Saturday, September 22, 2018

डिजिटल क्रान्ति के युग में बढ़ रहा हिन्दी का दायरा - डाक निदेशक कृष्ण कुमार यादव

सृजन एवं अभिव्यक्ति की दृष्टि से हिंदी दुनिया की अग्रणी भाषाओं में से एक है। हिन्दी सिर्फ एक भाषा ही नहीं बल्कि हम सबकी पहचान है, यह हर हिंदुस्तानी का हृदय है। हिन्दी को राष्ट्रभाषा  किसी सत्ता ने  नहीं बनाया, बल्कि भारतीय भाषाओं और बोलियों के बीच संपर्क भाषा के रूप में जनता ने इसे चुना। उक्त उद्गार लखनऊ (मुख्यालय) परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएं और चर्चित साहित्यकार व ब्लॉगर श्री कृष्ण कुमार यादव ने पोस्टमास्टर जनरल, लखनऊ  कार्यालय में हिंदी पखवाड़ा पर आयोजित संगोष्ठी का शुभारम्भ करते हुए कहीं।
निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि हिन्दी में विश्व भाषा बनने की क्षमता है। हिन्दी आज सिर्फ साहित्य और बोलचाल की ही भाषा नहीं, बल्कि विज्ञान-प्रौद्योगिकी से लेकर संचार-क्रांति और सूचना-प्रौद्योगिकी से लेकरव्यापार की भाषा भी बनने की ओर अग्रसर है।  श्री यादव ने कहा कि डिजिटल क्रान्ति के इस युग में वेबसाइट्स, ब्लॉग और फेसबुक व टविटर जैसे  सोशल मीडिया ने तो हिन्दी का दायरा और भी बढ़ा दिया है। विश्व भर में हिन्दी बोलने वाले50 करोड़ तो इसे समझने वालों की संख्या 80 करोड़ है।  विश्व के लगभग 150 विश्वविद्यालयों में हिन्दी पढ़ाई जाती है, जो कि हिन्दी की बढ़ती लोकप्रियता का परिचायक है।
सहायक निदेशक राजभाषा आर. एन. यादव  ने कहा कि संविधान में वर्णित सभी प्रांतीय भाषाओं का पूर्ण आदर करते हुए इस विशाल बहुभाषी राष्ट्र को एक सूत्र में बांधने में भी हिन्दी की एक महत्वपूर्ण भूमिका है। ऐसे में हिन्दी भाषा केप्रयोग पर हमें गर्व महसूस करना चाहिए। सहायक निदेशक एम. एम. हुसैन ने  कहा कि हिंदी पूरे देश को जोड़ने वाली भाषा है और सरकारी कामकाज में भी इसे बहुतायत में अपनाया जाना चाहिये।
कार्यक्रम में  सहायक डाक अधीक्षक उमेश कुमार, सहायक डाक अधीक्षक संदीप चौरसिया, डाक निरीक्षक प्रियम गुप्ता, सहायक लेखा अधिकारी  नवीन पाण्डेय, आरके वर्मा, राम खेलावन, डाक सहायक रामचंद्र यादव, आनंद कुमार, अनामिका सिंह, पूजा पांडेय, आकांक्षा शर्मा, अखंड प्रताप सिंह, विजय कुमार  सहित तमाम विभागीय अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित रहे।
हिन्दी में विश्व भाषा बनने की क्षमता 

दुनिया की अग्रणी भाषाओं में से एक है हिंदी 
सृजन एवं अभिव्यक्ति की दृष्टि से हिंदी दुनिया की अग्रणी भाषाओं में -डाक निदेशक केके यादव


हिन्दी सिर्फ भाषा नहीं, हमारी पहचान भी है

Sunday, September 9, 2018

लायंस क्लब, लखनऊ के अधिष्ठापन समारोह पर डाक निदेशक केके यादव ने लखनऊ जीपीओ में जारी किया विशेष आवरण

बदलाव लाने के लिए हमेशा बड़े प्रयासों की ही जरूरत नहीं होती, बल्कि अपने स्तर पर किये गए छोटे-छोटे प्रयास भी बड़ा बदलाव ला सकते हैं। परिवर्तन के इस दौर में सरकारी संस्थाओं के साथ-साथ सामाजिक संस्थाओं और सिविल सोसाइटी की भी भूमिका अहम है। उक्त उद्गार लखनऊ (मुख्यालय) परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएँ श्री कृष्ण कुमार यादव ने लखनऊ जीपीओ में आयोजित एक कार्यक्रम में अन्तर्राष्ट्रीय एसोसिएशन ऑफ़ लायन्स क्लब, डिस्ट्रिक्ट लखनऊ 321 बी1 के 22 वें मंडलीय अधिष्ठापन समारोह पर एक विशेष आवरण और विरूपण जारी करते हुए 8 सितंबर, 2018 को बतौर मुख्य अतिथि व्यक्त किये।

 निदेशक डाक सेवाएँ श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि सेवा भाव से किया गया कोई भी कार्य महान होता है। स्वास्थ्य, शिक्षा, लिंग समानता, पर्यावरण संरक्षण, आपदा राहत जैसे  तमाम कार्यों में युवाओं को साझीदार बनाकर एक अच्छे नेतृत्व का विकास किया जा सकता है। ऐसे में अन्तर्राष्ट्रीय एसोसिएशन ऑफ़ लायन्स क्लब  देश-दुनिया में अपने सदस्यों की मार्फत तमाम आयोजनों के साथ-साथ कई सकारात्मक अभियान चला रहा है, जिससे सामाजिक विकास में फायदा होता है।


डाक निदेशक श्री यादव ने कहा कि डाक विभाग ने विद्यार्थियों और युवाओं में फिलेटली और पत्र-लेखन को प्रोत्साहित करने हेतु  डाक टिकटों पर अपनी फोटो वाली 'माई स्टैम्प', ढाई आखर पत्र लेखन प्रतियोगिता, दीनदयाल स्पर्श योजना के तहत छात्रवृत्ति जैसे तमाम कदम उठाए हैं ।


लखनऊ जीपीओ के चीफ पोस्टमास्टर योगेंद्र मौर्य ने बताया कि उक्त स्पेशल कवर 25 रुपए में फिलेटलिक ब्यूरो में बिक्री के लिए उपलब्ध होगा ।
लायन्स   क्लब के डिस्ट्रिक्ट गवर्नर एके सिंह   ने कहा कि यह हमारे लिए हर्ष का विषय  है कि डाक विभाग ने लायंस क्लब, डिस्ट्रिक्ट लखनऊ 321 बी1 के 22 वें मंडलीय अधिष्ठापन समारोह पर विशेष आवरण  जारी किया। इस अवसर पर लायन विनोद खन्ना, लायन मनोज रहेला, लायन कमल शेखर, राकेश सिंघल, डिप्टी चीफ पोस्टमास्टर मधुसुदन मिश्र, टीपी सिंह, राजन राव, रमेश चन्द्र प्रजापति, सुनील गुप्ता, वीके पाण्डेय सहित तमाम विभागीय अधिकारी, फिलेटलिस्ट्स इत्यादि उपस्थित रहे .

Friday, September 7, 2018

India Post Payments Bank on DD National in New India Sankalp

भारत सरकार द्वारा किये जा रहे तमाम जनोपयोगी कार्यों को लोगों के बीच पहुँचाने क्रम में दूरदर्शन डीडी नेशनल द्वारा न्यू इण्डिया संकल्प (New India Sankalp) कार्यक्रम के तहत 7 सितंबर, 2018 को 'इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक' पर एक लाईव परिचर्चा का आयोजन किया गया। 
इस कार्यक्रम में दिल्ली डाक परिमंडल के चीफ पोस्टमास्टर जनरल श्री एल. एन. शर्मा, पोस्ट पेमेंट बैंक के उपमहानिदेशक एवं सचिव डाक सेवा बोर्ड श्री तनवीर क़मर मोहम्मद, उपमहानिदेशक (ग्रामीण विकास एवं दर्पण) श्री अजय कुमार रॉय, इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक के श्री गुरु शरण ने नई दिल्ली स्टूडियो से और उत्तर प्रदेश में लखनऊ मुख्यालय परिक्षेत्र, के निदेशक डाक सेवाएँ श्री कृष्ण कुमार यादव ने लखनऊ स्टूडियो से लाईव वार्ता में भाग लिया। 
गौरतलब है कि हाल ही में 1 सितंबर को प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने 'इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक' का राष्ट्रीय स्तर पर शुभारम्भ किया था। 

Sunday, September 2, 2018

India Post Payments Bank in Lucknow GPO inaugurated by Rajnath Singh, Home Minister of India

केंद्र सरकार की बहुप्रतीक्षित 'इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक' सेवा का शुभारम्भ 1 सितंबर को हुआ। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने जहाँ इसका उद्घाटन नई दिल्ली में किया, वहीं लखनऊ में इसका शुभारम्भ केंद्रीय गृह मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने लखनऊ जीपीओ में आयोजित एक भव्य समारोह में उत्तर प्रदेश के चीफ पोस्टमास्टर जनरल श्री विनय प्रकाश सिंह, लखनऊ परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव, निदेशक मुख्यालय श्री राजीव उमराव की उपस्थिति में किया ।



इस अवसर पर 'इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक' की लख्ननऊ शाखा का फीता काटकर और शिलापट्ट अनावरण कर केंद्रीय गृह मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने शुभारम्भ किया। प्रथम पांच खाताधारकों को मंच पर क्यू. आर. कार्ड देकर उन्हें सम्मानित किया गया। इस कार्यक्रम को यादगार बनाने के लिए 'इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक' की लखनऊ शाखा पर एक विशेष आवरण और विरूपण का भी विमोचन किया गया।


कार्यक्रम के मुख्य अतिथि के रूप में अपने उद्बोधन में केंद्रीय गृहमंत्री श्री राजनाथ सिंह ने मोदी सरकार की तमाम उपलब्धियों की चर्चा करते हुए कहा कि डाक विभाग प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के कुशल नेतृत्व और मार्गदर्शन में विकास की नई इबारत लिखने को तत्पर है । डाकघरों को आधुनिक टेक्नालॉजी से जोड़ते हुए हाईटेक बनाया जा रहा है । श्री सिंह ने कहा कि हमारी सरकार सर्वसमावेशी भावना के तहत 'सबका साथ, सबका विकास'  के ध्येय के साथ चलती है और इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक इस कड़ी में एक महत्वपूर्ण आयाम है, जो कि वित्तीय समावेशन को और भी सुदृढ़ करेगी।  देश भर में इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक की 650 शाखाओं और 3250  सेवा केंद्रों के माध्यम से समाज के अंतिम व्यक्ति का बैंक खाता खोलने के लिए केंद्र सरकार ने पहल की है,  जिससे साल के अंत तक सभी डाकघरों को जोड़ दिया जायेगा ।
केंद्रीय गृहमंत्री श्री राजनाथ सिंह ने कहा  कि अर्थतन्त्र के साथ समाज के अंतिम व्यक्ति तक को जोड़ने की जो प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की सोच थी वह आज इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक– आईपीपीबी के रूप में साकार हो रही है। लखनऊ में आईपीपीबी के उद्घाटन समारोह में गृहमंत्री ने इसे आर्थिक क्रांति की दिशा में एक बड़ा कदम बताया। श्री राजनाथ सिंह ने कहा कि भारतीय डाक विभाग दुनिया का सबसे बड़ा पोस्टल नेटवर्क है। गांव स्तर पर फैली अपनी शाखाओं के माध्यम से यह लंबे समय से लोगों तक चिट्ठी पहुंचाने का माध्यम रहा है। संचार क्रांति के बाद डाक विभाग में परिवर्तन हुआ और आज यह बैंकिंग से जुड़ रहा है। उन्होने कहा कि चिट्ठी पहुंचाने वाला डाकिया अब आईपीपीबी के जरिये लोगों के चालू खाता खुलवाने से लेकर उन्हें कर्ज सुविधा मुहैया कराने का काम करेगा। गृहमंत्री श्री राजनाथ सिंह ने कहा कि जनसामान्य का विश्वस्त डाकिया अब एक बैंक की भूमिका निभाएगा और बैंकिंग सुविधाओं से वंचित तथा अल्पबैंकिंग सुविधाओं वाले उन लाखों भारतीयों को वित्तीय सेवाएं मुहैया कराएगा,  जो कि अब तक इन सेवाओं से वंचित रहे हैं । दूरदराज के क्षेत्रों में रह रहे लोगों की सुविधा के लिए तमाम जनकल्याणकारी योजनाओं का पैसा सीधे उनके खाते में जायेगा,  जिससे एक पारदर्शी व्यवस्था बनेगी ।

गृहमंत्री ने कहा कि सरकार बनने के कुछ ही समय के बाद प्रधानमंत्री जी की प्रेरणा से जन धन खाते खोले गए। उन्होने कहा कि बैंकिंग से सभी को जोड़ने का यह काम वित्तीय समावेशन की दिशा में महत्वपूर्ण है। उन्होने कहा कि डिजिटलीकरण से व्यवस्था में पारदर्शिता बढ़ी है और भ्रष्टाचार खत्म हुआ है। आईपीपीबी ग्रामीण स्तर पर डिजिटल लेनदेन को बढ़ावा देगा। गृहमंत्री ने कहा कि इसके लिए एक मोबाइल एप भी लाया गया है।

भारत को दुनिया की सबसे तेजी से विकास करती अर्थव्यवस्था बताते हुए गृहमंत्री ने कहा कि भारत की सकल घरेलू उत्पाद की दर 8.2 फीसद रही। उन्होने कहा कि 2014 में भारत की अर्थव्यवस्था दुनिया की 10 सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था में आठवें-नौवें स्थान पर था। आज यह छठे स्थान पर आ गया है। श्री सिंह ने कहा कि जहां भी नीतियों में हस्तक्षेप की आवश्यकता महसूस हुई है वहां सरकार ने हस्तक्षेप से संकोच नहीं किया। उन्होने कहा कि मोदी सरकार ने महत्वपूर्ण संस्थागत सुधार किए हैं। डाक घरों को आधुनिक तकनीकी से जोड़कर हाईटेक बनाना इसी कड़ी में एक अहम कदम है।

इस अवसर पर उत्तर प्रदेश के चीफ पोस्टमास्टर जनरल श्री विनय प्रकाश सिंह ने उत्तर प्रदेश में डाक सेवाओं के बढ़ते कदम की चर्चा करते हुए कहा कि राज्य भर में इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक की 73 शाखाएं और  292 सेवा केंद्रों का शुभारम्भ किया जा रहा है । इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक विभिन्न माध्यमों द्वारा कार्य करेगा, जिनमें काउंटर प्रचालन, द्वार पर सेवा,  मोबाइल और इंटरनेट बैंकिंग आदि शामिल होंगे । श्री सिंह ने कहा कि डाक विभाग की भूमिका में तेजी से परिवर्तन हो रहा है । बचत, बीमा, ई-कॉमर्स जैसे क्षेत्रों में डाकघर नवीन टेक्नालॉजी के साथ लोगों की जरूरतें पूरा कर रहे हैं । अब लोग डाकघर के अपने बचत खातों को आई.पी.पी.बी. से  लिंक करके भी इसका फायदा उठा सकेंगे । डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर के तहत तमाम सामाजिक सुरक्षा योजनाओं का पैसा सीधे लोगों के खाते में पहुँच जायेगा ।


लखनऊ (मुख्यालय) परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव ने इस अवसर पर कहा  कि  डिजिटल हो रही दुनिया में अब चिट्ठी बाँटने वाला डाकिया 'मोबाइल एप' के माध्यम से लोगों के घर पर दस्तक देगा और "आपका बैंक, आपके द्वार" की संकल्पना को साकार करेगा। डाक विभाग देश के सबसे पुराने विभागों में से एक है, जो कि तमाम महत्वपूर्ण घटनाओं का साक्षी रहा है और अब वित्तीय समावेशन में भी अपनी अहम भूमिका निभाएगा।

कार्यक्रम के दौरान प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा तालकटोरा स्टेडियम, नई दिल्ली में किये जा रहे राष्ट्रव्यापी शुभारम्भ समारोह का भी लाइव प्रसारण किया गया। इस  दौरान इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक के माध्यम से डाकिया की बदलती भूमिका को रेखांकित करते हुए एक वृत्त चित्र भी लोगों को दिखाया गया, जिसकी थीम थी 'डाकिया बैंक लाया।'


कार्यक्रम के आरम्भ में गृहमंत्री श्री राजनाथ सिंह का स्वागत उत्तर प्रदेश के चीफ पोस्ट मास्टर जनरल श्री विनय प्रकाश सिंह, उत्तर प्रदेश की महिला एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. रीता बहुगुणा जोशी का स्वागत लखनऊ मुख्यालय परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव, मोहनलालगंज के लोकसभा सांसद श्री कौशल किशोर का स्वागत लखनऊ मुख्यालय परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव, लखनऊ की मेयर श्रीमती संयुक्ता भाटिया का स्वागत निदेशक मुख्यालय श्री राजीव उमराव ने किया। तत्पश्चात दीप प्रज्वलन कर अतिथियों ने कार्यक्रम का औपचारिक शुभारम्भ किया।







इस अवसर पर उत्तर प्रदेश की केबिनेट मंत्री प्रो. रीता बहुगुणा जोशी, मोहनलालगंज सांसद श्री कौशल किशोर, मेयर श्रीमती संयुक्ता भाटिया, निदेशक मुख्यालय श्री राजीव उमराव, प्रवर डाक अधीक्षक शशि कुमार उत्तम, चीफ पोस्टमास्टर योगेंद्र मौर्य, इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक की सीनियर मैनेजर स्मृति श्रीवास्तव सहित तमाम जनप्रतिनिधिगण, विभिन्न विभागों के अधिकारी–कर्मचारीगण, बचत अभिकर्ता, इत्यादि उपस्थित रहे ।