी, रेजीडेंसी रोड, कृषि उपज मंडी भगत की कोठी, कृषि उपज मंडी मंडोर रोड, बीएसएफ ट्रेनिंग सेंटर, बनाड, भोपालगढ़, बिलाड़ा, मथानिया, ओसियां, फलौदी, पीपाड़ सहित  17 डाकघरों में इसे आरंभ किया जाएगा।


(Postman Mobile App launched by Krishna Kumar Yadav, Director Postal Services, Jodhpur, Rajasthan at Jodhpur Head Post Office, Rajasthan Postal Circle)

पोस्टमैन हुये स्मार्ट, अब मोबाइल पर हस्ताक्षर या अंगूठा लेकर सौपेंगे डाक 

अब मोबाइल पर हस्ताक्षर लेकर पोस्टमैन करेंगे डाक वितरण


                                           अब मोबाइल के जरिये  पोस्टमैन करेंगे डाक वितरण

अब मोबाइल पर हस्ताक्षर लेकर पोस्टमैन करेंगे डाक वितरण
डाक विभाग ने लांच किया ‘पोस्टमैन मोबाइल एप’

Monday, May 8, 2017

The World's Highest Post Office Hikkim in India

The world's highest Post office is situated  India. This branch Post office is located in small town of Hikkim, in Lahaul Spiti district of Himachal Pradesh. It is located at height of 15,500 feet. The Pin code for this Post office is 172114.


Hikkim is a village in Lahaul and Spiti district of Himachal Pradesh state in northern India. It is near to the Kaza location. It is one of the highest year-round inhabited locations in India, with residences from 4330 to 4400 meters. A 40 minute uphill drive from the town of Kaza in Spiti valley for 14km and one will reach the village of Hikkim. This place houses the highest post office in the world. The village of Hikkim is situated at a towering altitude of around 14,400 feet above sea level. Hikkim also has the highest polling booth in India.
An absolutely must do thing while in Hikkim is to walk down to the post office and send a post card, because its not everyday that you get to send a post card from the highest highest post office in the world. 

Friday, May 5, 2017

अब डाक टिकट में लीजिए कॉफी की खुशबू : चंदन, गुलाब व जूही की सुगंध के बाद भारत में कॉफी की सुगंध वाले डाक टिकट जारी

दुनिया भर में डाक टिकटों का संग्रह करने वालों की कमी नहीं है। डाक टिकट सिर्फ पोस्टेज ही नहीं होते हैं बल्कि समकालीन समाज का प्रतिबिंब भी होते हैं। यही कारण है कि देश-दुनिया में विभिन्न सरकारों द्वारा समय-समय पर विभिन्न विषयों पर डाक टिकट जारी किए जाते हैं। युवाओं को डाक टिकटों के प्रति आकर्षित करने और इसके संग्रह के प्रति अभिरुचि पैदा करने के लिए तमाम अनूठे डाक टिकट भी जारी किए गए हैं। राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर के निदेशक डाक सेवाएं कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि  भारतीय डाक विभाग ने 23 अप्रैल, 2017 को कॉफी की खुशबू वाले 2 लाख डाक टिकट जारी किए हैं। 100 रुपए मूल्य वाले इस डाक टिकट से काफी की भीनी-भीनी सुगंध आती है। जोधपुर प्रधान डाकघर स्थित पोस्ट शापी से इस डाक टिकट को प्राप्त किया जा सकता है।

निदेशक डाक सेवाएं कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि भारतीय डाक विभाग इससे पहले 13 दिसम्बर 2006 को चंदन की खुशबू वाला एक डाक टिकट (15 रुपए),  7 फरवरी 2007 को गुलाब की खुशबू वाले चार डाक टिकट (5 और 15 रुपए) एवं 26 अप्रैल 2008 को जूही की खुशबू वाले दो डाक टिकट  (5 और 15 रुपए) जारी कर चुका है।कॉफी पर जारी डाक टिकट इस श्रेणी में चौथा सुगन्धित डाक टिकट है, पर पेय पदार्थों की सुगंध वाला यह भारत में पहला डाक टिकट जारी हुआ है। डाक निदेशक  केके यादव ने बताया कि वर्ष 1973 में सुगन्धित डाक टिकट जारी करने वाला पहला देश  भूटान बना था और फिर न्यूजीलैंड, थाईलैंड और स्विट्ज़रलैंड जैसे देशों ने भी सुगन्धित डाक टिकट जारी किए। भारत ने अपना पहला खूशबूदार डाक टिकट वर्ष 2006 में चंदन पर जारी किया।
डाक निदेशक कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि डाक विभाग द्वारा समय-समय पर जारी नियमित डाक टिकटों के विपरीत ये सुगन्धित  डाक टिकट, स्मारक डाक टिकटों की श्रेणी के तहत जारी किये गये हैं। यही कारण है कि इन डाक टिकटों का पुनर्मुद्रण नहीं हो सकता और डाक टिकट संग्राहकों हेतु यह एक अमूल्य और रोचक निधि बन गया है। इन डाक टिकटों के प्रति फिलेटलिस्ट के अलावा युवाओं में भी काफी क्रेज होता है, जो अनूठी चीजों को अपने कलेक्शन का हिस्सा बनाना चाहते हैं। 

गौरतलब है कि कॉफी विश्व की महत्वपूर्ण पेय उपजों में से एक है। यह दक्षिणी इथोपिया की उच्चभूमि की देशी उपज है और इसका नाम भी उच्चभूमि पर स्थित काफा जिले से लिया गया है, जहाँ यह मूल रूप से पैदा होती थी। भारत में 16 किस्म की कॉफी का उत्पादन होता है। भारत में कॉफी उत्पादन में कर्नाटक राज्य अग्रणी है, उसके बाद तमिलनाडु और केरल हैं। आंध्र प्रदेश, ओडिशा और पूर्वोत्तर राज्यों में भी कॉफी उगाई जाती है।

Friday, April 28, 2017

अब डाकघर के जरिये मिलेगा रोजगार, डाकघरों में होगा बेरोजगार युवकों का पंजीकरण

बेरोजगार युवाओं के लिए पहल करते हुए पोस्ट ऑफिस अब उन्हें रोजगार उपलब्ध कराने की सहूलियत भी प्रदान करेगा। बेरोजगार युवकों  के पंजीकरण हेतु डाकघरों में शीघ्र ही  रोजगार पंजीयन केंद्र खोले जायेंगे। लोगों को इसके लिए अब सेवायोजन या रोजगार कार्यालय के चक्कर नहीं लगाने होंगे।  राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर के निदेशक डाक सेवाएँ कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि इसके लिए भारतीय डाक विभाग एवं श्रम व रोजगार मंत्रालय ने एक एमओयू पर हस्ताक्षर किये हैं,  जिसके तहत  डाकघर आने वाले दिनों में रोजगार पंजीकरण केंद्र के रूप में  भी कार्य करेंगे। प्रधानमंत्री के निर्देश पर गवर्नेंस में नवाचार आइडिया के तहत विभिन्न विभागों के सचिवों की कमेटी के  सुझाव के आधार पर इसे लागू  किया जा रहा है।

डाक निदेशक कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि बेरोजगार युवक डाकघर में जाकर नेशनल कैरियर सर्विस (www.ncs.gov.in) ऑनलाइन पोर्टल पर अपना पंजीकरण करवा सकेंगे। डाकघरों में नए बेरोजगार पंजीकरण हेतु 15 रुपए, पंजीकृत प्रोफ़ाइल को अपडेट करवाने हेतु 5 रुपए और आवेदन-पत्र के प्रिंटआउट के लिए 10 रुपए लगेंगे। श्री यादव ने बताया कि पंजीकरण होने के पश्चात डाकघर द्वारा एक प्रिन्टआउट दिया जाएगा जिसमें रजिस्ट्रेशन नंबर और अन्य जानकारी दर्ज होगी। पंजीकरण हेतु किसी भी प्रकार के दस्तावेज बेरोजगार युवक-युवतियों को नहीं देने होंगे।

  निदेशक डाक सेवाएँ कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि यह पोर्टल रोजगार के इच्छुक, रोजगार प्रदाता, स्किल प्रवाइडर्स, कैरियर काउंसलर इत्यदि सभी के  सम्बन्ध में जानकारी उपलब्ध कराती है। इस पोर्टल पर पंजीकृत होने के बाद बेरोजगार युवक 52 सेक्टरों में  उपलब्ध 3,000 तरह के व्यवसायों  की अपडेट जानकारी सकेंगे। पोर्टल के जरिये यह जानकारी भी मिलेगी कि  किस कोर्स के लिए कौन सा सैक्टर ठीक होगा तथा रोजगार के अवसर कहाँ उपलब्ध है। इसके जरिये स्किल डेवलेपमेंट तथा कैरियर विकल्प बताए जायेंगे। श्री यादव ने कहा कि यह पोर्टल नेट कनेक्टेड शहरी क्षेत्र तथा नॉन कनेक्टेड ग्रामीण क्षेत्रों में बेरोजगारों के बीच सेतु का कार्य करेगी। इस सुविधा से जहाँ बेरोजगार युवकों को घर के पास ही पंजीकरण की सुविधा उपलब्ध होगी, वहीं डाक विभाग को भी आमदनी होगी।
 गौरतलब है कि केंद्र सरकार के द्वारा आंध्रप्रदेश तथा तेलंगाना में 12 फरवरी, 2017 को रोजगार पंजीयन केंद्र खोलने का पायलट प्रोजेक्ट शुरू किया गया था। वहाँ मिली सफलता के बाद इसे अब राजस्थान सहित देश के नौ डाक सर्किल के प्रधान डाकघरों में आरंभ किया जाएगा।   डाक निदेशक कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि इसके लिए  स्टाफ को ट्रेनिंग दी जा चुकी है और इसके शुभारंभ की औपचारिक तिथि आते ही सभी प्रधान डाकघरों में पंजीकरण का कार्य आरंभ कर दिया जाएगा।  राजस्थान के साथ ही  उत्तर प्रदेश, बिहार, महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, गुजरात, तमिलनाडु, जम्मू कश्मीर तथा उत्तर पूर्वी राज्य के प्रधान डाकघरों में रोजगार पंजीयन केंद्र खोले जायेंगे। शेष राज्यों में दूसरे चरण में यह केंद्र खोले जाएंगे।

अब डाकघर में होगा बेरोजगारों का ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन


डाकघरों में होगा बेरोजगार युवकों का पंजीकरण, अब डाकघर के जरिये मिलेगा रोजगार
पोस्ट ऑफिस में खुलेंगे रोजगार पंजीयन केंद्र

अब डाकघर बनेगा बेरोजगार युवाओं का सारथी

अब डाकघर के जरिये मिलेगा रोजगार, डाकघरों में होगा बेरोजगार युवकों का पंजीकरण
पोस्ट ऑफिस में खुलेंगे रोजगार पंजीयन केंद्र





Wednesday, April 26, 2017

भारत में महात्मा गाँधी पर जारी डाक टिकट ब्रिटेन में 41़4 करोड़ रुपए में बिके

महात्मा गाँधी दुनिया भर के देशों में डाक टिकटों पर स्थान पाते रहे हैं और भारत में भी सबसे ज्यादा डाक टिकट गाँधी जी के ही विभिन्न रूपों, उनसे जुडी घटनाओं पर जारी हुए हैं। महात्मा गांधी आज भी दुनिया के लिए प्रेरणा का स्त्रोत हैं। लोगों के मन में उनके प्रति सम्मान में कमी नही आई है, उनसे जुड़ी चीजों के लिए उत्साह कम नहीं हुआ है। हाल ही में ब्रिटेन में भारतीय डाक टिकटों की सर्वाधिक बोली लगी है। महात्मा गांधी पर जारी दुर्लभ डाक टिकट रिकॉर्ड पांच लाख पौंड (लगभग 4.1 करोड़ रुपये) में बिका है। चार डाक टिकटों के सेट को एक ऑस्ट्रेलियाई ने खरीदा।

डाक टिकटों की खुदरा बिक्री करने वाली ब्रिटिश कंपनी स्टेनली गिबन्स ने बताया कि महात्मा गांधी पर 1948 में 10 रुपये का डाक टिकट जारी किया गया था। इसे तत्कालीन गवर्नर जनरल के सचिवालय ने आधिकारिक इस्तेमाल के लिए जारी किया था। इन पर अंग्रेजी भाषा में सर्विस’ लिखा हुआ है। इनमें से अब सिर्फ 13 डाक टिकट ही चलन में हैं। बैंगनी-भूरे रंग के इन डाक टिकटों पर महात्मा गांधी की तस्वीर है। इसके चार टिकटों का एक सेट डाक टिकटों का संग्रह करने वाले एक ऑस्ट्रेलियाई व्यक्ति ने खरीदा। उन्होंने भारतीय डाक टिकटों के लिए सर्वाधिक कीमत चुकाई।

गिबन्स के बयान के अनुसार, इसके अलावा चार डाक टिकटों का एक सेट महारानी एलिजाबेथ द्वितीय के स्वामित्व वाले रॉयल फिलटेलिक कलेक्शन के पास है। इसे दुनिया के सबसे बड़े डाक टिकटों का निजी संग्रह माना जाता है। गौरतलब है  कि स्टैनली गिबन्स ने गांधीजी पर दस रुपये के एक डाक टिकट को पिछले साल उरुग्वे के एक व्यक्ति को 1.6 लाख पाउंड यानी करीब एक करोड़ 32 लाख रुपये में बेचा था। इस साल मार्च में 'चार आने' का एक दुर्लभ भारतीय डाक टिकट 1.1 लाख पौंड (करीब 91 लाख रुपये) में बेचा गया था। उस डाक टिकट पर महारानी विक्टोरिया के युवावस्था की तस्वीर गलत ढंग से लगी थी। हालांकि नीलामी में सर्वाधिक कीमत में बिकने का रिकॉर्ड ब्रिटिश गुयाना के एक सेंट के डाक टिकट के नाम है। इसे जून 2014 में एक अनाम खरीदार को 74 लाख पौंड (करीब 61 करोड़ रुपये) में बेचा गया था।
20 April, 2017

हिंदी ब्लॉगिंग के 14 साल : ब्लॉगिंग में डाक निदेशक कृष्ण कुमार यादव के परिवार की तीन पीढ़ियाँ सक्रिय

न्यू मीडिया के इस दौर में ब्लॉगिंग लोगों के लिए अपनी बात कहने का सशक्त माध्यम बन चुका है। राजनीति की दुनिया से लेकर फिल्म जगत, साहित्य से लेकर कला और संस्कृति से जुड़े तमाम नाम ब्लॉगिंग से जुडे हुए हैं।  21 अप्रैल 2003 को हिंदी का  प्रथम ब्लॉग ’नौ दो ग्यारह’ बना था, तबसे इसने कई पड़ावों को पार किया है। हिंदी ब्लॉगिंग के क्षेत्र में एक ऐसा भी परिवार है, जिसकी तीन पीढ़ियाँ ब्लॉगिंग से जुडी हैं। राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर के निदेशक डाक सेवाएं कृष्ण कुमार यादव, उनकी पत्नी आकांक्षा यादव और बिटिया अक्षिता ब्लॉगिंग के क्षेत्र में नित नए आयाम रच रहे हैं। उनके परिवार में पिताश्री राम शिव मूर्ति यादव भी ब्लॉगिंग से जुड़े हुए हैं।  सार्क देशों के सर्वोच्च 'परिकल्पना ब्लॉगिंग सार्क शिखर सम्मान' से सम्मानित एवं नेपाल, भूटान और श्रीलंका सहित तमाम देशों में आयोजित अंतर्राष्ट्रीय ब्लॉगर्स सम्मेलन में सक्रिय भागीदारी निभाने वाले श्री यादव जहाँ अपने साहित्यिक रचनाधर्मिता हेतु "शब्द-सृजन की ओर" (http://kkyadav.blogspot.in/) ब्लॉग लिखते हैं, वहीं डाक विभाग को लेकर "डाकिया डाक लाया" (http://dakbabu.blogspot.in/) नामक उनका ब्लॉग भी चर्चित है।

वर्ष 2015 में हिन्दी का सबसे लोकप्रिय ब्लॉग 'शब्द-शिखर' (http://shabdshikhar.blogspot.com) को चुना गया और इसकी मॉडरेटर  आकांक्षा यादव को  हिन्दी में ब्लॉग लिखने वाली शुरूआती महिलाओं में गिना जाता है। ब्लॉगर दम्पति कृष्ण कुमार यादव और आकांक्षा यादव को  'दशक के श्रेष्ठ ब्लॉगर दम्पति',  'परिकल्पना ब्लॉगिंग सार्क शिखर सम्मान' के अलावा उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री द्वारा नवम्बर, 2012 में ”न्यू मीडिया एवं ब्लॉगिंग” में उत्कृष्टता के लिए ”अवध सम्मान से भी विभूषित किया जा  चुका  है। इस दंपती ने वर्ष 2008 में ब्लॉग जगत में कदम रखा और  विभिन्न विषयों पर आधारित दसियों ब्लॉग का संचालन-सम्पादन करके कई लोगों को ब्लॉगिंग की तरफ प्रवृत्त किया और अपनी साहित्यिक रचनाधर्मिता के साथ-साथ ब्लॉगिंग को भी नये आयाम दिये। नारी सम्बन्धी मुद्दों पर प्रखरता से लिखने वालीं आकांक्षा यादव का मानना है कि न्यू मीडिया के रूप में उभरी ब्लॉगिंग ने नारी-मन की आकांक्षाओं को मुक्ताकाश दे दिया है। आज एक लाख  से भी ज्यादा हिंदी ब्लॉग में लगभग एक तिहाई ब्लॉग महिलाओं द्वारा लिखे जा रहे  हैं।

ब्लॉगर दम्पति यादव की 10  वर्षीया सुपुत्री अक्षिता (पाखी) को भारत की सबसे कम उम्र की ब्लॉगर माना जाता है। अक्षिता की प्रतिभा को देखते हुए भारत सरकार ने  वर्ष 2011 में उसे "राष्ट्रीय बाल पुरस्कार" से सम्मानित किया, वहीं अंतर्राष्ट्रीय ब्लॉगर सम्मेलन, श्री लंका में उसे  "परिकल्पना कनिष्ठ सार्क ब्लॉगर सम्मान" से भी सम्मानित किया गया। उसका ब्लॉग  'पाखी की दुनिया'  (http://pakhi-akshita.blogspot.in/)  को 100 से ज्यादा देशों में देखा-पढा जाता है।

हिंदी ब्लॉगिंग की दशा और दिशा पर पुस्तक लिख रहे चर्चित ब्लॉगर कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि,  आज ब्लाॅग सिर्फ जानकारी देने का माध्यम नहीं बल्कि संवाद, प्रतिसंवाद, सूचना विचार और अभिव्यक्ति का भी सशक्त ग्लोबल मंच है। आज हर आयु-वर्ग के लोग इसमें सक्रिय हैं, शर्त सिर्फ इतनी है कि की-बोर्ड पर अंगुलियाँ चलाने का हुनर हो।
ब्लॉगिंग मीडिया के दौर  का सशक्त माध्यम 
(साभार : कामयाब कलम, बीकानेर 22 अप्रैल, 2017)

हिन्दी ब्लॉगिंग ने पूरा किया  14  साल का सफर  :  21 अप्रैल को बना था हिंदी का पहला ब्लॉग
हिंदी ब्लॉगिंग में  डाक निदेशक  कृष्ण कुमार यादव  के परिवार की तीन पीढ़ियाँ सक्रिय 
(साभार : जनगण, राजस्थान 22 अप्रैल, 2017)

हिन्दी ब्लॉगिंग ने पूरा किया  14  साल का सफर,  
हिंदी ब्लॉगिंग में  डाक निदेशक केके  यादव के परिवार की तीन पीढ़ियाँ सक्रिय
 (साभार : जलते दीप, जोधपुर  22 अप्रैल, 2017)



 (साभार : दैनिक युगपक्ष, बीकानेर 22 अप्रैल, 2017)