Tuesday, January 3, 2017

नोटबंदी के दौरान जोधपुर रीज़न के डाकघरों में जमा हुई 9 अरब रूपये से ज्यादा की राशि


भारत सरकार द्वारा नोटबंदी के बाद डाकघरों में भी लोगों ने अपने खातों में  खूब पुराने नोट जमा कराये और निर्धारित तिथि तक  500 और 1,000 रूपये के नोट बदले। राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर के निदेशक डाक सेवाएँ श्री कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि 10 नवम्बर से आरम्भ हुए नोटबंदी अभियान के तहत जोधपुर रीज़न के डाकघरों में लोगों ने 500 और 1,000 रूपये की   पुरानी सीरीज के कुल 9 अरब 11 करोड़ 5 लाख 75 हजार रुपए की राशि अपने खातों  में जमा की।  इसी प्रकार डाकघरों में एक्सचेंज के तहत निर्धारित तिथि 24 नवम्बर तक लोगों ने पुरानी सीरीज के 1 अरब 63 करोड़ 26 लाख 79 हजार पाँच सौ रूपये की राशि एक्सचेंज करवाई । इस दौरान डाक विभाग द्वारा अस्पतालों में भी  पहुँचकर जहाँ जरूरतमंद मरीजों के पुराने नोट बदले गए, वहीं ग्रामीण क्षेत्रों में घर-घर जाकर विशेष अभियान चलाकर लोगों के बचत खाते खोलकर उनके पैसे जमा कराये गए। डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि आरंभ में डाकघर की तमाम बचत योजनाओं और बाद में 30 दिसंबर तक सिर्फ बचत खाता में 500 और 1,000 रूपये के पुराने नोट स्वीकार किये गए। 

डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि सामाजिक और आर्थिक समावेशन में डाक विभाग की अहम भूमिका है। ऐसे में लोगों को बचत योजनाओं के तहत प्रोत्साहित करते हुये उनके खाते डाकघरों में खुलवाने का अभियान चलता रहेगा। गौरतलब है कि डाकघरों में मात्र 50 रूपये में बचत खाते खुलवाये जा सकते हैं और जहाँ पर एटीएम सुविधा उपलब्ध है, वहाँ तत्काल ही इन खातों को एटीएम से भी जोड़ा जा रहा है, ताकि पैसे निकालने में खाताधारकों को परेशानी न हो।  ग्रामीण लोगों को अटल पेंशन योजना, प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना और प्रधानमंत्री  सुरक्षा बीमा योजना के लाभों से रूबरू कराते हुये इससे भी जोड़ा जा रहा है।


Post a Comment