Wednesday, August 15, 2018

लखनऊ जीपीओ में धूमधाम से मनाया गया स्वतंत्रता दिवस, डाक निदेशक केके यादव ने किया ध्वजारोहण

लखनऊ जीपीओ  में 15 अगस्त, 2018  को 72वां  स्वतंत्रता दिवस हर्षोल्लास के साथ मनाया गया।  इस अवसर पर राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा का ध्वजारोहण लखनऊ (मुख्यालय) परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएँ श्री कृष्ण कुमार यादव द्वारा किया गया। राष्ट्रगान की धुनों के बीच जहाँ देश प्रेम संबंधी नारे लगाये गए, वहीं तमाम अधिकारियों-कर्मचारियों के साथ-साथ उनके परिवारीजन भी इस समारोह का हिस्सा बने।

डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने लोगों को संबोधित करते हुए स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं दीं और अपने त्याग व बलिदान से देश को आजाद कराने वाले शहीदों, देशभक्त क्रांतिकारियों और महापुरुषों को नमन किया। उन्होंने कहा कि यह आजादी हमें दीर्घकालीन संघर्ष और लाखों लोगों के बलिदान से मिली है, अत: हमें इस आजादी की कीमत को पहचानते हुए इसे अक्षुण्ण रखना होगा।
डाक निदेशक  कृष्ण कुमार यादव ने इस अवसर पर आजादी के सन्दर्भ में डाक विभाग की  ऐतिहासिकता को रेखांकित करते हुए कहा कि स्वतंत्रता की गाथा सिर्फ अतीत भर नहीं है बल्कि आगामी पीढ़ियों हेतु यह कई सवाल भी छोड़ती है। श्री यादव ने कहा कि युवा पीढ़ी को राष्ट्रीय स्वाधीनता आन्दोलन के इतिहास से रूबरू कराना हमारी प्राथमिकता होनी चाहिए और इतिहास को पाठ्यपुस्तकों से निकालकर लोकाचार से जोड़ना होगा।  भावी पीढ़ी में राष्ट्रीयता की भावना से ही राष्ट्र का विकास संभव होगा। आजादी का अर्थ सिर्फ राजनैतिक आजादी नहीं अपितु यह एक विस्तृत अवधारणा है, जिसमें व्यक्ति से लेकर राष्ट्र का हित व उसकी परम्परायें छुपी हुई हैं।

डाक निदेशक  कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि भारत सरकार की तमाम कल्याणकारी योजनाएँ डाक विभाग के माध्यम से संचालित हो रही हैं। इनमें बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के तहत सुकन्या समृद्धि योजना, स्वच्छ भारत अभियान, अटल पेंशन योजना, प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा  योजना, प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना सहित तमाम  योजनाएं शामिल हैं।  इन्हें लोगों तक पहुँचाना हमारी प्राथमिकता में शामिल होना चाहिए। तभी सही मायने में इस दिवस की सार्थकता होगी। 


डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने इस अवसर पर सभी अधिकारियों-कर्मचारियों से समाज व राष्ट्र की उन्नति हेतु अपने-अपने स्तर पर योगदान देने की अपील की। उन्होंने कहा कि आजादी की शाश्वतता को बरकरार रखने के लिए  हम अपने स्तर पर छोटी-छोटी पहल करके समाज और राष्ट्र को समृद्ध बना सकते हैं। उन्होंने लोगों से वृक्षारोपण, लोगों को शिक्षित करने, पुस्तक-दान, अनाथों और वृद्धों की सहायता, बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ और स्वच्छ्ता अभियान जैसी तमाम पहल अपने स्तर पर शुरू कर देश की सुख-समृद्धि में भागीदार बनने की बात कही। 

इस अवसर पर लखनऊ जीपीओ के चीफ पोस्टमास्टर योगेंद्र मौर्य, डिप्टी चीफ पोस्टमास्टर मधुसूदन मिश्र, टीपी सिंह, सहायक डाक अधीक्षक राजन राव, रत्ना सिंह, आनंद कुमार सहित तमाम अधिकारी और कर्मचारी उपस्थित रहे।

Flag hoisting ceremony : Lucknow GPO celebrates Independence day. Mr. Krishna Kumar Yadav, Director Postal Services, Lucknow (HQ) Region, Uttar Pradesh addressed to officers and staff of Lucknow GPO on the occasion of 72nd Independence day.








Sunday, August 12, 2018

Felicitation Ceremony of Krishna Kumar Yadav, Director Postal Services, Lucknow, Uttar Pradesh

प्रशासन के साथ-साथ सामाजिक व साहित्यिक सरोकरों से जुड़े अधिकारी विरले ही मिलते है। ऐसे अधिकारी न सिर्फ विभाग को नई पहचान देते हैं बल्किअपनी सक्रियता से समाज में भी विशिष्ट मुकाम हासिल करते है। उक्त उद्गार राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर के निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव के निदेशक डाक सेवाएं, लखनऊ (मुख्यालय) परिक्षेत्र, उत्तर प्रदेश पद पर  स्थानांतरण पर आयोजित सपरिवार विदाई एवं अभिनंदन समारोह में  वक्ताओं ने  व्यक्त किये। 
इस अवसर पर राजस्थान परिमंडल के चीफ पोस्टमास्टर जनरल श्री बीबी दवे  और राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर के पोस्टमास्टर जनरल श्री वीसी रॉय ने डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव को अभिनंदन पत्र देकर सम्मानित किया  और उनके नये दायित्वों के बारे में शुभकामनायें देते हुए उज्जवल भविष्य की कामना की।

अपने उद्बोधन में राजस्थान परिमंडल के चीफ पोस्टमास्टर जनरल श्री बीबी दवे ने कहा कि राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर के निदेशक डाक सेवाएं के रूप में श्री कृष्ण कुमार यादव ने तन्मयता के साथ कार्य किया और विभागीय लक्ष्यों की प्राप्ति में अपना भरपूर योगदान दिया। 

राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर के पोस्टमास्टर जनरल श्री वीसी रॉय ने इस अवसर पर श्री यादव के साथ कार्य करते हुए अपनी सुखद स्मृतियों को सहेजते हुए कहा कहा कि श्री यादव की कार्य करने की अपनी एक विशिष्ट शैली है। सौहार्द्रपूर्ण वातावरण और सुंदर समन्वय बनाये रखते हुए विभागीय कार्यों और लक्ष्यों के प्रति उनका समर्पण अनूठा है।  

इस अवसर पर सहायक निदेशक श्री कान सिंह राजपुरोहित ने कहा कि डाक निदेशक के रूप में अपने सवा तीन वर्ष के कार्यकाल में श्री कृष्ण कुमार यादव जी ने डाक सेवाओं को न सिर्फ लोगों  से जोड़ा बल्कि उसे व्यापक आयाम भी प्रदान किये। इस दौरान न सिर्फ विभागीय लक्ष्यों की प्राप्ति के मामले में जोधपुर रीजन ने नए आयाम स्थापित किये, बल्कि डाक सेवाओं के बारे में जनजागरूकता और भागीदारी भी बढ़ी। सहायक निदेशक  ईशरा राम ने  कहा कि  निदेशक डाक सेवाएं के रूप में श्री कृष्ण कुमार यादव जी ने सभी को सकारात्मक रूप में कार्य करने को प्रोत्साहित किया।
श्री यादव को भावभीनी विदाई देते हुए जोधपुर मंडल के प्रवर डाक अधीक्षक श्री ओपी सोडिया ने कहा कि अपने कार्यकाल के दौरान निदेशक श्रीमान  यादव साहब ने तमाम विभागीय प्रोजेक्ट्स को त्वरित गति प्रदान की।  सीनियर पोस्टमास्टर श्री गुमान सिंह शेखावत ने कहा कि आप  स्टाफ और आमजन दोनों के प्रति संवदेनशील हैं। पाली मंडल के डाक अधीक्षक श्री बी. आर. राठौड़ ने कहा कि  विभागीय कार्यों में तत्परता के साथ -साथ सामाजिक और साहित्यिक सरोकारों से  अटूट लगाव, उन्हें एक संवेदनशील और लोकप्रिय अधिकारी के रूप में प्रतिष्ठित करता है। उनके बहुमुखी व्यक्तित्व और कृतित्व से सीखने की बात कही। 







इस अवसर पर डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने जोधपुर में अपने सवा तीन वर्ष के कार्यकाल के अनुभवों को शेयर करते हुए कहा कि जोधपुर रीजन में  सभी विभागीय प्रोजेक्ट्स को तत्परता के साथ लागू किया गया और इसमें सभी विभागीय अधिकारियों व कर्मचारियों ने भरपूर सहयोग दिया।  उन्होंने जोधपुर की आत्मीयता की प्रशंसा करते हुए कहा कि यहाँ के लोगों  ने जो अपणायत एवं स्नेह व सहयोग दिया, वह सदैव याद रहेगा।








इस अवसर पर विभिन्न मंडलों से पधारे प्रवर डाक अधीक्षक, डाक अधीक्षक के साथ-साथ सहायक डाकघर अधीक्षक, निरीक्षक डाक घर और पोस्टमास्टर जनरल कार्यालय में कार्यरत सभी अधिकारियों-कर्मचारियों ने डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव को भावभीनी विदाई देते हुए उनके प्रति अपने उद्गार व्यक्त किये। कार्यक्रम का संचालन सहायक डाकघर अधीक्षक श्री सुदर्शन सामरिया ने किया। 

डाक निदेशक कृष्ण कुमार यादव को जोधपुर से लखनऊ स्थानांतरण पर दी गयी भावभीनी विदाई
जोधपुर की स्वर्णिम स्मृतियों के साथ विदा हुए डाक निदेशक कृष्ण कुमार यादव
जोधपुर की अपणायत व  स्नेह कभी नहीं भूलूँगा -डाक निदेशक केके यादव 

Friday, August 10, 2018

Prasad of Kashi Vishwanath Mandir & Mahakaleshwar Jyotirling Mandir by Speed Post in Savan

This Savan, if you are unable to go for Bholenath's darshan then too there is no need to worry as you can easily get the prasad at your doorstep through postal services. Krishna Kumar Yadav, Director Postal services, Lucknow (Head Quartet) Region, Uttar Pradesh said, as per an agreement between the Kashi Vishwanath Mandir Trust of Varanasi and Department of Posts, prasad of Kashi Vishwanath Mandir is being made available at the home of devotees through Speed post.
Under this scheme devotees will have to send an e-money order of Rs 62/- to senior superintendent of post offices, Varanasi (East) and in return the devotee will get 'Bhabhuti' of the temple, 'Rudraksh' , a laminated photo of Lord Shiva and Shiva Chalisha as prasad from Kashi Vishwanath Mandir Trust, said Mr.  Yadav.
Director postal services, Krishna Kumar Yadav  further added that similarly prasad of renowned Shri Mahakaleshwar Jyotirling Mandir, Ujjain can also be ordered by speed post. A person is required to send an e-money order of Rs 251/- to Manager, Speed Post Centre, Ujjain and in return prasad including 200 gm sweets, Bhabhuti and a photo of Lord Shri Mahakaleshwar will be sent to the person through Speed Post. Mr. Yadav said the Prasad is delivered in waterproof envelopes to ensure safety and purity during the delivery.

सावन में घर बैठे स्पीड पोस्ट से पाएँ काशी विश्वनाथ मंदिर, बनारस और महाकालेश्वर मंदिर, उज्जैन का प्रसाद

सावन के महीने में भगवान शंकर की पूजा और उनके प्रसाद की बड़ी महिमा है। अक्सर लोगों की इच्छा होती है कि काश घर बैठे ही उन्हें बाबा भोलेनाथ का प्रसाद मिल सके। ऐसे में डाक विभाग ने इस बात के प्रबन्ध किये हैं कि देश के किसी भी कोने में बैठे शिवभक्त दो प्रमुख ज्योतिर्लिंगों - काशी विश्वनाथ मंदिर, बनारस और महाकालेश्वर मंदिर, उज्जैन का प्रसाद घर बैठे स्पीड पोस्ट द्वारा ग्रहण कर सकें। 

इस संबंध में जानकारी देते हुए लखनऊ (मुख्यालय) परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएँ कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि डाक विभाग और काशी विश्वनाथ मंदिर ट्रस्ट के बीच चल रहे एक एग्रीमेण्ट के तहत काशी विश्वनाथ मंदिर का प्रसाद स्पीड पोस्ट द्वारा लोगों को उपलब्ध कराया जा रहा है। इसके तहत 62  रूपये का ई-मनीआर्डर प्रवर डाक अधीक्षक, वाराणसी (पूर्वी), उत्तर प्रदेश के नाम भेजना होता है और बदले में वहाँ से काशी विश्वनाथ मंदिर ट्रस्ट के सौजन्य से मंदिर की भभूति, रूद्राक्ष, भगवान शिव की लेमिनेटेड फोटो और शिव चालीसा प्रेषक के पास प्रसाद रूप में भेज दिया जाता है। 

डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि काशी विश्वनाथ मंदिर के अलावा उज्जैन के प्रसिद्ध श्री महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर का प्रसाद भी डाक द्वारा मंगाया जा सकता है। इसके लिए मैनेजर, स्पीड पोस्ट सेण्टर, उज्जैन को 251 रूपये का ई-मनीआर्डर करना पड़ेगा और इसके बदले में वहाँ से स्पीड पोस्ट द्वारा प्रसाद भेज दिया जाता है। इस प्रसाद में 200 ग्राम लड्डू, भभूति और भगवान श्री महाकालेश्वर जी का चित्र शामिल है। 

डाक निदेशक श्री यादव ने बताया कि इस प्रसाद को प्रेषक के पास एक वाटर प्रूफ लिफाफे में स्पीड पोस्ट द्वारा भेजा जाता है, ताकि पारगमन में यह सुरक्षित और शुद्ध बना रहे। उन्होंने कहा कि भगवान शिव के इन सर्वप्रमुख ज्योतिर्लिंग के दर्शन की कामना समस्त विश्व में भक्तों की होती है, लेकिन सभी के लिए यहाँ पहुँचकर भगवत आराधना करना संभव नहीं हो पाता और इसी बात को ध्यान में रखते हुए डाक विभाग के माध्यम से भक्तों को शिव का सान्निध्य प्रदान करने की व्यवस्था की गई है।

Sukanya Samriddhi Yojana in Post Offices: Govt slashes minimum deposit to Rs 250


The Government of India has slashed the minimum annual deposit requirement for accounts under the Sukanya Samriddhi Yojana to Rs 250 from Rs 1,000 earlier, a move that will enable more number of people to take advantage of the girl child savings scheme.
The government has amended the Sukanya Samriddhi Account Rules, 2016, to state that the minimum initial deposit to open the account would be Rs 250. The minimum deposit that has to be made in the account annually thereafter too has been lowered to Rs 250 from Rs 1,000.

Union Minister Arun Jaitley in his 2018-19 Budget speech had said that Sukanya Samriddhi Account Scheme, launched in January 2015, has been a "great success". Till November 2017, more than 1.26 crore accounts have been opened across the country in the name of girl children, securing an amount of Rs 19,183 crore, Jaitley had said.

The interest rate on Sukanya Samriddhi Yojana account is revised every quarter, just like other small savings schemes and PPF. For the July-September quarter, the rate has been fixed at 8.1 per cent. Under the scheme, a parent or legal guardian can open an account in the name of the girl child until she attains the age of 10 years.

As per the government notification on the scheme, the account can be opened in any post office branch and designated public sector banks. The deposits made to the account, and also the proceeds and maturity amount, would be fully exempted from tax under section 80C of the Income Tax Act.

The minimum deposit that needs to be made every year is now Rs 250, while the maximum is Rs 1.50 lakh. There is no limit on the number of deposits either in a month or a financial year.

As per the scheme, the account will be valid for 21 years from the date of opening, after which it will mature and the money will be paid to the girl child in whose name the account has been opened.

Deposits can be made up to 14 years from the date of opening of the account. After this period, the account will only earn interest as per applicable rates.

सुकन्या समृद्धि योजना में खाता खोलना हुआ आसान, अब 250 रुपये से खुलेगा बेटियों का खाता

सुकन्या समृद्धि योजना में बेटियों  के लिए खाता खोलना आसान हो गया है. केंद्र सरकार ने अब इस योजना में सालाना न्यूनतम जमा राशि 1,000 रुपये से घटाकर 250 रुपये कर दी है. सरकार के इस फैसले से इस योजना का लाभ उठाने वाले लोगों की संख्या बढ़ेगी. केंद्र सरकार ने 2015 में इस योजना की शुरुआत की थी. सरकार ने सुकन्या समृद्धि अकाउंट रूल्स, 2016 में संशोधन कर दिया है. इससे अब हर साल 250 रुपये जमा करके इस योजना का लाभ उठाया जा सकता है. 
2018-19 का बजट पेश करने के दौरान वित्त मंत्री अरुण जेटली ने सुकन्या समृद्धि योजना को मोदी सरकार की बड़ी सफलताओं में से एक बताया था. जेटली ने बजट में कहा था कि नवंबर 2017 तक इस स्कीम के तहत 1.26 करोड़ खाते खुलवाए गए हैं. इस खाते में 19,183 करोड़ रुपये जमा हुए हैं. पीपीएफ एवं अन्य छोटी बचत योजनाओं की तरह इस स्कीम की ब्याज दर भी तिमाही आधार पर तय होती है. 
इस साल जुलाई-सितंबर तिमाही के लिए इस स्कीम की ब्याज दर 8.1 फीसदी तय की गई है. स्कीम के मुताबिक, बेटी के 10 साल तक होने तक उसके कानूनी अभिभावक या माता-पिता उसके नाम पर अकाउंट खुलवा सकते हैं. सुकन्या समृद्धि योजना के तहत किसी भी पोस्ट ऑफिस और सरकारी बैंक में अकाउंट खुलवाया जा सकता है. 
सुकन्या समृद्धि खाते में जमा और परिपक्वता राशि पर आयकर कानून की धारा 80 सी के तहत टैक्स छूट भी मिलती है. खाते में सालाना अधिकतम डेढ़ लाख रुपये जमा कराए जा सकते हैं. एक महीने या वित्त वर्ष में कितनी बार भी इस खाते में पैसा जमा कराया जा सकता है. योजना के तहत यह खाता खोलने की तारीख से 21 साल तक वैध रहेगा. उसके बाद यह परिपक्व होगा. खाता खोलने की तारीख से 14 साल तक इसमें राशि जमा कराई जा सकती है.