Saturday, November 12, 2022

Vittiya Sashaktikaran Mahotsav by India Post : वित्तीय सशक्तिकरण और अंत्योदय में डाक विभाग की अहम भूमिका - पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव

डाक विभाग अब सिर्फ पत्र ही नहीं पहुँचा रहा, बल्कि सरकार की तमाम जनकल्याणकारी योजनाओं और इनके लाभों को भी लोगों तक पहुँचा रहा है। वित्तीय सशक्तिकरण और अंत्योदय में डाक विभाग की अहम भूमिका है। एक ही छत के नीचे तमाम सेवाएं उपलब्ध कराकर डाकघरों को बहुउद्देशीय बनाया गया है। बचत, बीमा, आधार, पासपोर्ट, कॉमन सर्विस सेंटर, इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक, गंगाजल बिक्री, क्यूआर कोड आधारित डिजिटल भुगतान जैसी तमाम सुविधाएं डाकघरों में उपलब्ध हैं। इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक के माध्यम से लोगों को घर बैठे बैंकिंग सहित तमाम सुविधाएँ प्राप्त हो रही हैं। उक्त उद्गार वाराणसी परिक्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने जौनपुर में आयोजित 'वित्तीय सशक्तिकरण महोत्सव' का शुभारम्भ करते हुए बतौर मुख्य अतिथि व्यक्त किये।

 बेटियों को 'सुकन्या समृद्धि योजना' की पासबुक वितरित करते हुए कहा कि इसके माध्यम से बेटियाँ आत्मनिर्भर बनेंगी तो 'आत्मनिर्भर भारत' की संकल्पना भी साकार होगी। 

पोस्टमास्टर जनरल ने सीईएलसी प्रतियोगिता के विजेता - निशा चौधरी, ब्रांच पोस्टमास्टर उदपुर घेलहवा, बदलापुर, अमित कुमार ब्रांच पोस्टमास्टर मिरशादपुर, बदलापुर और बिपिन, ब्रांच पोस्टमास्टर  गजेंद्रपुर, खुटहन को आईपीपीबी की तरफ से स्कूटी देकर उत्साहवर्धन किया।

पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि आमजन में डाकघर की बचत योजनाएँ बेहद लोकप्रिय हैं और इनमें लोग पीढ़ी दर पीढ़ी सुरक्षित निवेश करते आ रहे हैं। इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक के माध्यम से डाकिया और ग्रामीण डाक सेवक आज एक चलते फिरते बैंक के रूप में कार्य कर रहे हैं। किसानों सहित अन्य तमाम लाभार्थियों के बैंक खातों में आने वाली डीबीटी राशि की निकासी के लिए अब किसी को भी बैंक या एटीएम जाने की जरूरत नहीं, बल्कि घर बैठे ही सभी अपने आधार लिंक्ड बैंक खाते से डाकिया के माध्यम से निकासी कर सकते हैं। आईपीपीबी में खाता होने पर डाकघर की सुकन्या, आरडी, पीपीएफ, डाक जीवन बीमा में भी ऑनलाइन जमा किया जा सकता है। ई-श्रम, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना, वाहनों का बीमा, स्वास्थ्य बीमा, दुर्घटना बीमा, प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना जैसी तमाम सेवाओं का लाभ भी डाकिया के माध्यम से लिया जा सकता है। पेंशनर्स घर बैठे डाकिया के द्वारा जीवित प्रमाण पत्र बनवा सकते हैं। सरकार की विभिन्न योजनाओं का लाभ उठाने हेतु आधार जरूरी है, ऐसे में अब घर बैठे डाकिया के माध्यम से ही आधार से लिंक मोबाइल नम्बर भी अपडेट किया जा सकता है। श्री यादव ने बताया कि आमजन को विभिन्न सेवाओं के लिए भटकना न पड़े और सारी सेवाएं एक ही छत के नीचे उपलब्ध हो सकें, इसके लिए अब डाकघरों में  कॉमन सर्विस सेंटर के माध्यम से भी एक साथ केंद्र व विभिन्न राज्य सरकारों की 73 सेवाएँ मिल रही हैं।

पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि डाकघर में एक ही छत के नीचे बचत, बीमा और डिजिटल बैंकिंग उपलब्ध होने से लोगों के पास सुरक्षित निवेश के ढेरों विकल्प मौजूद हैं। जौनपुर में वर्तमान में कुल 6.97 लाख डाकघर बचत खाते व 1.54 लाख आईपीपीबी खाते हैं, वहीं 63 हजार से ज्यादा बेटियों के सुकन्या समृद्धि खाते संचालित हैं। जौनपुर में अब तक 11 गाँवों को फाइव स्टार विलेज, 77 गाँवों को  संपूर्ण बीमा ग्राम व  173 गाँवों को संपूर्ण सुकन्या समृद्धि ग्राम बनाया गया है।





इसी के साथ जौनपुर प्रधान डाकघर एवं डाक अधीक्षक कार्यालय पहुँचकर पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने डाक सेवाओं की प्रगति का भी जायजा लिया और सभी डाक अधिकारियों व कर्मचारियों से विभिन्न सेवाओं में विभागीय लक्ष्यों की प्राप्ति सुनिश्चित करने हेतु निर्देश दिए। जौनपुर मण्डल के डाक अधीक्षक श्री पीसी तिवारी ने मंडल में विभिन्न डाक सेवाओं के व्यापक प्रचार-प्रसार द्वारा लक्ष्य प्राप्ति के प्रति पोस्टमास्टर जनरल को आश्वस्त किया। जौनपुर में इस वित्तीय वर्ष में अब तक 39 हजार बचत खाते, 5 हजार बच्चियों के सुकन्या समृद्धि खाते व 10 हजार से ज्यादा आईपीपीबी खाते खोले गए। 66 हजार लोगों को घर बैठे आधार इनेबल्ड पेमेंट सिस्टम के माध्यम से 23 करोड़ रुपये का भुगतान किया गया। 13 हजार लोगों ने डाकघर के माध्यम से नया आधार बनवाया या अपडेट किया। 3,600 लोगों ने पोस्ट ऑफिस पासपोर्ट केंद्र जौनपुर में पासपोर्ट बनवाया।

इस अवसर पर सहायक डाक अधीक्षक अशोक सिंह, अजय कुमार, उपमंडलीय निरीक्षक शशिकांत कन्नौजिया, प्रवीण कुमार, परिवाद निरीक्षक श्रीकांत पाल, पोस्टमास्टर जौनपुर प्रधान डाकघर आनन्द शुक्ला, इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक मैनेजर साक्षी सिन्हा, जनसंपर्क निरीक्षक मोहित राम यादव, रवि रंजन, विक्रांत सिंह, सोनी यादव, हर्षिता सिंह सहित तमाम अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित रहे।







'वित्तीय सशक्तिकरण महोत्सव' का पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव ने जौनपुर में किया शुभारंभ, खुले 2500 खाते 

वित्तीय सशक्तिकरण और अंत्योदय में डाक विभाग की अहम भूमिका - पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव 

पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव ने जौनपुर में डाक सेवाओं की प्रगति का लिया जायजा, लक्ष्यों की प्राप्ति पर दिया जोर

डाकिया के माध्यम से घर बैठे बैंकिंग सहित तमाम सुविधाएँ हो रही प्राप्त- पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव 

'सुकन्या समृद्धि योजना' से बेटियाँ बनेंगी आत्मनिर्भर, 'आत्मनिर्भर भारत' की संकल्पना भी होगी साकार - पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव 

पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव ने सीईएलसी प्रतियोगिता के विजेता ब्रांच पोस्टमास्टर को स्कूटी देकर किया सम्मानित

Thursday, November 10, 2022

Vigilance Awareness Week : डाक विभाग में 'भ्रष्टाचार मुक्त भारत-विकसित भारत' की थीम पर आयोजित 'सतर्कता जागरूकता सप्ताह' का समापन

डाक विभाग द्वारा 31 अक्टूबर से 6 नवम्बर 2022 तक आयोजित "सतर्कता जागरूकता सप्ताह" का समापन समारोह कैंट प्रधान डाकघर भवन स्थित क्षेत्रीय कार्यालय में 9 नवंबर को आयोजित किया गया। वाराणसी परिक्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने इस दौरान आयोजित विभिन्न प्रतियोगिताओं के विजेताओं को पुरस्कृत किया। 

"भ्रष्टाचार मुक्त भारत - विकसित भारत" की थीम पर आयोजित वर्कशॉप और क्विज़ प्रतियोगता में क्षेत्रीय कार्यालय से मनीष कुमार, शम्भु कुमार और ललित सिंह, वाराणसी पूर्वी मंडल से अब्दुल कादिर, वीरेंद्र कुमार मिश्रा और प्रीति कुमारी एवं वाराणसी पश्चिमी मंडल से मंजू , ज्ञान सागर और आलोक कुमार को क्रमश: प्रथम, द्वितीय और तृतीय पुरस्कार से पुरस्कृत किया गया।

इस अवसर पर अपने संबोधन में पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि भारतीय परंपरा 'सत्यमेव जयते' की रही है और इसी के माध्यम से सतर्कता बरतते हुए भ्रष्टाचार उन्मूलन हो सकेगा। अपने कार्य के प्रति ईमानदारी, समयबद्धता व त्वरित निर्णय द्वारा कार्य करके "भ्रष्टाचार मुक्त भारत - विकसित भारत" बनाया जा सकता है और डाक विभाग इस पर निरंतर कार्य कर रहा है।  भ्रष्टाचार सिर्फ धन से ही नहीं होता, बल्कि गलत व्यवहार और कार्यों में देरी से भी होता है। इसके लिए प्रत्येक व्यक्ति को इस मूल मन्त्र को अपने नैतिक एवं व्यवहारिक जीवन में भी उतारना होगा। किसी भी संस्था के प्रत्येक स्तर के अधिकारी व कर्मचारियों को इसके लिए जागरूक होना पड़ेगा एवं नैतिक मूल्यों का उत्थान करते हुए विकसित भारत की स्थापना के लिए एक उच्च प्रतिमान स्थापित करना पड़ेगा।

सहायक निदेशक (सतर्कता) श्री बृजेश कुमार शर्मा ने कहा कि टेक्नोलॉजी के दौर में डाक विभाग द्वारा इसका सकारात्मक प्रयोग करते हुए भ्रष्टाचार उन्मूलन हेतु उत्कृष्ट कार्य किया जा रहा है। प्रवर डाक अधीक्षक श्री राजन राव ने  कहा कि अपने कार्य के प्रति सत्यनिष्ठा बनाये रखें एवं देश व विभाग को आगे बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभायें।

इस अवसर पर प्रवर डाक अधीक्षक राजन राव, डाक अधीक्षक पीसी तिवारी, सहायक निदेशक ब्रजेश कुमार शर्मा, वरिष्ठ लेखाधिकारी महेंद्र प्रताप वर्मा, सहायक अधीक्षक अजय कुमार, जाँच निरीक्षक श्रीकांत पाल, वीएन द्विवेदी, मनीष कुमार, राजेन्द्र प्रसाद यादव, श्रीप्रकाश गुप्ता, अभिलाषा राजन,  राहुल कुमार वर्मा, नरेंद्र राम, विजय कुमार एवं  राकेश कुमार सहित तमाम अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित रहे।







डाक विभाग में 'भ्रष्टाचार मुक्त भारत-विकसित भारत' की थीम पर आयोजित 'सतर्कता जागरूकता सप्ताह' का समापन

'सतर्कता जागरूकता सप्ताह' के समापन पर पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव ने डाककर्मियों को किया पुरस्कृत

'भ्रष्टाचार मुक्त भारत-विकसित भारत' हेतु डाक विभाग कर रहा निरंतर कार्य - पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव

सत्यमेव जयते की परंपरा से ही बनेगा 'भ्रष्टाचार मुक्त भारत-विकसित भारत' - पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव

Tuesday, November 8, 2022

नव्य-भव्य 'श्री काशी विश्वनाथ धाम' के साथ 'देव दीपावली' और 'गंगा आरती' अब डाक विभाग के विशेष आवरण पर भी छाये


काशी विश्वनाथ धाम के लोकार्पण के बाद आयोजित पहली देव दीपावली को ऐतिहासिक बनाने के लिए भारतीय डाक विभाग ने देव दीपावली, श्री काशी विश्वनाथ धाम और गंगा आरती पर तीन विशेष आवरण व विरूपण जारी किये। वाराणसी प्रधान डाकघर में 7 नवंबर, 2022 को आयोजित कार्यक्रम में उत्तर प्रदेश परिमंडल के चीफ पोस्टमास्टर जनरल श्री कौशलेंद्र कुमार सिन्हा ने वाराणसी परिक्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव संग इसे जारी किया। 

इस अवसर पर चीफ पोस्टमास्टर जनरल श्री कौशलेंद्र कुमार सिन्हा ने कहा कि वाराणसी की देव दीपावली लोकल से ग्लोबल हो चुकी है, वहीं श्री काशी विश्वनाथ धाम के नव्य-भव्य स्वरुप ने सभी को आकर्षित किया है। गंगा घाटों पर होने वाली गंगा आरती की शोभा देखते ही बनती है। इन सभी पर विशेष आवरण व विशेष विरूपण जारी होना सभी श्रद्धालुओं व काशीवासियों के लिए गर्व का पल है। इससे वाराणसी की संस्कृति, परंपरा और धरोहर का और भी तेजी से देश-विदेश में प्रचार-प्रसार होगा और ज्यादा से ज्यादा लोगों को इस बारे में जानकारी हासिल हो सकेगी।

श्री सिन्हा ने कहा कि डाक विभाग डाक टिकटों और विभिन्न विशेष आवरण के माध्यम से देश-प्रदेश से जुड़े विभिन्न आयामों को दुनिया भर में प्रसारित कर रहा है। उत्तर प्रदेश में एक जिला-एक उत्पाद, जीआई उत्पाद, आजादी का अमृत महोत्सव, हर घर तिरंगा, श्री राम वन गमन पथ, बौद्ध परिपथ और भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के अनसंग नायकों और नायिकाओं पर जारी विभिन्न विशेष आवरणों के माध्यम से युवा पीढ़ी को भी उनकी विरासत से जोड़ा गया है। डाक टिकटों और पत्र लेखन से युवाओं को जोड़ने के लिए माई स्टैम्प, फिलेटली डिपॉजिट एकाउंट, ढाई आखर पत्र लेखन प्रतियोगिता, स्टाम्प डिजाइनिंग और दीनदयाल स्पर्श छात्रवृत्ति योजना जैसी तमाम अभिनव पहल की गई हैं। 


पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि श्री काशी विश्वनाथ धाम का महात्म्य, देव दीपावली और गंगा घाट पर होने वाली आरती की परंपरा इतिहास के विविध कालों से जुड़ी हुई है। देव दीपावली सिर्फ उत्सव भर नहीं है, बल्कि प्रकृति के सान्निध्य में दीपों के प्रज्ज्वलन के साथ-साथ यह स्वयं को भी आलोकित करने का पर्व है। ऐसे में देव दीपावली के दिन जारी ये विशेष आवरण काशी की उत्सवी परंपरा, आध्यात्मिक संस्कृति, देवी-देवताओं व आराध्य के प्रति समर्पण की खूबसूरत भावना को पूरे विश्व में आलोकित करेंगे। श्री यादव ने बताया कि जारी विशेष आवरण में देव दीपावली, गंगा आरती और भव्य श्री काशी विश्वनाथ धाम की मनोहारी छवियाँ दृष्टव्य है और आवरण के पृष्ठ भाग में इनके बारे में हिंदी व अँग्रेजी में जानकारियां मुद्रित हैं। इन विशेष आवरणों को विशेश्वरगंज स्थित स्थित वाराणसी प्रधान डाकघर से प्राप्त किया जा सकता है।   


इस दौरान प्रवर डाक अधीक्षक राजन, डाक अधीक्षक पी.सी. तिवारी, सीनियर पोस्टमास्टर सी.एस. बरुवा,  सहायक निदेशक ब्रजेश शर्मा, सहायक डाक अधीक्षक सुरेंद्र चौधरी,अजय कुमार, दिलीप यादव, डाक निरीक्षक श्रीकांत पाल, रमेश यादव, सर्वेश सिंह, वीएन द्विवेदी, श्रीप्रकाश गुप्ता, राजेन्द्र यादव, सुशांत झां,जगदीश सदेजा, दीपमणि, कमल भारती, सहित तमाम अधिकारी, कर्मचारी, फ़िलेटलिस्ट इत्यादि उपस्थित रहे। मंच संचालन कुमारी अजिता ने किया।








Department of Posts released 3 special covers on Dev Deepawali, Shri Kashi Vishwanath Dham and Ganga Aarti

In order to make the first Dev Deepawali celebrated after the inauguration of rejuvenated Kashi Vishwanath Dham historic, Department of Posts has released three special covers and cancellations on Dev Deepawali, Shri Kashi Vishwanath Dham and Ganga Aarti. Special Covers were released by the Chief Postmaster General of Uttar Pradesh Circle, Shri Kaushlendra Kumar Sinha along with the Postmaster General, Shri Krishna Kumar Yadav, in a program organized at Varanasi Head Post Office.

On this occasion, Chief Postmaster General Shri Kaushlendra Kumar Sinha said that Dev Deepawali of Varanasi has gone from local to global, while the grand corridor and rejuvenated Shri Kashi Vishwanath Dham has attracted everyone. The beauty of the Ganga Aarti that takes place on Ganges Ghats is worth to sight. Release of special covers and special cancellations on all of these is a moment of pride for all the devotees and residents of Kashi. With this, the culture, tradition and heritage of Varanasi will be promoted even faster in the country and abroad and more & more people will be able to get information about it.


Chief Postmaster General Shri Kaushlendra Kumar Shri Sinha said that through the stamps and various special covers, Department of Posts is disseminating the various dimensions related to the country across the world. In Uttar Pradesh, younger generation has been get linked to his legacy by issuing various special covers on One District-One Product, GI Products, Azadi ka Amrit Mahotsav, Har Ghar Tiranga, Shri Ram Van Gaman Path, Buddha Circuit and Unsung Heroes and Sheroes of Indian Freedom Struggle. Many innovative initiatives like My Stamp, Philately Deposit Account, Dhai Akhar Letter Writing Competition, Stamp Designing and Deen Dayal SPARSH Scholarship Scheme have been taken to connect youths with stamps and letter writing.


Postmaster General, Shri Krishna Kumar Yadav said that significance of Shri Kashi Vishwanath Dham, Dev Deepawali and the tradition of Aarti at Ganga Ghats are associated with different periods of history. Dev Deepawali is not just a festival, but it is a festival to illuminate oneself along with lighting of lamps in the closeness of nature. As such, these special covers released on the auspicious day of Dev Deepawali will illuminate the celebratory tradition of Kashi, spiritual culture, spirit of devotion towards adorable gods and goddesses all over the world. Shri Yadav said that in the special cover released, attractive images of Dev Deepawali, Ganga Aarti and the grand & rejuvenated Shri Kashi Vishwanath Dham are visible and bilingual information about them is printed on the back of the cover in Hindi & English. All these special covers can be obtained from the Varanasi Head Post Office located at Visheshwarganj.

On this occasion, Senior Superintendent of Post Offices Rajan, Superintendent of Post offices PC Tiwari, Senior Postmaster CS Baruva, Assistant Director Brijesh Sharma, Assistant Superintendent of Posts, Surendra Chaudhary, Ajay Kumar, Dileep Yadav, Inspector Posts Shrikant Pal, Ramesh Yadav, Sarvesh Singh, V.N. Dwivedi, Sri Prakash Gupta, Rajendra Yadav, Sushant Jha, Jagdish Sadeja, Deepmani, Kamal Bharti, including many other officials, philatelists etc. were also present. Kumari Ajita anchored the programme.





Department of Posts released 3 special covers on Dev Deepawali, Shri Kashi Vishwanath Dham and Ganga Aarti

Dev Diwali of Varanasi gone ‘local to global’ - Chief Postmaster General, KK Sinha

Dev Deepawali is the festival to illuminate oneself in the closeness of nature - Postmaster General KK Yadav

Saturday, November 5, 2022

डाक विभाग की पहल : पेंशनर्स को जीवित प्रमाणपत्र के लिए चक्कर लगाने से निजात, घर बैठे डाकिया के माध्यम से बनवाएं डिजिटल लाइफ सर्टिफिकेट

अब पेंशनरों को जीवित प्रमाणपत्र (डिजिटल लाइफ सर्टिफिकेट) जमा करने के लिए कोषागार, बैंक या अन्य किसी विभाग में जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। पेंशनर अपने नजदीकी डाकघर के डाकिया या ग्रामीण डाक सेवक के माध्यम से डिजिटल लाइफ सर्टिफिकेट जारी करवा सकते हैं।  इसके लिए मात्र 70 रुपये का शुल्क निर्धारित किया गया है। यह प्रमाण पत्र स्वतः संबंधित विभाग को ऑनलाइन पहुंच जाएगा। इससे पेंशन मिलने में कोई रुकावट नहीं आएगी। यह सुविधा सभी डाकघरों में इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक के माध्यम से उपलब्ध कराई जा रही है। 

भारतीय डाक विभाग के माध्यम से सभी विभागों के पेंशनरों को घर बैठे डिजिटल लाइफ सर्टिफिकेट प्रदान करने की सुविधा प्रदान की जा रही है। पेंशनर इस सुविधा को प्राप्त करने के लिए अपने इलाके के डाकिया के साथ-साथ पोस्ट इन्फो मोबाइल एप द्वारा ऑनलाइन अनुरोध भी कर सकते हैं। इसके लिए पेंशनर को आधार नम्बर, मोबाइल नम्बर, बैंक या डाकघर खाता संख्या और पीपीओ नम्बर देना होगा। गौरतलब है कि पेेंशनरों को प्रत्येक वर्ष  सामान्यतया नवंबर व दिसंबर माह में कोषागार, बैंक या संबंधित विभाग में जीवन प्रमाणपत्र प्रस्तुत करना होता है। इसके लिए  दूरदराज इलाके के पेंशनरों को कोषागार आने में कई बार कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है एवं यात्रा आदि में भी काफी व्यय होता है। ऐसे में डाक विभाग की इस पहल से  पेंशनरों को काफी सहूलियत मिलेगी। इसके साथ-साथ पेंशनर डाकिया के माध्यम से घर बैठे पेंशन की धनराशि आधार इनेबल्ड पेमेंट सिस्टम के माध्यम से अपने बैंक खाते से निकाल सकते हैं।




Pensioners can avail facility of Digital Life certificate at doorstep through Post office - Postmaster General Krishna Kumar Yadav

Now there is no need for pensioners to visit the treasury, bank or any other department for submitting their life certificate. Pensioners can obtain the Digital Life Certificate (DLC) from the nearest Post office or can also be get it issued by Postman or Gramin Dak Sevak. For this, a fee of only Rs. 70 is prescribed. The life certificate will automatically reach the concerned department online. It will not cause any hindrance in receiving pension. This facility is being made available in all post offices through India Post Payments Bank. This was informed by the Postmaster General of Varanasi Region, Shri Krishna Kumar Yadav.

Highlighting on DLC, Postmaster General Shri Krishna Kumar Yadav said that through the Department of Posts, the facility of digital life certificate is being provided to pensioners of all departments sitting at home. Pensioners can call the postman of their locality as well as request can also be made through Post Info Mobile App to avail this facility. For this, the pensioner will have to provide Aadhaar number, mobile number, bank or post office account number and PPO number. It is worth mentioning here that the pensioners have to submit the life certificate to the treasury, bank or the concerned department, usually in the month of November and December every year. For this, pensioners residing in remote areas and old pensioners many times face difficulties to attend the treasury and it also causes expenditure involved in travelling etc. In such a situation, pensioners will get a lot of convenience and relief from this digital initiative of the Department of Posts.

Assistant Director Shri Brijesh Sharma informed that apart from obtaining Digital Certificate at their door step, pensioners can withdraw amount of pension from their bank account through Aadhaar enabled payment system also sitting at home through postman.

Pensioners can obtain the digital life certificate in a hassle free safe manner through Postman sitting at home

Thursday, November 3, 2022

Department of Posts launches e-Passbook service for Post Office Savings Bank account holders

Department of Posts has started e-passbook service for its account holders. Using e-passbook service, account holders of various Post office small savings schemes like Savings Bank (SB), Recurring Deposit (RD), Term Deposit (TD), Sukanya Samriddhi Account (SSA), Monthly Income Scheme (MIS), Public Provident Fund Account (PPF), NSC and KVP will be able to know the balances of their accounts as well as will also be able to get the mini statement of S.B., SSA & P.P.F accounts online free of cost. Mini statement will contain the particulars of the last 10 transactions. Highlighting this, Shri Krishna Kumar Yadav, Postmaster General, Varanasi Region said that now the account holders will be able to get information about their accounts at anytime without using net banking and mobile banking. To avail e-Passbook service, it is mandatory to have a mobile number linked in the respective account.

Postmaster General, Shri Krishna Kumar Yadav said that the Department of Posts is continuously upgrading its services and  making it customer friendly by adopting innovation and latest technology. No registration or ID/password is required for e-passbook. This is an important step towards making the post office investment even more secure. It will also be helpful in preventing fraud related activities.

Process of e-passbook-

Postmaster General, Shri Krishna Kumar Yadav said that for e-passbook facility, one has to click on the e-passbook link given on the website of the Department of Posts i.e.  www.indiapost.gov.in or India Post Payments Bank website i.e.  www.ippbonline.com or it can also be accessed directly through U.R.L https://posbseva.ippbonline.com/indiapost/signin. After opening of the webpage, the account holder will have to enter the linked mobile number in specified column. OTP will receive on the mobile after entering the captcha. After entering the OTP, option of Balance Enquiry and Mini Statement will be available for selection. Mini Statement can also be downloaded in PDF format through it.

Shri Yadav further informed that e-passbook service will add new dimension to digital banking. Now, Account holders will no longer have to visit post offices to enquire account balance or information about deposit and withdrawal. They can easily get mini statement and complete information about balances while sitting at home. e-Passbook facility will benefit 29.16 lakh account holders of Varanasi Region which includes 4.17 lakh of Varanasi (East) Division, 7.84 lakh of Varanasi (West) Division, 6.14 lakh of Ballia, 4.09 lakh of Ghazipur and 6.92 of Jaunpur.

e-Passbook facility for Post Office Savings account holders now

Now, check balance and mini statement of Post office Accounts sitting at home through e-Passbook service

Post Office Saving Schemes became Hi-Tech, Get Mini Statement and Balance with e-Passbook

                                 *******************************************

डाक विभाग ने अपने खाताधारकों के लिए ई-पासबुक सेवा की शुरुआत की है। ई-पासबुक सेवा का उपयोग कर जहाँ डाकघर की विभिन्न लघु बचत योजनाओं - बचत बैंक, आवर्ती जमा (आर.डी), सावधि जमा (टी.डी.), सुकन्या समृद्धि खाता (एस.एस.ए.), मासिक आय योजना (एम.आई.एस), लोक भविष्य निधि खाता (पी.पी.एफ), एन.एस.सी और के.वी.पी के खाताधारक अपने खातों के बैलेंस जान सकेंगे वही एस.बी.,सुकन्या व पी.पी.एफ खातों के मिनी स्टेटमेंट भी ऑनलाइन नि:शुल्क प्राप्त कर सकेंगे I मिनी स्टेटमेंट में अंतिम 10 लेन-देन की पूरी जानकारी होगी। उक्त जानकारी देते हुए वाराणसी परिक्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि अब नेट बैंकिंग और मोबाइल बैंकिंग का प्रयोग किये बिना ही खाताधारक अपने खाते की जानकारी कभी भी  प्राप्त कर सकेंगे। इस सेवा का लाभ लेने के लिए खाते में मोबाइल नंबर लिंक होना अनिवार्य है।

पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि नवाचार और नवीनतम टेक्नोलॉजी को अपनाकर डाक विभाग अपनी सेवाओं को निरंतर हाई-टेक और कस्टमर फ्रेंडली बना रहा है। ई-पासबुक सेवा के लिए किसी भी प्रकार के पंजीकरण या आई.डी/पासवर्ड की आवश्यकता नहीं है। यह डाकघर में होने वाले निवेश को और भी ज्यादा सुरक्षित करने की ओर एक महत्वपूर्ण कदम है। इससे फ्राड संबंधी गतिविधियों को भी रोका जा सकता है।

ई-पासबुक की प्रक्रिया-

पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि ई-पासबुक की सुविधा के लिए डाक विभाग की वेबसाइट www.indiapost.gov.in या इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक की वेबसाइट www.ippbonline.com पर दिए गए ई-पासबुक लिंक पर क्लिक करना होगा अथवा यू.आर.एल. https://posbseva.ippbonline.com/indiapost/signin का प्रयोग कर सीधे ई-पासबुक की वेबसाइट तक पहुँचा जा सकता है। लिंक खुलने के बाद खाताधारक को निर्दिष्ट कॉलम में पंजीकृत मोबाइल नंबर डालना होगा I कैप्चा दर्ज करके लॉगिन करते ही मोबाइल पर ओ.टी.पी आएगा I इसे दर्ज करने के बाद बचत योजना का चयन कर खाता संख्या दर्ज करनी होगी और पुनः मोबाइल पर प्राप्त ओ.टी.पी डालना होगा। इसके बाद  बैलेंस पूछताछ व मिनी स्टेटमेंट के विकल्प का चयन करते ही विवरण उपलब्ध हो जाएगा I मिनी स्टेटमेंट को पी.डी.एफ फॉर्मेट में डाउनलोड करने की सुविधा भी दी गयी है।   

श्री यादव ने आगे बताया कि ई-पासबुक सेवा, डिजिटल बैंकिंग को नई दिशा प्रदान करेगी। खाते के बैलेंस व जमा-निकासी की जानकारी हेतु खाताधारकों को अब डाकघर नही आना पड़ेगा और वह घर बैठे आसानी से मिनी स्टेटमेंट व बैलेंस की पूरी जानकारी प्राप्त कर सकेंगेI इस सुविधा से वाराणसी परिक्षेत्र के 29.16 लाख खाताधारक लाभान्वित होंगे जिसमें वाराणसी पूर्वी मंडल के 4.17 लाख, वाराणसी पश्चिमी मंडल के  7.84  लाख, बलिया के 6.14 लाख, गाजीपुर के 4.09 लाख व जौनपुर के 6.92 खाताधारक शामिल हैं।






डाकघर के खाताधारकों को मिलेगी ई-पासबुक की सुविधा-पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव

ई-पासबुक द्वारा घर बैठे नि:शुल्क प्राप्त करें डाकघर खातों के बैलेंस की जानकारी व मिनी स्टेटमेंट-पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव

डाकघर बचत योजनाएँ हुई और हाई-टेक : ई-पासबुक से पाएं मिनी स्टेटमेंट और बैलेंस