Friday, December 6, 2019

India Post Payments Bank : घर बैठे डाकिया के माध्यम से अपने बैंक खाते से निकालें राशि, डाकिया बना अब चलता-फिरता एटीएम

यदि आप सुदूर क्षेत्र में रह रहे हैं, जहाँ पर बैंक की शाखा या एटीएम सुविधा नहीं है तो अब आपको पैसे निकालने के लिए परेशान होने की जरूरत नहीं है। शहरों में भी बैंक या एटीएम की लाईन में लगने की बजाय अब आप घर बैठे अपने इलाके के डाकिया के माध्यम से अपने बैंक खाते से पैसे निकाल सकते हैं। बस आपका खाता आधार और मोबाईल नंबर से लिंक होना चाहिए। इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक की "आधार इनेबल्ड पेमेंट सिस्टम सेवा"  (Aadhaar Enabled Payment System (AePS) ) के तहत इसका लाभ उठाया जा सकता है। यह जानकारी लखनऊ मुख्यालय परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएँ कृष्ण कुमार यादव (Krishna Kumar Yadav, Director Postal services, Lucknow HQ Region) ने दी। "आपका बैंक आपके द्वार" के तहत कार्य करते हुए इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक (India Post Payments Bank)ने  जनमानस में अपनी सुदृढ़ उपस्थिति दर्ज कराई है। उत्तर प्रदेश में इसके 18 लाख से अधिक खाते खुले हैं। इसमें खाता खुलवाना भी बेहद आसान है।






डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि, इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक द्वारा आरम्भ "आधार इनेबल्ड पेमेंट सिस्टम (AEPS) के माध्यम से अब कोई भी व्यक्ति अपने  बैंक के आधार-लिंक्ड खाते से धनराशि डाकघर के काउंटर्स  (Post Office Counters) या डाकिया (Postman) के माध्यम से निकाल सकता है। अक्टूबर में आरम्भ होने के बाद, उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में लगभग 50 हजार लोगों ने इसका लाभ उठाया है। इसमें एक दिन में अधिकतम दस हजार रूपये निकाले जा सकते हैं। इसके लिए किसी भी प्रकार का चार्ज नहीं लिया जायेगा। ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले लोग अपने इलाके के डाकिये के माध्यम से भी किसी बैंक से पैसे निकाल सकते हैं, बशर्ते खाता आधार से लिंक होना चाहिए। इस सुविधा के आने से घर-घर तक डाक पहुँचाने वाला डाकिया अब चलता फिरता एटीएम (ATM) हो गया है।

डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक के माध्यम से  विभिन्न सरकारी योजनाओं में सहायता राशि लाभार्थियों को उनके घर पर प्रदान की जा रही है, जिनमें  प्रमुख रूप से निक्षय भारत योजना के अंतर्गत टी.बी के मरीज़, प्रधान मंत्री मातृत्व वंदन योजना के अंतर्गत गर्भवती महिलाओं, दिव्यांग पेंशन योजना, वृद्धावस्था योजना, किसान सम्मान निधि  के लाभार्थी शामिल हैं। आईपीपीबी उत्तर प्रदेश के एजीएम अविनाश सिन्हा ने बताया कि इन लाभार्थियों को  जिनको पहले बैंक में  देर तक लाइन लगाकर लेनदेन करना पड़ता था अब उनके आधार के माध्यम से खाता खोलने के साथ जमा निकासी की सुविधा भी डाकिये द्वारा उनके घर पर प्रदान की जा रही है।  इसके अतिरिक्त अन्य सभी सरकारी योजनाओं के खाते भी समस्त प्रदेश में बड़ी संख्या में खोले जा रहे हैं। आईपीपीबी न सिर्फ अपने खातों से बल्कि अन्य बैंको के आधार लिंक्ड खातों से भी ग्राहकों को धनराशि आहरित करने की सुविधा प्रदान कर रहा है।





My Stamp in Sitapur Head Post Office : डाक निदेशक के.के. यादव ने सीतापुर प्रधान डाकघर में किया माई स्टाम्प सेवा का शुभारम्भ

डाक विभाग अपनी सेवाओं की विविधता एवं नवीन टेक्नालाजी द्वारा नित नये आयाम रच रहा है। इसी कड़ी में लखनऊ मुख्यालय परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवायें श्री कृष्ण कुमार यादव (Krishna Kumar Yadav, Director Postal Services, Lucknow HQ Region) ने सीतापुर प्रधान डाकघर में माई स्टाम्प सेवा एवं डायनमिक क्यू मैनेजमेंट सिस्टम का 4 दिसंबर, 2019 को शुभारम्भ किया। माई स्टाम्प (My Stamp) के माध्यम से डाक टिकट पर अब आमजनों की तस्वीर लग सकेगी वहीँ डायनमिक क्यू मैनेजमेंट सिस्टम (Digital Queue Management System) के माध्यम से ग्राहकों को अपना कार्य कराने के लिए डाकघर में लम्बी क़तार में खड़े होना नहीं पड़ेगा। 





शुभारम्भ अवसर पर प्रथम कस्टमर के रूप में मदर्स प्राइड स्कूल की मैनेजिंग डायरेक्टर सुश्री मोनिका आनन्द को डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव  ने माई स्टैम्प प्रदान किया| इस अवसर पर केंद्रीय विद्यालय सीतापुर के प्रधानाचार्य श्री सुनील कुमार व जिला क्षय रोग अधिकारी श्री मुसाफिर यादव व डाक अधीक्षक श्री एच.के. यादव उपस्थित थे। 


इस अवसर पर प्रधान डाकघर परिसर में आयोजित वृहद् डाक मेले का शुभारम्भ करते हुए निदेशक डाक सेवायें श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि डाक विभाग ने शहर से लेकर ग्रामीण स्तर तक डाक सेवाओं में अमूलचूल परिवर्तन किये हैं। चिट्ठी-पत्री और मनीआर्डर के लिए जाना जाने वाला डाक विभाग अब डिजिटल टेक्नालाजी (Digital Technology) और वित्तीय समावेशन (Financial inclusion) के लिए प्रतिबद्ध है। डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि सीतापुर में बचत, बैकिंग, बीमा, ई-कामर्स, आधार, इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक (India Post payments bank), पोस्ट आफिस पासपोर्ट सेवा केंद्र जैसे क्षेत्रों में डाकघर नवीन टेक्नालाजी के साथ लोगों की जरूरतें पूरी कर रहे हैं। 
डाक कर्मियों से रूबरू होते हुए डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि फील्ड में उनकी कार्य गतिविधियाँ ही विभाग के प्रति लोगों की अवधारणा बनाती है, ऐसे में उन्हें ग्राहकों के प्रति ज्यादा संवेदनशील होने ही जरूरत है। आज के प्रतियोगी दौर में यह सोचना कि मात्र काउंटर पर सेवायें देकर जनता को आकर्षित किया जा सकता है, उचित नहीं है। ज्यादा राजस्व के लिए हमे खुद लोगों के पास जाना होगा, नियमित संवाद स्थापित करते हुए उन्हें सेवाओं और गुणवत्ता के बारे में जागरूक करना होगा, तभी लक्ष्यों की प्राप्ति हो सकेगी।

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी द्वारा आरम्भ “बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ” अभियान के तहत बेटियों के सुकन्या समृद्धि खाते (Sukanya Samriddhi Yojana) खुलवाकर डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव द्वारा उन्हें पासबुक प्रदान की गयी तथा डाक जीवन बीमा (Postal Life Insurance) व ग्रामीण डाक जीवन बीमा धारकों को पॉलिसी बांड भी वितरित किये गये। सीतापुर डाक मण्डल में विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट कार्य करने वाले डाक कर्मियों को भी डाक निदेशक ने सम्मानित कर उनकी पीठ थपथायी।
डाक अधीक्षक श्री एच.के. यादव ने कार्यक्रम में उपस्थित अतिथियों का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि सीतापुर मण्डल का स्टाफ पूरी प्रतिबद्धता के साथ कार्य करते हुए विभागीय लक्ष्यों की प्राप्ति सुनिश्चित करेगा। इस अवसर पर सहायक अधीक्षक अरुण कुमार शुक्ल, विकास मिश्र, डाक निरीक्षक सोनेलाल, जे.पी. त्रिवेदी, मो. इकबाल, पोस्टमास्टर अनिल कुमार शुक्ला, इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक मैनेजर रानू अग्रवाल सहित डाक विभाग के तमाम अधिकारी-कर्मचारी, बचत अभिकर्तागण इत्यादि उपस्थित रहे।




डाक निदेशक कृष्ण कुमार यादव  यादव ने सीतापुर प्रधान डाकघर में किया माई स्टाम्प सेवा का शुभारम्भ
डाक टिकट पर अपनी फोटो देख लोग हुए प्रफुल्लित, 510 लोगों ने बनवाई माई स्टाम्प
डिजिटल भारत और वित्तीय समावेशन में डाक विभाग नई भूमिका निभाने के लिए तत्पर- डाक निदेशक कृष्ण कुमार यादव 

Wednesday, November 27, 2019

Sukanya Samriddhi Yojana : डाक विभाग ने लखनऊ परिक्षेत्र में 576 गाँव बनाये सम्पूर्ण सुकन्या समृद्धि ग्राम

'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' के तहत प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी  द्वारा आरम्भ की गई 'सुकन्या समृद्धि योजना' में लखनऊ डाक परिक्षेत्र ने पहल करते हुए नई इबारत लिखी है। इसके तहत डाकघरों में जहाँ 10 साल तक की बेटियों के खूब खाते खोले गए हैं, वहीं कई गाँवों में सभी बेटियों के खाते खुलवाकर उन्हें  सम्पूर्ण सुकन्या समृद्धि ग्राम बना दिया है।
इस सम्बन्ध में लखनऊ मुख्यालय परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएँ श्री कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि लखनऊ परिक्षेत्र  में अब तक 576 गाँवों को संपूर्ण  सुकन्या समृद्धि ग्राम बना दिया गया है। इन गाँवों में दस साल तक की सभी योग्य बालिकाओं के सुकन्या खाते डाकघर में खोले जा चुके हैं। यही नहीं, इन गाँवों में यदि किसी घर में बेटी के जन्म की किलकारी गूँजती  है तो डाकिया तुरंत उसका सुकन्या खाता खुलवाने हेतु पहुँच जाता है। डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि बालिकाओं के आर्थिक सशक्तिकरण की दिशा में उठाये गए इस कदम के तहत लखनऊ परिक्षेत्र के डाकघरों में सुकन्या समृद्धि योजना के तहत 2 लाख 41 हजार खाते खोले जा चुके हैं। विभिन्न स्कूलों में अभियान चलाकर भी इससे सभी योग्य बालिकाओं को जोड़ा जायेगा।  

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने जनवरी, 2015 में 'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' अभियान के तहत सुकन्या  समृद्धि योजना  का आगाज किया था। इसके तहत किसी भी डाकघर में न्यूनतम 250 रूपये से दस साल तक की बालिकाओं का सुकन्या समृद्धि खाता खुलवा सकते है। डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि इसमें  एक वित्तीय वर्ष में न्यूनतम 1,000 और अधिकतम डेढ़ लाख रूपये तक जमा किये जा सकते हैं। इस योजना में खाता खोलने से मात्र 15 वर्ष तक धन जमा कराना होगा।  बेटी की उम्र 18 वर्ष होने पर जमा राशि का 50 प्रतिशत व सम्पूर्ण राशि 21 वर्ष पूरा होने पर निकाली जा सकती है। वर्तमान में ब्याज दर 8.5 प्रतिशत है और जमा धनराशि में आयकर छूट का भी प्रावधान है।

डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि सुकन्या समृद्धि योजना सिर्फ निवेश का ही एक माध्यम नहीं है, बल्कि यह बालिकाओं के उज्ज्वल व समृद्ध भविष्य से भी जुडा हुआ है। इस योजना के आर्थिक के साथ-साथ सामाजिक आयाम भी महत्वपूर्ण हैं। इसमें जमा धनराशि पूर्णतया बेटियों के लिए ही होगी, जो उनकी शिक्षा, कैरियर एवं विवाह में उपयोगी होगी। यह योजना बालिकाओं के सशक्तिकरण के द्वारा भविष्य में नारी सशक्तिकरण को भी बढ़ावा देगी। 









डाक विभाग की पहल : डाक विभाग ने लखनऊ परिक्षेत्र में 576 गाँव बनाये सम्पूर्ण सुकन्या समृद्धि ग्राम

प्रधानमंत्री के 'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' अभियान को डाक विभाग दे रहा मूर्त रूप, घर-घर जाकर डाककर्मी खोल रहे सुकन्या खाते  




La Martiniere Girls college Lucknow : Special Cover released by India Post, Uttar Pradesh Circle

 
ला मार्टिनियर गर्ल्स कॉलेज, लखनऊ के 150 वर्ष पूरे होने पर भारतीय डाक विभाग द्वारा एक विशेष आवरण व विरुपण जारी किया गया। कॉलेज ऑडिटोरियम में आयोजित कार्यक्रम में उत्तर प्रदेश परिमण्डल के चीफ पोस्टमास्टर जनरल कौशलेन्द्र कुमार सिन्हा एवं निदेशक डाक सेवायें लखनऊ (मुख्यालय) परिक्षेत्र कृष्ण कुमार यादव ने 23 नवंबर, 2019 को यह विशेष आवरण व विरुपण जारी किया।
इस अवसर पर चीफ पोस्टमास्टर जनरल कौशलेन्द्र कुमार सिन्हा ने ला मार्टिनियर गर्ल्स कॉलेज, लखनऊ (La Martiniere Girls college Lucknow) के 150 गौरवशाली वर्ष पूरा होने पर बधाई देते हुए कहा कि इस विशेष आवरण के माध्यम से कॉलेज की प्रसिद्धि देश-दुनिया में और भी विस्तार पायेगी। उन्होंने कहा कि आज के बच्चों  और युवा पीढ़ी को फिलेटली के माध्यम से अपनी संस्कृति और विरासत से जोड़ा जा सकता है।  
निदेशक डाक सेवायें लखनऊ (मुख्यालय) परिक्षेत्र कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि लखनऊ की तमाम महत्वूर्ण संस्थाओं और व्यक्तित्व को डाक विभाग ने डाक टिकटों और स्पेशल कवर के माध्यम से विशेष पहचान दी है।  इसी कड़ी में ला मार्टिनियर गर्ल्स कॉलेज, लखनऊ पर जारी विशेष आवरण को भी देखा जाना चाहिए। श्री यादव ने कहा  कि लखनऊ के विभिन्न स्कूलों में अभियान चलाकर वहाँ पर फिलेटली क्लब खोले जायेंगे और डाक टिकट संग्रह को एक अभिरुचि के रूप में विकसित करने हेतु विद्यार्थियों को प्रोत्साहित किया जायेगा। 
ला मार्टिनियर गर्ल्स कॉलेज, लखनऊ की प्रधानाचार्य आश्रिता दास ने इस विशेष आवरण हेतु डाक विभाग का आभार व्यक्त किया। 
इस अवसर पर कार्यक्रम की मुख्य अतिथि पद्मश्री डॉ. सुमन सहाय, ला मार्टिनियर गर्ल्स कॉलेज, लखनऊ की प्रधानाचार्य आश्रिता दास,चीफ पोस्टमास्टर आर.एन. यादव, एस.अब्बास व आई कपूर सहित स्कूल के सभी अध्यापकगण, विद्यार्थी और पुराछात्र उपस्थित रहे।