Saturday, October 9, 2021

Department of Posts launched special drive for Sukanya Samriddhi Scheme in Navaratri Festival

Postal Department has launched a campaign 'Samriddh Sukanya -  Samriddh Samaj' to take the benefits of 'Sukanya Samridhhi Yojana' launched by Prime Minister Shri Narendra Modi under the 'Beti Bachao, Beti Padhao' scheme.  Under this,  Department of Posts will now reach every house.  In this regard, the Postmaster General of Varanasi Region, Mr. Krishna Kumar Yadav, held a meeting with all the Divisional Superintendents through video-conferencing and gave instructions.

Postmaster General Mr. Krishna Kumar Yadav told that under Sukanya Samriddhi Yojana, the account of girls up to the age of 10 years can be opened in the Post Office. It offers 7.6% interest, which is higher than any small savings scheme. This account, which opens with only ₹ 250, is like a boon for the education and marriage of daughters. There is also a provision of exemption of up to 1.5 lakh in income tax under section 80C of Income Tax.  To open a Sukanya Samriddhi account,  public may contact the nearest Post Office with a copy of the birth certificate of the girl child, a copy of the Aadhaar card of her mother or father along with two photographs. Mr. Yadav said that this will provide more merit if account is opened in Post Office during Navratri. Girls have a lot of importance in Navratri.  During this, there is also a tradition of giving gifts to girls by inviting them to their homes for worship. Sukanya Account can be gift to girl child also.

Department of Posts has also issued a mobile number to connect people with the 'Samridhh Sukanya - Samridhh Samaj' campaign.  Senior Superintendent of Post Office, Varanasi East Division, Mr. Rajan said that for opening Sukanya Samriddhi account, numbers 9026632633 and 9454777544 can be called in Varanasi.  With this, parents can also get complete information about the scheme by contacting them and they will also be fully supported in opening the account.

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा 'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' योजना के अंतर्गत शुरू किए गए 'सुकन्या समृद्धि योजना' का लाभ जन-जन तक पहुंचाने के लिए भारतीय डाक विभाग ने 'समृद्ध सुकन्या-समृद्ध समाज' अभियान चलाया है। इसके तहत विभाग अब हर घर में पहुंचेगा। इस संबंध में वाराणसी परिक्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने सभी मण्डलाधीक्षकों के साथ वीडियो-कांफ्रेंसिंग के माध्यम से मीटिंग कर निर्देश दिए।

पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि सुकन्या समृद्धि योजना के तहत 10 वर्ष तक की बेटियों का खाता डाकघर में खुलवाया जा सकता है। इसमें 7.6% ब्याज मिलता है, जो कि किसी भी लघु बचत योजना से अधिक है। मात्र ₹ 250 से खुलने वाला यह खाता बेटियों की पढ़ाई एवं शादी के लिए एक वरदान की तरह है।आयकर की धारा 80 सी के तहत आयकर में डेढ़ लाख तक की छूट का भी प्रावधान इस खाते में है। सुकन्या खाता खुलवाने के लिए बिटिया के जन्म प्रमाण पत्र की प्रति और उसके माता या पिता के आधार कार्ड   की प्रति और दो फोटो के साथ नजदीकी डाकघर में संपर्क किया जा सकता है। श्री यादव ने कहा कि परिवार की बेटियों का डाकघर में सुकन्या समृद्धि खाता खुलवाकर कन्या पूजन कर सकते हैं। यह कार्य नवरात्रि में किया जाए तो और भी पुण्य मिलेगा। नवरात्रि में कन्याओं का बहुत महत्व होता है। इस दौरान कन्याओं को पूजा के लिए घर पर आमंत्रित कर उपहार देने की भी परंपरा है।

'समृद्ध सुकन्या-समृद्ध समाज' अभियान से लोगों को जोड़ने के लिए डाक विभाग ने मोबाइल नंबर भी जारी किया है। वाराणसी पूर्वी मंडल के प्रवर अधीक्षक डाकघर श्री राजन ने बताया कि सुकन्या समृद्धि खाता खुलवाने हेतु वाराणसी में  9026632633 और 9454777544 नंबरों पर फोन किया जा सकता है। इससे अभिभावक संपर्क करके योजना के बारे में पूरी जानकारी भी ले सकते हैं और खाता खुलवाने में भी उनका पूरा सहयोग किया जायेगा।  









'समृद्ध सुकन्या-समृद्ध समाज' अभियान के तहत डाकघर में बेटियों का खुलेगा सुकन्या समृद्धि खाता - पोस्टमास्टर जनरल  कृष्ण कुमार यादव

Saturday, October 2, 2021

India Post turned 167 years old, with the slogan 'Your friend, India post', Department of Posts took out a rally

On the occasion of the 'Azadi Ka Amrit Mahotsav' and 167th foundation day of Indian Postal Department, people were made aware about various schemes of Postal Department by organizing rallies in various Divisions of Varanasi Region on 1st October. Mr. Krishna Kumar Yadav, Postmaster General of Varanasi Region flagged off the rally from Varanasi Cantt Head Post Office premises, which went through Nadesar, Varuna Bridge, Circuit House, Kutchery Chauraha, Ambedkar Chowk and Mint House which ended at Cantt Head Post Office. In this sequence, the rally which was organized at Varanasi Head Post Office, started from Visheshwarganj and reached Dashashwamedh Ghat via Kabir Chaura, Benia Bagh, Godaulia Chauraha & returned through Chowk, Nichi Bagh and ended at Head Post Office. During this, Postal employees were walking in the rallies with placards of various Postal Services in their hands and said slogans regarding cleanliness. The slogans of 'Aapka Dost, India Post' and 'Dak Seva-Jan Seva' attracted the attention of the public On this occasion.


Postmaster General Mr. Krishna Kumar Yadav said that the Department of Posts has access to every door, in every corner of the country and is equally involved in the happiness and sorrow of the people. Today the post office not only delivers letters but also provides a variety of digital and hi-tech public utility services through its wide network. Postal Services are adopting latest technology and providing all public utility services under one roof. Letter, Speed Post, Parcel, E-Money Order, International Money Transfer Service, Savings Bank, Postal Life Insurance, Rural Postal Life Insurance, Philately, Aadhar Enrollment and Updation Service, Post Office Passport Seva Kendra, Common Service Centre, India Post Payments Bank, Ganga Jal, sale of prasad of various famous temples are available under one roof. In the era of Corona pandemic, the Postal employees are providing many facilities to the people sitting at home in the form of 'Corona Warriors'.


 On the occasion Senior Superintendent of Post Offices, Varanasi East Division Rajan, Superintendent of Post Office Varanasi West Division Krishna Chandra, Assistant Director Ram Milan, Accounts Officer MP Verma, Senior Postmaster Chandrashekhar Barua, Assistant Superintendent Ajay Kumar, RK Chauhan, Pankaj Kumar, Postal Inspector Shrikant Pal, Vishwambhar Nath Dwivedi, Shashikant Kannojia, Inderjit Pal, Shashi Bhushan, Naresh Bara, Postmaster Cantt Head Post Office Rama Shankar Verma, Public Relations Inspector Anil Sharma, Rajendra Yadav, Rahul Kumar, Sriprakash Gupta, Abhilasha, Ajita, Manju, Usha, Shravan Kumar, Manish Kumar, Umang Shukla, Sarvesh, Ramchandra, Bhupendra, Narendra, Pankaj Kumar along with othrr Departmental employees were present.


डाक विभाग हुआ 167 साल का, 'आपका दोस्त, इण्डिया पोस्ट' नारे के साथ डाक विभाग ने निकाली रैली

'आजादी का अमृत महोत्सव' और भारतीय डाक विभाग के 167वें स्थापना दिवस के क्रम में 1 अक्टूबर, 2021 को वाराणसी परिक्षेत्र के विभिन्न मंडलों में रैली निकालकर लोगों को डाक विभाग की विभिन्न योजनाओं के संबंध में जागरूक किया गया। वाराणसी परिक्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने वाराणसी कैंट प्रधान डाकघर परिसर से हरी झंडी दिखाकर रैली को रवाना किया, जो कि नदेसर, वरुणा पुल, सर्किट हाउस, कचहरी चौराहा, अंबेडकर चौक तथा मिंट हाउस होते हुए पुन: कैंट प्रधान डाकघर में समाप्त हुई। इसी क्रम में वाराणसी प्रधान डाकघर से निकली रैली विशेश्वरगंज से आरम्भ होकर कबीर चौरा, बेनिया बाग, गोदौलिया चौराहा होते हुए दशाश्वमेघ घाट पहुँची और पुन: वहाँ से चौक, नीची बाग होते हुए प्रधान डाकघर में समाप्त हुई। इस दौरान डाककर्मी अपने हाथों में विभिन्न डाक सेवाओं की तख्ती लिए हुए उनके बारे में और स्वच्छता के संबंध में नारे लगाते हुए चल रहे थे।'आपका दोस्त, इण्डिया पोस्ट' और 'डाक सेवा-जन सेवा' के नारों ने लोगों का ध्यान आकर्षित किया।

इस अवसर पर पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि, देश के हर कोने में, हर दरवाजे पर डाक विभाग की पहुँच है और वह लोगों के सुख-दुःख में बराबर रूप से जुड़ा हुआ है। आज डाकघर न केवल पत्र वितरित करता है बल्कि अपने व्यापक नेटवर्क के माध्यम से विभिन्न प्रकार की डिजिटल और हाईटेक जनोपयोगी सेवाएं भी प्रदान करता है। डाक सेवाएं नवीनतम टेक्नोलॉजी अपनाते हुए एक ही छत के नीचे तमाम जनोपयोगी सेवाएं उपलब्ध करा रहे हैं। पत्र, पार्सल, ई-मनीऑर्डर, अंतर्राष्ट्रीय धन अंतरण सेवा, बचत बैंक, डाक जीवन बीमा, ग्रामीण डाक जीवन बीमा, फिलेटली, आधार नामांकन और अद्यतन सेवा, पोस्ट ऑफिस पासपोर्ट सेवा केंद्र, कॉमन सर्विस सेण्टर, इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक, गंगा जल की बिक्री, विभिन्न प्रसिद्ध मंदिरों के प्रसाद की बिक्री जैसी तमाम सुविधाएँ एक ही छत के नीचे  उपलब्ध हैं। कोरोना महामारी के दौर में डाक विभाग के कर्मी 'कोरोना वॉरियर्स' के रूप में लोगों को घर बैठे तमाम सुविधाएँ उपलब्ध करा रहे हैं।

रैली में प्रवर डाकघर अधीक्षक वाराणसी पूर्वी मंडल राजन, डाकघर अधीक्षक वाराणसी पश्चिमी मंडल कृष्ण चन्द्र, सहायक निदेशक राम मिलन, लेखा अधिकारी एमपी वर्मा, सीनियर पोस्टमास्टर चंद्रशेखर बरुआ, सहायक अधीक्षक अजय कुमार, आरके चौहान, पंकज कुमार, डाक निरीक्षक श्रीकांत पाल, विश्वम्भर नाथ द्विवेदी, शशिकांत कन्नोजिया, इंद्रजीत पाल, शशि भूषण, नरेश बारा, पोस्टमास्टर कैंट प्रधान डाकघर  रमा शंकर वर्मा, जनसम्पर्क निरीक्षक अनिल शर्मा ,राजेन्द्र यादव, राहुल कुमार, श्रीप्रकाश गुप्ता, अभिलाषा, अजिता, मंजू, उषा, श्रवण कुमार, मनीष कुमार, उमंग शुक्ला, सर्वेश, रामचंद्र, भूपेंद्र, नरेंद्र, पंकज कुमार सहित तमाम विभागीय अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित रहे।







डाक विभाग हुआ 167 साल का, 'आपका दोस्त, इण्डिया पोस्ट' नारे के साथ डाक विभाग ने निकाली  रैली

लोगों के सुख-दुःख में बराबर रूप से जुड़ा हुआ है डाक विभाग - पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव


Thursday, September 30, 2021

Special Postal Cover on Banarasi Silk Saree to promote ODOP

In order to encourage 'One District, One Product', the  Postal Department issued special cover and special cancellation on ODOP product of all 75 districts of Uttar Pradesh. It was released by the Chief Minister of Uttar Pradesh, Shri Yogi Adityanath along with the Chief Postmaster General of Uttar Pradesh Circle, Mr. Kaushalendra Kumar Sinha during the program organized under 'Mission Shakti' campaign in Lucknow on 29 September, 2021. Appreciating the Department of Posts for this initiative, the Chief Minister said that this is the first time that such a number of special covers with special cancellations  are being issued at all district headquarters in any state simultaneously. Many of these products also have GI tags. These special covers and special cancellations were issued by organizing programs at all district headquarters.

In a function organized in the Commissioner ate Auditorium in the Parliamentary constituency of the Prime Minister, Varanasi, Mr. Krishna Kumar Yadav, the Postmaster General of Varanasi Region, released a special Postal cover and special cancellation on Varanasi's ODOP product 'Banarasi Silk Saree'. The special cover has been made even more beautiful by affixing the Varanasi Weaves stamp of the Indian fashion series with Banarasi silk saree. On this occasion, Joint Commissioner Industries Mr. Umesh Kumar Singh, Deputy Commissioner Industries Mr. Virendra Kumar, Senior Superintendent of Posts Offices, Varanasi East Division Mr. Rajan Rao and Assistant Superintendent of Posts Mr. Pankaj Shrivastava were present.

Postmaster General Mr. Krishna Kumar Yadav said that the special cover released on Banarasi silk saree will give it a global recognition. Through this the culture, art, heritage of Varanasi will spread across the world. The silk of Varanasi are synonymous with splendor and regality across the world. The district offers a wide range of these products in different attractive looks, designs and patterns. Banarasi silk sarees are synonymous to regalia. This craft has been in practice for more than 500 years and today approximately 29,802 weavers are associated with it. These products are GI tagged.

Postmaster General Mr. Yadav told that in Varanasi Region, Department of Posts has issued special cover and special cancellation on ODOP products including Banarasi Silk Sarees in Varanasi, Carpet in Bhadohi, Zari Zardozi in Chandauli, Jute Wall Hangings in Ghazipur, Woolen Carpets in Jaunpur and Bindi (Tikuli) in Ballia. Out of this, there are many such products which were losing their identity and which are being revived by the life of modernity and expansion and the postal department has an important role in this.

Joint Commissioner Industries Mr. Umesh Kumar Singh said that the aim of the ambitious 'One District - One Product' program of the Government of Uttar Pradesh is to encourage these special crafts and products. The Department of Posts has given it a more unique identity by placing the Banarasi silk saree on a special cover.



Chief Minister of UP released a Special Postal Cover on 'Banarasi Silk Saree to promote ODOP'

Special Postal Cover on Banarasi silk saree will give it global recognition - Postmaster General Krishna Kumar Yadav


ODOP : वाराणसी के ओडीओपी उत्पाद 'बनारसी सिल्क साड़ी' पर भारतीय डाक विभाग ने जारी किया विशेष आवरण

'एक जनपद, एक उत्पाद' को प्रोत्साहित करने हेतु भारतीय डाक विभाग द्वारा उत्तर प्रदेश के सभी 75 जनपदों के ओडीओपी उत्पाद पर आधारित विशेष आवरण एवं विशेष विरूपण जारी किया गया। लखनऊ में 'मिशन शक्ति' अभियान के तहत आयोजित कार्यक्रम के दौरान उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश परिमण्डल के चीफ पोस्टमास्टर जनरल श्री कौशलेन्द्र कुमार सिन्हा के साथ  29 सितंबर, 2021 को इसे जारी किया। मुख्यमंत्री ने इसके लिए डाक विभाग को बधाई देते हुए कहा कि, यह पहली बार हुआ है जब एक साथ किसी भी प्रदेश में इतनी संख्या में सभी जिला मुख्यालय पर विशेष आवरण एवं विशेष विरूपण जारी हुआ है। इसमें से कई उत्पादों को जीआई टैग भी प्राप्त हैं। इसी क्रम में विभिन्न जनपद मुख्यालयों पर भी कार्यक्रम आयोजित कर ये विशेष आवरण एवं विशेष विरूपण जारी किये गए।


प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में कमिश्नरी सभागार में आयोजित समारोह में वाराणसी परिक्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने वाराणसी के ओडीओपी उत्पाद 'बनारसी सिल्क साड़ी' पर विशेष आवरण  एवं विशेष विरूपण जारी किया। विशेष आवरण में बनारसी सिल्क साड़ी के साथ भारतीय फैशन सीरीज में जारी वाराणसी वीव्स का डाक टिकट अंकित कर इसे और भी खूबसूरत बनाया गया है। इस अवसर पर संयुक्त आयुक्त उद्योग श्री उमेश कुमार सिंह, उपायुक्त उद्योग श्री वीरेंद्र कुमार, प्रवर डाक अधीक्षक वाराणसी मंडल श्री राजन राव, सहायक डाक अधीक्षक श्री पंकज श्रीवास्तव उपस्थित रहे।       

पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि बनारसी सिल्क साड़ी पर जारी विशेष आवरण इसे वैश्विक पहचान देगा। इसके माध्यम से बनारस की संस्कृति, कला, धरोहर दुनिया भर में फैलेगी। वाराणसी का रेशम पूरी दुनिया में वैभव और राजशाही का पर्याय है। यहाँ विभिन्न आकार-प्रकार, आकर्षक रूप, डिजाइन व पैटर्न में इन उत्पादों की एक विस्तृत श्रृंखला तैयार की जाती है। बनारसी सिल्क साड़ियाँ राजघरानों के पहनावे का पर्याय हैं। पाँच सदियों से चली आ रही इस कला से आज लगभग 29,802 बुनकर जुड़े हुए हैं। इन उत्पादों को जीआई टैग प्राप्त है।


पोस्टमास्टर जनरल श्री यादव ने बताया कि वाराणसी परिक्षेत्र के अधीन वाराणसी में बनारसी सिल्क साड़ी, भदोही में दरी, चन्दौली में जरी जरजोदी, गाजीपुर में जूट वाल हैंगिंग, जौनपुर में वूलेन कारपेट तथा बलिया में बिंदी (टिकुली) ओडीओपी उत्पादों पर विशेष आवरण व विरूपण डाक विभाग के माध्यम से जारी किये गए। इसमें से तमाम ऐसे उत्पाद हैं जो अपनी पहचान खो रहे थे तथा जिन्हें आधुनिकता तथा प्रसार रूपी संजीवनी द्वारा पुनर्जीवित किया जा रहा है और इसमें डाक विभाग की अहम भूमिका है।

संयुक्त आयुक्त उद्योग श्री उमेश कुमार सिंह ने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार की महत्त्वाकांक्षी 'एक जनपद - एक उत्पाद' कार्यक्रम का उद्देश्य है कि इन विशिष्ट शिल्प कलाओं एवं उत्पादों को प्रोत्साहित किया जाए। बनारसी सिल्क साड़ी को विशेष आवरण पर पर स्थान देकर डाक विभाग ने इसे और भी विशिष्ट पहचान दी है।










उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने एक जनपद-एक उत्पाद के तहत सभी 75 जिलों के ओडीओपी उत्पादों पर जारी किया विशेष डाक आवरण

प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र वाराणसी के ओडीओपी उत्पाद 'बनारसी सिल्क साड़ी' पर मुख्यमंत्री योगी ने जारी किया विशेष आवरण

बनारसी सिल्क साड़ी पर जारी विशेष डाक आवरण देगा इसे वैश्विक पहचान - पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव


राष्ट्र को एक सूत्र में बांधने का कार्य करती है हिंदी -पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव

 हिंदी आज सिर्फ भारत ही नहीं दुनिया के तमाम देशों में परचम फहरा रही है। हिंदी भाषा में बात करने पर एक-दूसरे से सहज जुड़ाव का अनुभव होता है। साथ ही हिंदी में कार्य करने एवं बोलने में गर्व महसूस होता है। हिंदी भाषा को आगे बढ़ाने में चिट्ठियों का बहुत बड़ा योगदान है। यदि डाकिया डाक वितरण करते समय लोगों से इस बात की अपील करे कि हस्ताक्षर हिंदी में ही करें, तो भी हिंदी को काफी प्रोत्साहन मिलेगा। 

उक्त उद्गार महात्मा गाँधी काशी विद्यापीठ, वाराणसी के महामना मदन मोहन मालवीय हिंदी पत्रकारिता संस्थान के पूर्व निदेशक एवं पूर्व कुलपति, नेहरू ग्राम मानद विश्वविद्यालय, प्रो. राम मोहन पाठक ने प्रधान डाकघर वाराणसी में 29 सितंबर, 2021 को आयोजित 'हिंदी पखवाड़ा' के समापन समारोह में व्यक्त किये।


समारोह की अध्यक्षता करते हुए वाराणसी परिक्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि, संविधान में वर्णित सभी प्रांतीय भाषाओं का पूर्ण आदर करते हुए इस विशाल बहुभाषी राष्ट्र को एक सूत्र में बांधने में भी हिन्दी की एक महत्वपूर्ण भूमिका है। हिन्दी सिर्फ एक भाषा ही नहीं बल्कि हम सबकी पहचान है, यह हर हिंदुस्तानी का हृदय है। भारतीय संस्कृति को अक्षुण्ण रखने में हिंदी का बहुत बड़ा योगदान है। जरूरत इस बात की है कि हम इसके प्रचार-प्रसार और विकास के क्रम में आयोजनों से परे अपनी दैनिक दिनचर्या से भी जोड़ें।

 विशिष्ट अतिथि वरिष्ठ साहित्यकार श्री राम जी यादव ने कहा कि, हिंदी सहज एवं सरल भाषा होने के साथ एक-दूसरे को जोड़ने वाली है। हिंदी हमारी मातृभाषा के साथ ही राजभाषा भी है अतः इसके विकास के लिए हमें हिंदी को जीवन-चलन में उतारने की आवश्यकता है। उन्होंने हिंदी के विकास में व्यक्तिगत योगदान के साथ संस्थागत योगदान पर विशेष जोर देने का संकल्प दिलाया।

 इस कार्यक्रम में डाक विभाग से सेवानिवृत्त सुप्रतिष्ठित साहित्यकार एवं कवि श्री केशव शरण के हिंदी गजल संग्रह " दर्द के खेत में" के द्वितीय संस्करण का विमोचन भी किया गया। साथ ही उन्हें सम्मानित भी किया गया।

 प्रवर डाकघर अधीक्षक वाराणसी पूर्वी मंडल श्री राजन ने बताया कि डाक विभाग की ओर से 14 से 28 सितंबर तक आयोजित हिंदी पखवाडे़ में कई प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया, जिसमें सभी कर्मचारियों, अधिकारियों ने उत्साहपूर्वक भाग लिया और हिन्दी पखवाड़े को सफल बनाने में अपना योगदान दिया।

ये हुए सम्मानित

हिंदी पखवाड़ा के दौरान आयोजित कार्यक्रम के विजेताओं को भी इस अवसर पर पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव, प्रो. राम मोहन पाठक और रामजी यादव ने सम्मानित किया। हिंदी निबंध लेखन प्रतियोगिता में प्रीति कुमारी, हरिशंकर यादव, अब्दुल कादिर, हिंदी टंकण प्रतियोगिता में प्रीति कुमारी, आशिष कुमार, हरिशंकर यादव, हिन्दी टिप्पण एवं आलेखन प्रतियोगिता में प्रतिमा कुमारी मौर्या, संतोष कुमार भाष्कर, अमित कुमार सिंह, हिंदी पत्र लेखन प्रतियोगिता में प्रतिमा कुमारी मौर्या, संतोष कुमार भाष्कर, अमित कुमार सिंह एवं हिंदी काव्य पाठ प्रतियोगिता में आशीष कुमार, वीरेन्द्र मिश्र, इंदु कुमारी को क्रमशः प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

 कार्यक्रम में प्रवर डाकघर अधीक्षक वाराणसी पूर्वी मंडल राजन, प्रवर डाकपाल वाराणसी प्रधान डाकघर सी.एस.सिंह बरुआ , सहायक अधीक्षक आर. के. चौहान, पंकज कुमार श्रीवास्तव , सुरेश चन्द्र, डाक निरीक्षक बलवीर सिंह, जाँच निरीक्षक श्रीकांत पाल, परिवाद निरीक्षक नरेश बारा, मुक्ता चटर्जी, राजेन्द्र यादव, दीपमणि तिवारी, हरिशंकर, जे.सी.सडेजा, सुशांत झा सहित तमाम विभागीय अधिकारी -कर्मचारी उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन गणेश गंभीर ने किया।




विदेशों में भी परचम फहरा रही है हिंदी-प्रो. राममोहन पाठक

राष्ट्र को एक सूत्र में बांधने का कार्य करती है हिंदी -पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव

वाराणसी प्रधान डाकघर में हुआ हिंदी पखवाड़े का समापन, पोस्टमास्टर जनरल ने विजेताओं को किया पुरस्कृत