Sunday, January 8, 2017

डाकघरों और बैंकों के एटीएम आपस में जुड़े, डाकघरों के बचतखाता धारकों में एटीएम की मांग तेजी से बढ़ी

नए साल में एक अभिनव पहल करते हुए सरकार ने डाकघर और बैंकों के एटीएम को आपस में जोड़ दिया (interoperable) है। इससे जहाँ डाकघरों के एटीएम धारक बैंकों के एटीएम से पैसे निकल सकेंगे, वहीँ बैंकों के एटीएम धारक  डाकघरों के एटीएम से पैसे निकल सकेंगें। नोटबंदी के बाद उत्पन्न हुई स्थिति में इससे आमजन को काफी सहूलियत होगी।  इस सम्बन्ध में जानकारी देते हुए राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर के निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि डाकघरों को पहले ही कोर बैंकिंग सॉल्यूशन से जोड़ा जा चुका है, जिसके तहत देश भर में स्थित किसी भी सीबीएस प्रधान डाकघर और उपडाकघर से बचत खाता धारक अपने पैसे निकल सकते हैं, ऐसे में डाकघरों और बैंक के एटीएम को आपस में जोड़ने से लोगों को काफी सुविधा प्राप्त होगी।

डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि पूरे भारत में डाकघरों के 969 एटीएम कार्यरत हैं, जिनमें राजस्थान में 64 और जोधपुर रीजन में 24 एटीएम हैं। डाक विभाग ने पूरे  देश में 9 लाख से ज्यादा एटीएम कार्ड जारी किये हैं, वहीँ राजस्थान में 36,000 और जोधपुर रीजन में 15,000 से ज्यादा एटीएम कार्ड जारी किये गए हैं। डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि डाकघर और बैंकों के एटीएम की इंटर कनेक्टिविटी के बाद डाकघरों के बचतखाता धारकों में एटीएम की मांग भी  तेजी से बढ़ गई है। डाकघरों के पुराने बचत खाता धारक भी एक आवेदन द्वारा अपना केवाईसी अपडेट कराके एटीएम प्राप्त कर सकते हैं। उपडाकघरों के खाताधारक भी एटीएम के लिए आवेदन कर सकते हैं। फ़िलहाल, डाक विभाग सिर्फ डेबिट कार्ड जारी कर रहा है। आरंभिक चरण में ये सभी  एटीएम पर इस्तेमाल किये जा सकते हैं। कालांतर में इसे  बाज़ार मे खरीदारी के लिए पोस (पॉइंट ऑफ सेल) मशीन से भी जोड़ा जायेगा।

गौरतलब है कि राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर के अधीन 24  डाकघरों में एटीएम कार्यरत हैं, जिनमें जोधपुर, जैसलमेर, बीकानेर, बाड़मेर, पाली मारवाड़, मारवाड़ जंक्शन, सिरोही, जालोर, सीकर, श्रीमाधोपुर, झुंझुनू, चिरावा, चूरू, रतनगढ़, नागौर, डीडवाना, मकराना, श्रीगंगानगर, हनुमानगढ़ स्थित प्रधानडाकघर और  आबू रोड, फतेहपुरी शेखावटी, चोहटन, पिलानी, सुमेरपुर स्थित उपडाकघर शामिल हैं।

Post a Comment