Thursday, April 29, 2010

डाक-तार नहीं मात्र डाक विभाग

अक्सर लोगों को कहते सुनता हूँ कि पोस्ट एंड टेलीग्राफ डिपार्टमेंट. पुराने लोगों कि तो छोडिये, नए लोग भी अभी यही जुमला दुहराते हैं. जानकारी के लिए बता दूँ कि अब पोस्ट एंड टेलीग्राफ डिपार्टमेंट पृथक हो चुके हैं. 1984 में डाक व दूरसंचार विभागों के पृथक्करण के साथ ही टेलीग्राफ सेवाएँ दूरसंचार विभाग के साथ जुड़ गईं. अब डाकघरों से टेलीग्राम नहीं होता बल्कि दूरसंचार विभाग के कार्यालयों से होता है. अब पोस्ट एंड टेलीग्राफ डिपार्टमेंट नहीं बल्कि सिर्फ पोस्ट अर्थात डाक विभाग रहा.

वर्तमान में केंद्र सरकार के अधीन संचार मंत्रालय के अधीन डाक, दूरसंचार, सूचना प्रौद्योगिकी- कुल तीन विभाग हैं. इन तीनों विभागों के अपने-अपने सचिव/ CMD होते हैं, जो कि उसी विभाग से होते हैं. मसलन डाक विभाग का सचिव कोई IAS इत्यादि नहीं बल्कि भारतीय डाक सेवा (Indian Postal Services) का वरिष्ठतम अधिकारी ही होता है. डाक भवन संसद मार्ग, नई दिल्ली में स्थित है. सिविल सर्विस डे पर प्रधानमंत्री ने डाक विभाग कि सचिव को विभाग के उत्कृष्ट कार्यों के लिए सम्मानित भी किया है. डाक विभाग की वेबसाईट पर भी तमाम जानकारियाँ ली जा सकती हैं. आशा करता हूँ कि इस पोस्ट के बाद यह भ्रम टूट जाना चाहिए कि डाक एवं तार (P&T) जैसी कोई चीज अब अस्तित्व में है. अब मात्र भारतीय डाक विभाग है और टेलीग्राम सेवाएँ दूरसंचार विभाग के साथ जुड़ चुकी हैं !!
Post a Comment