Tuesday, July 13, 2021

Postman becomes mobile bank & opening paperless IPPB Account on door step during Corona Pandemic - Postmaster General Krishna Kumar Yadav



More than 7,000 people opened India Post Payments Bank account in a single day on 12th July by the Postal Department during a special Mahalogin campaign in Varanasi Region. These paperless accounts were opened only by Aadhaar and mobile number, promoting the ambitious scheme of Hon'ble Prime Minister Mr. Narendra Modi ji, promoting digital banking and financial inclusion. The above information was given by Shri Krishna Kumar Yadav, Postmaster General of Varanasi Region. So far 3.72 lakh people in Varanasi Region have joined India Post Payments Bank and are availing its services at doorstep. Now the maximum limit in IPPB account has also been increased from ₹ 1 lakh to ₹ 2 lakh.

Postmaster General Shri Krishna Kumar Yadav said that through India Post Payments Bank, digital and paperless banking facility is being made available at door step. This will make easier for people to get DBT amount through IPPB sitting at home in future also. Through this account, all the facilities like mobile and DTH recharge, electricity and water bill payment will be available. The Postman is reaching at places where no other service providers reaches. Now postmen and Gramin Dak Sevaks have become mobile banks.

Postmaster General Shri Krishna Kumar Yadav informed that, the DBT amount or deposits received in other banks through Aadhar enabled payment system are also being paid through micro ATMs by Postal dept. For this also, a special Mahalogin campaign in the entire Varanasi Region was organized on July 10 and amount of Rs. 1.73 Crores was made available at beneficiary's doorstep. Total of 10,650 people were benefited from AePS service. During the corona epidemic. Postal Department has paid an amount of Rs 314 crore to more than 10 lakh people in Varanasi Region, till now.


Postal Department  opening paperless accounts at doorstep, opened 7000 IPPB Accounts in Varanasi Region in a day

Postman becomes mobile bank & opening paperless IPPB Account on door step during Corona Pandemic - Postmaster General Krishna Kumar Yadav

India Post Payments Bank Mahalogin : वाराणसी परिक्षेत्र में खुले एक दिन में 7 हजार से ज्यादा इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक खाते, घर बैठे पेपरलेस खाते खोल रहा डाक विभाग

डाक विभाग द्वारा वाराणसी परिक्षेत्र में विशेष महालॉगिन अभियान चलाकर एक ही दिन में 12 जुलाई, 2021 को सात  हजार से ज्यादा लोगों के इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक खाते खुलवाए गए। माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के महत्वाकांक्षी योजना डिजिटल बैंकिंग और वित्तीय समावेशन को बढ़ावा देते हुए मात्र आधार व मोबाईल नम्बर द्वारा ये पेपरलेस खाते खोले गए। उक्त जानकारी वाराणसी परिक्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने दी। वाराणसी परिक्षेत्र में अब तक 3.72 लाख लोग इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक से जुड़ चुके हैं और घर बैठे इसकी सेवाओं का लाभ उठा रहे हैं। अब आईपीपीबी खाते में अधिकतम राशि 1 लाख से बढ़ाकर 2 लाख कर दी गई है।



पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि इंडिया पोस्ट पेमेंटस बैंक के माध्यम से हर किसी के लिए घर से लेकर खेतों तक  सहजता से डिजिटल और पेपरलेस बैंकिंग की सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है। इससे लोगों को भविष्य में भी घर बैठे आईपीपीबी के माध्यम से डीबीटी राशि प्राप्त करने में आसानी होगी। इस खाते के माध्यम से मोबाईल व डीटीएच रिचार्ज, बिजली व पानी बिल भुगतान जैसी तमाम सुविधाएँ मिलेंगी। जहाँ कोई नहीं पहुँचता, वहाँ डाकिया पहुँच रहा है। अब डाकिया और ग्रामीण डाक सेवक चलते- फिरते बैंक बन गए हैं। 

पोस्टमास्टर जनरल श्री यादव ने बताया कि इसी क्रम में आधार इनेबल्ड पेमेंट सिस्टम द्वारा अन्य बैंकों में प्राप्त डीबीटी राशि या जमा राशि का भी माइक्रो एटीएम द्वारा भुगतान किया जा रहा है। इसके लिए भी 10 जुलाई को पूरे वाराणसी परिक्षेत्र में विशेष महालॉगिन अभियान चलाकर 1 करोड़ 73 लाख रुपये की राशि लोगों उनके दरवाजे पर उपलब्ध कराई गई। इससे कुल 10,650 लोग लाभान्वित हुए। कोरोना महामारी के दौरान अब तक डाक विभाग इसके तहत 10 लाख से ज्यादा लोगों को 314 करोड़ रुपये की राशि का भुगतान कर चुका है।
















डाक विभाग का महालॉगिन अभियान :  वाराणसी परिक्षेत्र में खुले एक दिन में  7 हजार से ज्यादा इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक खाते, घर बैठे पेपरलेस खाते खोल रहा डाक विभाग

डाकिया बना चलता-फिरता बैंक, कोरोना वॉरियर्स के रूप में अब नई भूमिका - पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव

Wednesday, July 7, 2021

Aadhaar Enrollment & Updation in Post Offices : 7 lakh people felicitated by Post Offices of Varanasi Region


डाक विभाग द्वारा नया आधार कार्ड बनवाने या फिर उसमे संशोधन कराने के लिए वाराणसी परिक्षेत्र के डाकघरों  में  6 जुलाई, दिन मंगलवार को विशेष अभियान चलाया गया। वाराणसी परिक्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव के निर्देश पर चलाये गए इस अभियान के दौरान एक दिन में ही लगभग ढाई हजार लोगों का आधार नामांकन और अपडेशन किया गया। 

यह अभियान वाराणसी, भदोही, चंदौली, गाजीपुर, जौनपुर व बलिया के 129 डाकघरों में कोविड 19 प्रोटोकाल का अनुपालन करते हुए चला, जिसे लोगों ने भरपूर सराहा। अधिकतर डाकघरों में देर शाम तक आधार का कार्य हुआ, ताकि लोगों को निराश न लौटना पड़े।

पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि पोस्ट ऑफिस में आधार सेवाओं का लाभ कोई भी ले सकता है। वाराणसी परिक्षेत्र में अब तक लगभग 7 लाख से ज्यादा लोगों का आधार नामांकन व संशोधन किया जा चुका है। अकेले कोरोना महामारी के द्वितीय लहर के दौरान अप्रैल 2021 से 43 हज़ार से ज्यादा लोगों का आधार नामांकन व संशोधन किया गया हैI

सहायक निदेशक श्री संजय कुमार वर्मा ने बताया कि डाकघरों में नया आधार पूर्णतया नि:शुल्क बनाया जाता है।  डेमोग्राफिक संशोधन (नाम, जन्म तिथि, लिंग, पता, मोबाइल व ईमेल) हेतु ₹50/- और बायोमेट्रिक संशोधन (फिंगरप्रिंट, आईरिस व फोटो) हेतु ₹100/- शुल्क देना होता हैI यह अभियान वाराणसी के 46, गाजीपुर के 19, जौनपुर के 27, बलिया के 22, भदोही के 5 व चंदौली जनपद के 10 डाकघरों में चला।

वाराणसी परिक्षेत्र के डाकघरों में अब तक हुआ 7 लाख से ज्यादा लोगों का आधार नामांकन व संशोधन - पोस्टमास्टर जनरल  कृष्ण कुमार यादव

डाक विभाग द्वारा विशेष अभियान में एक दिन में ढाई हजार लोगों का आधार नामांकन व अपडेशन का हुआ कार्य


7 lakh people got Aadhaar enrollment and updation service in the Post Offices of Varanasi Region so far - Postmaster General Krishna Kumar Yadav

Department of Posts launched special drive for Aadhaar, 2,500  enrollment and updation  done in a day

A special drive was launched by the Postal Department on Tuesday, July 6 in the Post Offices of Varanasi Region to get a new Aadhaar card and updation. On the instructions of the Postmaster General of Varanasi Region Mr. Krishna Kumar Yadav, Aadhaar enrollment and updation of about 2500 people was done in a single day.

This campaign was carried out in 129 Post Offices of Varanasi, Bhadohi, Chandauli, Ghazipur, Jaunpur and Ballia District following the COVID 19 protocol, which was highly appreciated by the people. Aadhaar work was done till late evening in most of the Post Offices, so that people do not have to return disappointed.

Postmaster General Mr. Krishna Kumar Yadav said that anyone can get the facility of Aadhaar services in the Post Office. So far, Aadhaar enrollment and modification of more than 7 lakh people has been done in Varanasi Region. During the second wave of Corona pandemic, Aadhaar enrollment and modification of more than 43,000 people have been done since April 2021.

Assistant Director Mr. Sanjay Kumar Verma said that new Aadhaar is made completely free of cost in post offices. ₹ 50/- is to be paid for demographic updations (name, date of birth, gender, address, mobile and email) and ₹ 100/- for biometric updation (fingerprint, iris and photo). This campaign was conducted in 46 Post Offices of Varanasi, 19 Post Offices of Ghazipur, 27 Post Offices in Jaunpur, 22 Post Offices in Ballia, 5 Post Offices in Bhadohi and 10 Post Offices in Chandauli District.









Friday, July 2, 2021

National Postal Workers Day: Various changes in the role of Postal employees, playing the role of 'Corona warriors'

Have you ever wondered how many difficulties the postman of your area faces during delivering mail to your doorstep? Have you ever thanked your postman for this? If not, you can express your gratitude to them on 'National Postal Workers Day' on 1st July. The concept of 'National Postal Workers' Day' came from America, where this special day was started in the year 1997 in the city of Seattle in Washington State in honor of the Postal workers. Gradually it started being celebrated in other countries including India. This day is celebrated in honor of the service rendered by Postal workers across the world.

Mr. Krishna Kumar Yadav, Postmaster General of Varanasi Region informed that Postal services have played an important role in the field of communication all over the world. When there were no other means of communication, Postal services were the main means of communication between people around the world. Even today, Postal employees are working with the same diligence to deliver essential things in the form of letters, parcels and money orders to the people. 

Regardless of winter, summer, rain, providing Postal services in remote areas, hilly, desert and inaccessible areas as well as delivering mail at the doorstep. Important documents like appointment letters, passport, driving license, Aadhar, cheque book, ATM card along with prasad of various temples and TB sputum are being delivered by postmen. From distribution of medicines, masks, PPE kits, corona kits to door-to-door banking services, Postal workers have now become 'Corona Warriors', playing an active role in the fight against COVID-19. Prime Minister Mr. Narendra Modi has also appreciated the Postal services for this.

Postmaster General Mr. Krishna Kumar Yadav said that the postman is the most vocal face of the Postal Department. The identity of the postman has been to deliver letters and money orders, but now the postman has a smart phone in his hand and a digital device in the bag. With the launch of India Post Payments Bank, Postmen are playing a new role as an moving ATM as a part of economic and social inclusion. In Varanasi region, about 2400 postmen knock on the doors of the people everyday. On normal days, 4.5 lakhs per month and during the COVID period, 1.70 lakhs speed posts, registered letters are distributed. Apart from this, about 12 lakh ordinary letters are also distributed by postmen in Varanasi Region every month. To promote e-commerce, various innovative initiatives by the Department like cash on delivery, new mobile app to remove regular mail from letter boxes and smart phone based delivery by postmen has been taken.


'National Postal Workers Day': Various changes in the role of Postal employees, playing the role of 'Corona warriors'

Don't forget to thanks the Postal employee of your area on 'National Postal Workers Day'!

Postman become hi-tech with smart phone in hand and digital device in bag


Thursday, July 1, 2021

नेशनल पोस्टल वर्कर्स डे : डाककर्मियों की भूमिका में हुए तमाम बदलाव, निभा रहे 'कोरोना योद्धा' की भूमिका

कभी आपने सोचा है कि आपके क्षेत्र का डाकिया कितनी मुश्किलों के बीच आपके दरवाजे तक डाक पहुँचाता है। कभी आपने अपने डाकिया बाबू को इसके लिए धन्यवाद कहा है ! यदि नहीं तो 1 जुलाई को आप 'नेशनल पोस्टल वर्कर्स डे' के दिन उसका आभार व्यक्त कर सकते हैं। 'नेशनल पोस्टल वर्कर डे' की अवधारणा अमेरिका से आई, जहाँ वाशिंगटन राज्य के सीऐटल शहर में वर्ष 1997 में  कर्मचारियों के सम्मान में इस विशेष दिवस की शुरुआत की गई । धीरे-धीरे इसे भारत सहित अन्य देशों में भी मनाया जाने लगा। यह दिन दुनिया भर में डाक कर्मियों द्वारा की जाने वाली सेवा के सम्मान में मनाया जाता है। 

वाराणसी क्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि डाक सेवाओं ने संचार के क्षेत्र में पूरी दुनिया में अपनी अहम भूमिका निभाई है।  जब संचार के अन्य साधन नहीं थे, तो डाक सेवाएँ ही दुनिया भर में लोगों के बीच संवाद का अहम जरिया थीं। आज भी डाककर्मी उतनी ही तन्मयता से लोगों तक पत्रों, पार्सल और मनीऑर्डर के रूप में जरूरी चीजें पहुँचाने का कार्य कर रहे हैं। जाड़ा, गर्मी, बरसात की परवाह किये बिना सुदूर क्षेत्रों, पहाड़ी, मरुस्थली और दुर्गम क्षेत्रों में डाक सेवाएँ प्रदान करने के साथ-साथ दरवाजे पर जाकर डाक वितरण कर रहे हैं। नियुक्ति पत्र, पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस, आधार, चेक बुक, एटीएम जैसे महत्वपूर्ण दस्तावेजों के साथ-साथ विभिन्न मंदिरों के प्रसाद और टीबी बलगम तक डाकियों द्वारा पहुँचाये  जा रहे हैं। कोरोना संक्रमण के दौर में दवाओं, मास्क, पीपीई किट्स, कोरोना किट्स के वितरण से लेकर घर-घर बैंकिंग सेवा पहुँचाने वाले डाककर्मी अब  'कोरोना योद्धा' बन गए हैं, जो कोविड-19  के खिलाफ लड़ाई में सक्रिय भूमिका निभा रहे हैं। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी भी इसके लिए डाककर्मियों की सराहना कर चुके हैं। 



पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि डाक विभाग का सबसे मुखर चेहरा डाकिया है। डाकिया की पहचान चिट्ठी-पत्री और मनीऑर्डर बाँटने वाली रही है, पर अब डाकिए के हाथ में स्मार्ट फोन है और बैग में एक डिजिटल डिवाइस भी है। इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स  बैंक के शुभारम्भ के बाद आर्थिक और सामाजिक समावेशन के तहत पोस्टमैन चलते-फिरते  एटीएम  के रूप में नई भूमिका निभा रहे हैं। वाराणसी परिक्षेत्र में लगभग 2400 डाकिया लोगों के दरवाजे पर हर रोज दस्तक लगाते हैं। सामान्य दिनों में प्रति माह साढ़े 4 लाख तो कोविड काल के दौरान 1 लाख 70 हजार स्पीड पोस्ट, पंजीकृत पत्र वितरित किये जाते हैं।  इसके अलावा प्रतिमाह लगभग 12 लाख साधारण पत्रों का वितरण भी डाकियों द्वारा वाराणसी परिक्षेत्र में किया जाता है। ई-कामर्स को बढ़ावा देने हेतु कैश ऑन डिलीवरी, लेटर बाक्स से नियमित डाक निकालने हेतु नन्यथा मोबाईल एप एवं डाकियों द्वारा एण्ड्रोयड बेस्ड स्मार्ट फोन आधारित डिलीवरी जैसे तमाम कदम डाक विभाग की अभिनव पहल हैं।









Tuesday, June 22, 2021

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव ने जारी किया स्पेशल कैंसिलेशन, 'बी विद योगा, बी एट होम' के तहत मनाया अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस,

'अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस' पर डाक विभाग के अधिकारियों-कर्मचारियों ने कोविड प्रोटोकाल के तहत घर पर रहकर योग दिवस मनाया। कोरोना महामारी के चलते इस वर्ष भारत सरकार ने लोगों से 'बी विद योगा, बी एट होम' का अनुपालन करते हुए 21 जून को सातवाँ अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाने की अपील की थी। इसी क्रम में वाराणसी परिक्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव सहित ने घर पर योग किया और लोगों को भी इस ओर प्रेरित किया। 







इसी क्रम में लोगों को योग दिवस की महत्ता बताने हेतु कैण्ट प्रधान डाकघर में पोस्टमास्टर जनरल ने विशेष विरूपण (स्पेशल कैंसिलेशन) भी जारी किया, जिसे सभी प्रधान डाकघरों में योग दिवस के दिन प्राप्त होनी वाली समस्त डाक पर लगाया गया। वेबिनार के माध्यम से भी डाककर्मियों को योगाभ्यास कराया गया। 

इस अवसर पर पोस्टमास्टर जनरल  श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि, योग जीवन का वह दर्शन है,जो मनुष्य को उसकी आत्मा से जोड़ता है और मनुष्य के मानसिक, शारीरिक व आध्यात्मिक ऊर्जा को बढ़ाता है। योग न सिर्फ हमें नकारात्मकता से दूर रखता है अपितु हमारे मनोमस्तिष्क में अच्छे विचारों का निर्माण भी करता है। श्री यादव ने कहा कि, कोरोना महामारी के दौर में योग का महत्त्व और अधिक बढ़ जाता है, जिसे अपनाकर हम सभी को स्वस्थ भारत के निर्माण में सहभागी बनना चाहिए। डाक विभाग के अधिकारी-कर्मचारी इस समय 'कोरोना वॉरियर्स' के रूप में कार्य करते हुए फील्ड में तमाम सेवाएँ दे रहे हैं, ऐसे में 'योग फॉर वेलनेस' की भावना उन्हें और भी मजबूत बनाएगी।

सहायक निदेशक श्री राम मिलन ने कहा कि, भारतीय संस्कृति की अमूल्य और विलक्षण धरोहर एवं मानव के उत्तम स्वास्थ्य का आधार योग है। वाराणसी पश्चिमी मंडल के अधीक्षक डाकघर श्री संजय कुमार वर्मा ने कहा कि मानसिक व शारीरिक लाभ के साथ नैतिक बल भी प्रदान करने वाली योग पद्धति ने कोरोना महामारी में बहुत संबल प्रदान किया है। इस अवसर पर कैण्ट प्रधान डाकघर के पोस्टमास्टर रमाशंकर वर्मा, सहायक अधीक्षक अजय कुमार, सहायक लेखा अधिकारी संतोषी राय, डाक निरीक्षक श्रीकांत पाल, वीएन द्विवेदी, श्री प्रकाश गुप्ता, भी उपस्थित रहे।












मनुष्य के मानसिक, शारीरिक व आध्यात्मिक ऊर्जा को बढ़ाता है योग - पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव

पत्रिका : डाक विभाग ने 'बी विद योगा, बी एट होम' के तहत मनाया अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस, चिट्ठियों पर लगी विशेष मुहर 

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव ने जारी किया स्पेशल कैंसिलेशन, चिट्ठियों ने भी किया लोगों को जागरूक

कोरोना महामारी के दौर में योग को अपनाकर स्वस्थ भारत के निर्माण में बनें सहभागी -पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव