Thursday, April 1, 2010

जनगणना कार्य में पहली बार डाकिया बाबू

आज 1 अप्रैल से भारत में अब तक की सबसे विस्तृत व व्यापक जनगणना का कार्य आरंभ हो गया. दो चरणों में होने वाली इस जनगणना में पहली बार राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (NPR) भी तैयार किया जायेगा, जिसके जरिये नागरिकों की व्यापक पहचान का डाटा-बेस तैयार किया जायेगा. इस बार 3 तरह के अलग-अलग फार्म तैयार किये गए हैं, जो कुल 16 भाषाओँ में होंगें और उनकी कुल संख्या 64 करोड़ से भी ज्यादा होगी. यह सामग्री प्रेस में छपने के बाद सीधे ही 17, 500 प्रभारी अधिकारीयों के पास पहुंचेगी. आपको जानकर आश्चर्य होगा कि जनगणना 1897 लगे कर्मचारियों की संख्या दुनिया के 82 देशों कि जनसंख्या से अधिक है. जाहिर है काम ज्यादा है तो जटिल भी है, फिर डाकिया बाबू किस दिन काम आयेगा. जी हाँ, इस बार पहली बार इन फार्मों और दूसरी सामग्री के वितरण के लिए डाक विभाग की सेवाएँ ली जा रही हैं, ताकि सारी सामग्री समय से सही व्यक्ति/अधिकारी के पास पहुँच जाएँ. चलिए इसी बहाने डाकिया बाबू भी इस महत्वपूर्ण अनुष्ठान का अंग बना. अब आप लोग भी तैयार हो जाइये इस अनुष्ठान में अपनी भागीदारी हेतु ताकि यह अच्छी तरह से निपट सके !!
Post a Comment