Wednesday, January 11, 2017

डाक विभाग के इण्डिया पोस्ट पेमेंट बैंक में नौकरी के लिए दिखा युवाओं में उत्साह



रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया से पेमेंट बैंक के लिए लाइसेंस मिलने के बाद डाक विभाग की ओर से गठित इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक (आईपीपीबी) में  भर्ती के लिए कवायदें आरम्भ हो गई हैं।  इसी क्रम में रविवार, 8 जनवरी, 2017  को असिस्टेंट मैनेजर स्केल प्रथम की  भर्ती  के लिए  देशभर में ऑनलाइन परीक्षा आयोजित की गई। राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर  के निदेशक डाक सेवायें श्री कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि परीक्षा का आयोजन इंस्टीट्यूट ऑफ़ बैंकिंग पर्सनल सलेक्शन, मुम्बई द्वारा ऑनलाइन कराया गया। राजस्थान के 9 शहरों - जोधपुर, जयपुर, अजमेर,  उदयपुर, बीकानेर, सीकर, अलवर, भीलवाड़ा और  कोटा  में परीक्षा संपन्न हुई।  इससे पूर्व 17 दिसंबर, 2016 को स्केल द्वितीय, तृतीय और पंचम हेतु एवम 7 जनवरी को भी परीक्षाओं का आयोजन किया जा चुका  है। 
राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर  के निदेशक डाक सेवायें श्री कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि इस परीक्षा हेतु जोधपुर सेण्टर पर कुल 2,828 अभ्यर्थियों ने आवेदन किया था, जिनमें से जोधपुर में बनाड स्थित आईओएन डिजिटल लैब में हुई परीक्षा में 2,088 ने उक्त परीक्षा दी। गौरतलब है कि  पूरे  राजस्थान में 25,845 अभ्यर्थियों ने इस परीक्षा के लिए आवेदन किया था।  यह परीक्षा देश भर में 650 पदों के लिए हो रही हैं। डाक विभाग अपने बैंक के लिए अधिकारियों और कर्मचारियों की नियुक्ति प्रोफेशनल तरीके से कर रहा हैं। परीक्षा का जिम्मा देश के 21 सरकारी बैंकों  के परीक्षा आयोजक आईबीपीएस को सौंपा गया है। आईबीपीएस ने रविवार को सफलतापूर्वक तीन पारियों में ऑनलाइन परीक्षा का संचालन किया।


डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि डाक विभाग को पेमेंट बैंक का दर्जा  मिलने के बाद पूरे भारत में मार्च 2017 तक पायलट फेज में 50 शाखाएं और सितंबर 2017 तक 650 शाखाएं आरम्भ किया जाना प्रस्तावित है, जिनमें  राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर में  कुल 16 पेमेंट बैंक की शाखाएं खोला जाना प्रस्तावित है। गौरतलब है कि आईपीपीबी को 17 अगस्त, 2016 को कंपनी अधिनियम, 2013 के अंतर्गत कॉर्पोरेट मंत्रालय के कंपनी रजिस्ट्रार से कंपनी प्रमाण-पत्र मिला। यह डाक विभाग के अंतर्गत पहला सार्वजनिक उपक्रम  होगा। आईपीपीबी का मुख्यालय नई दिल्ली में हैं। इस  बैंक को पोस्ट ऑफिस  की व्यापक पहुँच और  उनकी साख का लाभ मिलेगा। बैंक की पहुंच 1.39 लाख ग्रामीण डाकघरों सहित 1.54 लाख डाकघरों तक होगी।


                                                        (डाकघर के बैंक में नौकरी के लिए उत्साह)


Post a Comment